फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशहरदा में दूसरे धमाके का डर, थोड़ी दूर दूसरी फैक्ट्री में खुले में बारूद, चक्काजाम

हरदा में दूसरे धमाके का डर, थोड़ी दूर दूसरी फैक्ट्री में खुले में बारूद, चक्काजाम

हरदा में पटाखा फैक्ट्री में हुए धमाके में अपनों को खोले वाले लोग गुस्से में है। लोगों ने बताया घटनास्थल से तीन किलोमीटर दूर रेहटा में भी सोमेश अग्रवाल की एक फैक्ट्री है जिसमें खुले में बारूद पड़ा है। 

हरदा में दूसरे धमाके का डर, थोड़ी दूर दूसरी फैक्ट्री में खुले में बारूद, चक्काजाम
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,हरदाWed, 07 Feb 2024 07:53 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश के हरदा में पटाखा फैक्ट्री में हुए धमाके के करीब 26 घंटे बाद रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा कर लिया गया है। हादसे में 11 लोगों की मौत हुई है जबकि 217 लोग घायल हुए हैं। इनमें फैक्ट्री के 51 मजदूर शामिल हैं। सीएम मोहन यादव बुधवार को हरदा पहुंचे और घायलों का हाल जाना। उन्होंने कहा कि इस मामले में ऐसी कार्रवाई करेंगे कि लोग याद रखेंगे। वहीं हादसे में अपनों को खोने को लेकर लोग गुस्से में है। लोगों का कहना है कि फैक्ट्री मालिकों के पास कई लाइसेंस हैं जिनके आधार पर कई स्थानों पर फैक्ट्रियां संचालित हो रही हैं। लोगों ने बताया घटनास्थल से तीन किलोमीटर दूर रेहटा में भी सोमेश अग्रवाल की एक फैक्ट्री है जिसमें खुले में बारूद पड़ा हुआ है। 

लोगों ने किया चक्काजाम
लोगों ने इस फैक्ट्री को बंद कराने की मांग को लेकर बुधवार को चक्का जाम कर दिया। शाम 5 बजे के करीब मुख्यमंत्री घायलों का हाल जानने पहुंचे तो ग्रामीण ने सीएम से मिलने की बात कही। हालांकि सुरक्षा कारणों से अधिकारियों ने लोगों को रोक दिया। इससे आक्रोशित लोग सड़क पर बैठ गए और चक्काजाम कर दिया। हलाकि अधिकारियों के समझने के बाद ग्रामीण सड़क से उठ गए।

लोगों को दूसरे धमाके का डर
लोगों का आरोप है कि इस फैक्ट्री का लाइसेंस भी सोमेश अग्रवाल के नाम पर है। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। हरदा में मंगलवार को हुए ब्लास्ट के बाद ग्रामीणों में डर और भय का माहौल बना हुआ है। लोगों का कहना है कि दूसरी फैक्ट्री में जिस लापरवाही के साथ बारूद का ढेर लगा है उससे दूसरे धमाके का खतरा बना हुआ है। प्रशासन को इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि दोबारा ऐसे भयानक धमाके की घटना ना होने पाए। 

ऑपरेशन का दूसरा चरण भी चलेगा
घटनास्थल को भी अभी तक पूरी तरह विस्फोटक शून्य नहीं किया जा सका है। नर्मदापुरम आयुक्त पवन शर्मा ने बताया कि बचाव अभियान पूरा कर लिया गया है। मलबा हटा दिया गया है। तापमान बहुत अधिक होने के कारण पोकलेन मशीनों और पानी की बौछारों के जरिए मलबा हटाया गया। चूंकि मलबे में विस्फोटक हैं, इसलिए इलाके में पानी की बौछारें की जा रही हैं। बचाव अभियान के दूसरे चरण में मलबे में दबे विस्फोटकों की खोजबीन का काम चलेगा। मलबे को दोबारा पलटा जाएगा और सुनिश्चित किया जाएगा कि मलबे में कहीं विस्फोटक तो नहीं दबा है। पानी की बौछार लगातार की जा रही है।  

जेल भेजे गए आरोपी 
देर रात फैक्ट्री मालिक राजेश अग्रवाल, सोमेश अग्रवाल और रफीक खान को रात करीब 9 बजे राजगढ़ जिले के सारंगपुर से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इनके खिलाफ हरदा सिविल लाइन थाने में केस दर्ज किया गया है। बुधवार आरोपी राजेश अग्रवाल, सोमेश अग्रवाल और रफीक खान उर्फ मन्नी पटेल को सीजीएम कोर्ट ने जेल भेज दिया है। आरोपी राजेश अग्रवाल ने घटना के बाद तीसरे आरोपी रफीक खान से कई बार मोबाइल पर बात की थी। पुलिस ने राजेश की मोबाइल डिटेल में मिले कॉल के आधार पर रफीक को आरोपी बनाया है। आरोपी राजेश अग्रवाल ने जिन अन्य लोगों से बात की थी, उनसे भी पुलिस पूछताछ कर रही है।

रिपोर्ट- विजेन्द्र यादव

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें