फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशऐक्शन में इंदौर प्रशासन, 240 कॉलोनी बनाने वालों को भेज दिया नोटिस; बताई वजह

ऐक्शन में इंदौर प्रशासन, 240 कॉलोनी बनाने वालों को भेज दिया नोटिस; बताई वजह

मामला मध्य प्रदेश के इंदौर का है। यहां जिला प्रशासन ने 240 कॉलोनी बनाने वालों को नोटिस भेजा है। नोटिस में कॉलोनियों में दी जाने वाली बुनियादी सुविधाओं में हो रही देरी पर जवाब मांगा गया है।

ऐक्शन में इंदौर प्रशासन, 240 कॉलोनी बनाने वालों को भेज दिया नोटिस; बताई वजह
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,इंदौरThu, 13 Jun 2024 03:48 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश के इंदौर जिला प्रशासन ने 240 कॉलोनाइजर को नोटिस भेजा है। नोटिस में प्रशासन ने कॉलोनाइजर से बनाई गई कॉलोनी में बुनियादी सुविधाओं की स्थिति की रिपोर्ट मांगी है। प्रशासन का कहना है कि कॉलोनाइजर तय समय-सीमा के अंदर प्रॉपर्टी खरीदने वालों को मिलने वाली सुविधाओं का ब्योरा उनके सामने स्पष्ट किया जाए। इस दौरान नोटिस में यह भी कहा गया है कि यदि तय समय सीमा के अंदर जरूरी सुविधाएं कॉलोनी में नहीं दी गई हैं तो इसका कारण भी बताया जाए। आइये जानते हैं पूरा मामला क्या है।

इंदौरा जिला प्रशासन ने शहर के 240 कॉलोनाइजर को भेजे गए नोटिस में कॉलोनी में सुविधाएं देने में हो रही देरी पर जवाब मांगा है। प्रशासन का कहना है कि इन सभी कॉलोनाइजर द्वारा किए गए वादों की स्थिति साफ नहीं हो पाई है। इसलिए उन्हें नोटिस भेजा गया है। प्रशासन ने कॉलोनी में मिलने वाली सुविधाओं में हो रही देरी के लिए जवाब मांगते हुए उसका कारण भी पूछा है। प्रशासन का कहना है कि कॉलोनाइजर द्वारा दिए गए कारण यदि ठीक होगा तो उसको रियायत देने पर विचार किया जा सकता है। प्रशासन का कहना है कि कॉलोनाइजर द्वारा किए गए वादों को पूरा ना करने की वजह से प्रॉपर्टी खरीदने वालों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

लॉकडाउन को बताया जिम्मेदार
शहर की 240 कॉलोनाइजर को भेजे गए नोटिस के बाद कुछ कॉलोनाइजर ने बुनियादी सुविधाओं में हो रही देरी को लेकर जवाब दिया है। कॉलोनाइजर का मानना है कि बीते सालों में कोविड के कारण लगे लॉकडाउन की वजह से भी कॉलोनी में मिलने वाली बुनियादी सुविधाओं को बनाने में देरी हो रही है। हालांकि, प्रशासन ने इस बात की भी चर्चा की है कि यदि कॉलोनाइजर द्वारा दिया गया कारण उचित होगा तो उनको रियायत दी जाएगी। इस मामले पर प्रशासन की सख्ती के बाद कॉलोनाइजर को जवाब देने के लिए कहा गया है।