फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशमहल में जब बुजुर्ग को आया चक्कर, जमीन पर बैठ सेवा में जुट गए सिंधिया, पत्नी ने भी ठंडे पानी से पोछा सिर

महल में जब बुजुर्ग को आया चक्कर, जमीन पर बैठ सेवा में जुट गए सिंधिया, पत्नी ने भी ठंडे पानी से पोछा सिर

माधवी राजे सिंधिया को श्रद्धांजलि अर्पित करने जय विलास पैलेस पहुंचे 99 साल के बुजुर्ग को चक्कर आने पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया परिवार के सदस्य की तरह बुजुर्ग की देखभाल करते नजर आए।

महल में जब बुजुर्ग को आया चक्कर, जमीन पर बैठ सेवा में जुट गए सिंधिया, पत्नी ने भी ठंडे पानी से पोछा सिर
Subodh Mishraलाइव हिन्दुस्तान,ग्वालियरMon, 20 May 2024 10:06 AM
ऐप पर पढ़ें

माधवी राजे सिंधिया को श्रद्धांजलि अर्पित करने जय विलास पैलेस पहुंचे 99 साल के बुजुर्ग को चक्कर आने पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया बुजुर्ग की देखभाल करते नजर आए। सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शिनी पानी लेकर आईं। सिंधिया ने अपने हाथ से उन्हें पानी पिलाया और सिंधिया दंपति ने अपने रुमाल को पानी में भिगोकर बुजुर्ग की आंखों, गर्दन और चेहरे को पोछा।

ज्योतिरादित्य सिंधिया देर तक बुजुर्ग का हाथ पकड़े रहे। हालत में सुधार होने पर सिंधिया ने अपने कर्मचारियों से बुजुर्ग को घर तक छोड़ने के लिए कहा। सिंधिया दंपति की संवदेनशीलता का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। माधवी राजे सिंधिया को श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचे व्यापारी गणपत राव चेंबर ऑफ कॉमर्स के सदस्य भी रहे हैं। महल में जब उन्हें चक्कर आया तो सिंधिया और उनकी पत्नी करीब 20 मिनट कर गणपत राव की परिवार के सदस्य की तरह देखरेख करते रहे। बुजुर्ग व्यापारी ने जब अपने प्रति महाराज और महारानी का व्यवहार देखा तो वे भावुक हो गए। उन्होंने प्रियदर्शिनी राजे सिंधिया को आशीर्वाद दिया। उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया से कहा कि आपके कदम कभी नहीं रुकें और आप हर दिन के साथ तरक्की करते चले जाएं।

माधवी राजे सिंधिया को श्रद्धांजलि अर्पित करने रविवार को केंद्र सरकार में नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री व सेना के पूर्व जनलर वीके सिंह ग्वालियर पहुंचे। साथ में उनकी पत्नी भी थीं। दोनों जयविलास पैलेस में स्थित रानी महल में श्रद्धांजलि सभा में शामिल हुए। दोनों ने राजमाता माधवी राजे सिंधिया को पुष्पांजलि अर्पित की। मीडिया से बात करते हुए पूर्व जनरल वीके सिंह ने कहा कि बहुत दुखद समय है। खासकर पिछले तीन महीने अत्यंत दुख भरे थे। जब राजामाता अस्पताल में रहीं, उनका काफी इलाज भी चला, वे संघर्ष करती रहीं। जिस प्रकार से सिंधिया ने आखिरी समय में मां की सेवा की है, वो वाकई में जताता है कि वह राजमाता से कितना स्नेह करते थे।