फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशबिना लाइन बिछाए निगम से लिए 47 करोड़, आरोपियों के बैंक खातों पर रोक; क्या है इंदौर का ड्रेनेज घोटाला

बिना लाइन बिछाए निगम से लिए 47 करोड़, आरोपियों के बैंक खातों पर रोक; क्या है इंदौर का ड्रेनेज घोटाला

इंदौर के ड्रेनेज घोटाले के सात आरोपियों के बैंक खातों से पुलिस ने लेन-देन पर रोक लगा दी है। पुलिस 64 करोड़ के इस घोटाले की जांच कर रही है। सात आरोपियों में पांच ठेकेदार हैं और दो निगम के कारिंदे हैं।

बिना लाइन बिछाए निगम से लिए 47 करोड़, आरोपियों के बैंक खातों पर रोक; क्या है इंदौर का ड्रेनेज घोटाला
Sneha Baluniभाषा-,इंदौरThu, 13 Jun 2024 02:31 PM
ऐप पर पढ़ें

देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर में कम से कम 64 करोड़ रुपये के ड्रेनेज घोटाले की जांच कर रही पुलिस ने सात आरोपियों के बैंक खातों से लेन-देन पर रोक लगा दी है। पुलिस के एक अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी। पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) पंकज कुमार पांडे ने बताया कि जिन सात आरोपियों के बैंक खातों से लेन-देन पर रोक लगाई गई है, उनमें पांच ठेकेदार और इंदौर नगर निगम के दो कारिंदे शामिल हैं।

पांडे ने बताया कि इन बैंक खातों में कुल 1.13 करोड़ रुपये जमा मिले हैं। उन्होंने बताया, ‘अब तक की जांच में पता चला है कि गुजरे बरसों के दौरान शहर में ड्रेनेज लाइन बिछाने के नाम पर ठेकेदारों की 10 फर्मों ने इंदौर नगर निगम में लगभग 64 करोड़ रुपये के फर्जी बिल पेश किए। इनमें से 47.53 करोड़ रुपये के बिलों का भुगतान भी कर दिया गया।’

डीसीपी के मुताबिक, पुलिस को छानबीन में मालूम हुआ कि जिन ड्रेनेज लाइन के नाम पर सरकारी खजाने से ठेकेदारों का भुगतान किया गया, वे हकीकत में कभी बिछाई ही नहीं गई थीं। उन्होंने बताया कि ड्रेनेज घोटाले में अब तक आठ ठेकेदारों और इंदौर नगर निगम के आठ कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया है। पांडे ने बताया कि पुलिस इस मामले की विस्तृत जांच कर रही है।

इससे पहले 20 मई को पुलिस ने बताया था कि आरोपियों के बैंक खातों में जमा कुल 70 लाख रुपये के लेन-देन पर रोक लगा दी गई है और कुर्की की कार्रवाई के लिए उनकी संपत्तियों का ब्योरा जुटाया जा रहा है। डीसीपी ने बताया था कि पुलिस का 12 सदस्यीय दल आरोपियों के अन्य बैंक खातों और लॉकर के बारे में भी जांच कर रहा है। पुलिस के एक अन्य अधिकारी ने बताया था कि फर्जी बिल घोटाले में छह ठेकेदारों और एक कार्यपालन इंजीनियर समेत पांच सरकारी कारिंदों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया था कि इस मामले में पांच फरार ठेकेदारों की तलाश की जा रही है।

Advertisement