फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशभोजशाला सर्वे पर हिंदू नेता का दावा, सनातन धर्म की मूर्तियां मिलीं; क्या बोला मुस्लिम पक्ष?

भोजशाला सर्वे पर हिंदू नेता का दावा, सनातन धर्म की मूर्तियां मिलीं; क्या बोला मुस्लिम पक्ष?

Bhojshala Survey in Dhar: एक हिंदू नेता का दावा है कि भोजशाला परिसर में सर्वेक्षण के दौरान मूर्तियां मिली हैं। जानें मुस्लिम पक्ष ने इस दावे पर क्या बयान दिया है। पढ़ें यह रिपोर्ट....

भोजशाला सर्वे पर हिंदू नेता का दावा, सनातन धर्म की मूर्तियां मिलीं; क्या बोला मुस्लिम पक्ष?
madhya pradesh dhar bhojshala kamal maula masjid complex hindus offered prayers
Krishna Singhपीटीआई,भोजशालाSun, 23 Jun 2024 12:31 AM
ऐप पर पढ़ें

एक हिंदू नेता ने शनिवार को दावा किया कि मध्य प्रदेश के धार जिले के भोजशाला परिसर में वैज्ञानिक सर्वेक्षण के दौरान सनातन धर्म से संबंधित मूर्तियां मिली हैं। वहीं मुस्लिम पक्ष का कहना है कि ये मूर्तियां एक झोपड़ी से बरामद की गई थीं। इन मूर्तियों को सर्वेक्षण का हिस्सा नहीं बनाया जाना चाहिए। 

हाईकोर्ट ने 11 मार्च को एएसआई को दिया था निर्देश
बता दें कि मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने 11 मार्च को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को भोजशाला परिसर का 'वैज्ञानिक सर्वेक्षण' करने का निर्देश दिया था। मध्यकालीन स्मारक भोजशाला के बारे में हिंदुओं का मानना ​​है कि यह वाग्देवी (सरस्वती) का मंदिर है, वहीं मुस्लिम समुदाय इसको कमाल मौला मस्जिद बताता रहा है। 

सर्वेक्षण का 93वां दिन
पीटीआई-भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, शनिवार को सर्वेक्षण का 93वां दिन था। भोजशाला मुक्ति यज्ञ के संयोजक गोपाल शर्मा ने कहा- सर्वेक्षण के दौरान उसी स्थान पर पत्थर से बनी वासुकी नाग की मूर्ति मिली है, जहां तीन दिन पहले श्रीकृष्ण की मूर्ति मिली थी। परिसर के उत्तर-पूर्वी हिस्से में उसी स्थान पर महादेव की मूर्ति और कलश समेत सनातन धर्म से जुड़े कुल नौ अवशेष मिले हैं। 

क्या बोला मुस्लिम पक्ष?
गोपाल शर्मा ने कहा कि एएसआई ने संरक्षित कर लिया है। वहीं दूसरी ओर कमाल मौला वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष अब्दुल समद ने कहा कि मूर्तियां और पत्थर की वस्तुएं उत्तरी तरफ बनी झोपड़ीनुमा संरचना से निकल रही हैं। इस जगह पर पुरानी इमारत के हिस्से रखे हुए थे। इसको हटाने का काम किया जा रहा है।

इन मशीनों का इस्तेमाल
उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व की रिपोर्ट के मुताबिक, एएसआई सर्वेक्षण में ग्राउंड-पेनेट्रेटिंग रडार (जीपीआर) और जीपीएस मशीनों का इस्तेमाल कर रहा है। महाराजा भोज सेवा समिति के सचिव गोपाल शर्मा का दावा किया कि मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने अपने आदेश में वैज्ञानिक सर्वेक्षण के दौरान मशीनों का इस्तेमाल किए जाने के बारे में बात की थी।