DA Image
हिंदी न्यूज़ › मध्य प्रदेश › गरबा के नाम पर इंदौर में ऐसा क्या हुआ कि हिंदू संगठन पहुंच गए, पुलिस को करना पड़ी एफआईआर
मध्य प्रदेश

गरबा के नाम पर इंदौर में ऐसा क्या हुआ कि हिंदू संगठन पहुंच गए, पुलिस को करना पड़ी एफआईआर

भोपाल, लाइव हिंदुस्तानPublished By: Ravindra Kailasiya
Mon, 11 Oct 2021 06:52 PM
गरबा के नाम पर इंदौर में ऐसा क्या हुआ कि हिंदू संगठन पहुंच गए, पुलिस को करना पड़ी एफआईआर

नवरात्रि में गरबा का आयोजन कोरोना की वजह से प्रतिबंधित था। मगर इस साल हल्की छूट मिली तो फिर आयोजकों पर सवाल उठाए जाने लगे हैं। रतलाम में गरबा में गैर हिंदुओं को दूर रखने के लिए लगाए गए पोस्टर के बाद इंदौर में एक गरबा आयोजन में लव जिहाद के आरोपों के बीच हिंदू संगठनों ने  हंगामा मचाया। हंगामा बढ़ने पर पुलिस-प्रशासन को आयोजकों पर अनुमति से ज्यादा लोगों को एकत्रित करने का आरोपी बनाते हुए एफआईआर दर्ज करना पड़ा। 

नवरात्रि में गरबा आयोजन का हिंदू संगठन विरोध करते रहे हैं। कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए गरबा आयोजन की अनुमति दिए जाने के बाद जिन शहरों में ऐसे आयोजन हो रहे हैं, वहां हिंदू संगठन सक्रिय हैं। हाल ही में मध्य प्रदेश के रतलाम जिले के दुर्गा पांडालों में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने ‘गैर-हिंदू का प्रवेश वर्जित’ वाले पोस्टर चिपका दिए हैं। इन संगठनों ने कहा है कि जब गैर हिंदू धार्मिक मान्यताओं को नहीं मानते हैं तो फिर गरबा में उन्हें प्रवेश क्यों दिया जाए।  

आयोजकों पर सख्ती
प्रशासन ने अक्षांशु तिवारी और अन्य पांच लोगों पर धारा 188 का मामला कायम किया। यह कलेक्टर के आदेश का उल्लंघन का अपराध संबंधी धारा है। बताया जाता है कि अक्षांशु तिवारी और उनके साथियों के खिलाफ दर्ज मामले में जेल या जुर्माना या फिर दोनों ही हो सकता है। इन लोगों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।  

संबंधित खबरें