फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेश'सवारी निकालकर दिखाओ' चुनौती के बाद सिक्योरिटी टाइट, पैरामिलिट्री तैनाती और ड्रोन निगरानी के बीच निकलेंगे महाकाल

'सवारी निकालकर दिखाओ' चुनौती के बाद सिक्योरिटी टाइट, पैरामिलिट्री तैनाती और ड्रोन निगरानी के बीच निकलेंगे महाकाल

मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल सवारी निकालने पर चुनौती के बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सावन के चौथे सोमवार आज महाकाल की सवारी पैरामिलिट्री सुरक्षा के बीच ड्रोन निगरानी में निकाली जाएगी।

'सवारी निकालकर दिखाओ' चुनौती के बाद सिक्योरिटी टाइट, पैरामिलिट्री तैनाती और ड्रोन निगरानी के बीच निकलेंगे महाकाल
Abhishek Mishraलाइव हिन्दुस्तान,उज्जैनMon, 31 Jul 2023 01:18 PM
ऐप पर पढ़ें

उज्जैन में दो दिन पहले महाकाल की सवारी निकालने के चुनौती और विवादित बयान के बाद सिक्योरिटी टाइट कर दी गई है। सावन के चौथे सोमवार यानी आज उज्जैन में बाबा महाकाल की चौथी सवारी निकलनी है। इसके पहले पुलिस प्रशासन ने इसके लिए चाक चौबंद व्यवस्था की है। पुलिस प्रशासन ने सीसीटीवी कैमरे को अपनी आंख बनाया है और ड्रोन कैमरे से निगरानी की जाएगी। रविवार देर शाम  मंदिर प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने मंदिर पुजारी, जनप्रतिनिधि सहित बैठक कर निर्णय लिया कि सवारी में डीजे प्रतिबंधित रहेगा। अनुमति पत्र प्राप्त भजन मंडलियों को ही प्रवेश दिया जाएगा। वहीं देर रात संवेदनशील इलाकों में पुलिस ने फ्लैग मार्च निकाला। 

पुलिस के अनुसार, महाकाल सवारी में पैरामिलिट्री फोर्स एसटीएफ के साथ 1000 पुलिस जवान सुरक्षा व्यवस्था में रहेंगे। वहीं, ड्रोन से और सीसीटीवी कैमरे से सवारी पर नजर रखी जाएगी। इस बैठक में मंत्री मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया, कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम, पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आकाश भूरिया और महाकाल मंदिर प्रशासक संदीप सोनी सहित कई अधिकारी मौजूद रहे।

उज्जैन में 2 दिन पहले एक समुदाय के युवक और युवती से मारपीट छेड़खानी मामले में पुलिस ने मामला दर्ज किया था। जिसके बाद विशेष समुदाय के लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम का घेराव किया था। इस दौरान एक युवक ने प्रदर्शन के दौरान कह दिया था कि दम है तो सवारी निकाल कर दिखाओ। इसके बाद उज्जैन शहर में जैसे हंगामा हो गया और हिंदू संगठनों ने शनिवार देर शाम माधव नगर थाना पर घेराव कर प्रदर्शन किया। इस दौरान जमकर नारेबाजी भी की गई। हालांकि पुलिस ने युवक के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे हिरासत में ले लिया उसके बाद युवक ने सोशल मीडिया के द्वारा माफी भी मांगी। कार्यवाही के बाद युवक को जेल भेज दिया गया।

उज्जैन कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने पुलिस प्रशासन और महाकाल मंदिर समिति के साथ जनप्रतिनिधियों की एक बैठक महाकाल कंट्रोल रूम पर रखी। इस बैठक में महाकाल सवारी निकालने के दौरान सुरक्षा व्यवस्था पर ज्यादा जोर दिया गया। बैठक में निर्णय लिया गया कि महाकाल सवारी में डीजे प्रतिबंध रहेगा भजन मंडलियों को अनुमति पत्र दिखाकर ही प्रवेश दिया जाएगा। सभी भजन मंडली की संख्या निर्धारित होगी सवारी में झांकी सो भारत और डीजे पर प्रतिबंध रहेगा।

उज्जैन पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा ने बताया कि सवारी मार्ग पर पैरामिलिट्री और एसटीएफ की तीन टीमें तैनात रहेंगी। महाकाल सवारी के दौरान वॉलिंटियर को भी बढ़ाया गया है। वहीं, शहर में साइबर टीम भी नजर रख रही है। इस बार पुलिस प्रशासन की टीम सवारी मार्केट के अलावा बेगमबा।  हरी फाटक लोहे का पुल, उप केसर चौराहा तोपखाना केले गेट पर भी तैनात किया जाएगा। इसके अलावा सवारी मार्ग की गलियों में सिविल पार्टी के रूप में पुलिस नजर रखेगी। सभी थाने के प्रभारी को निर्देश दिए गए हैं कि अपना सूचना तंत्र मजबूत रखें और हर पल की जानकारी से अधिकारियों को अवगत कराते रहें। इसके लिए रविवार रात को पुलिस ने फ्लैग मार्च निकाला है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आकाश भूरिया ने बताया कि और उज्जैन में शांति व्यवस्था बनी रहे इसके लिए आईटी सेल सोशल मीडिया गतिविधियों पर नजर रख रही है। किसी भी प्रकार की सांप्रदायिक या भड़काऊ पोस्ट फोटो वीडियो डालने पर पुलिस उसे गिरफ्तार कर सख्त कार्रवाई के साथ जेल भेजेगी। व्हाट्सएप ग्रुप पर पुलिस नजर रखेगी और एडमिन से पुलिस प्रशासन के लोगों को जोड़ने की बात भी की गई है। इस बार सवारी के बाहरी क्षेत्रों पर भी सुरक्षा की व्यवस्था की गई हैं ताकि यातायात व्यवस्था सुचारु रूप  से चलती रहे वह संदिग्धों की धरपकड़ भी हो सके।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें