फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशहरदा फैक्ट्री धमाके के बाद अब दो नई मुसीबत, 5 दिन बाद सड़क पर क्यों उतरे इलाके के लोग

हरदा फैक्ट्री धमाके के बाद अब दो नई मुसीबत, 5 दिन बाद सड़क पर क्यों उतरे इलाके के लोग

हरदा फैक्ट्री धमाके के बाद पूरे इलाके में कारखाने का मलबा बिखर गया है। इसके अलावा उन मलबों से बदबू भी आ रही है। स्थानीय लोग मलबे और उसकी बदबू से बहुत परेशान हैं।

हरदा फैक्ट्री धमाके के बाद अब दो नई मुसीबत, 5 दिन बाद सड़क पर क्यों उतरे इलाके के लोग
Devesh Mishraभाषा,हरदाSat, 10 Feb 2024 07:22 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश के हरदा में मंगलवार को एक पटाखा फैक्ट्री में जोरदार धमाका हुआ। देखते ही देखते पूरी फैक्ट्री में आग लग गई। विस्फोट की आवाज कई किलोमीटर दूर तक सुनी जा सकी थी। इस हादसे में अबतक 13 लोगों की मौत हो गई है। वहीं सैकड़ों लोग घायल हैं। ऐसे में इस धमाके के बाद इलाके के लोगों के बीच दो नई मुसीबत आ गई है। दरअसल, पूरे इलाके में फैक्ट्री का मलबा बिखर गया है। इसके अलावा उन मलबों से बदबू भी आ रही है। स्थानीय लोग मलबे और उसकी बदबू से बहुत परेशान हैं। इस हादसे के पांच दिन बाद लोग सड़क पर उतर गए। इसे लेकर लोगों ने शनिवार को प्रदर्शन किया।

मलबे से बढ़ी मुसीबत
विस्फोट के बाद फैक्ट्री में आग लग गई और फिर लगातार धमाके होने लगे थे। इस घटना के कई वीडियो भी सामने आए हैं, जिसमें देखा जा सकता है कि फैक्ट्री का मलबा दूर तक उड़ रहा है। वीडियो शूट कर रहा एक शख्स हवा में भी उड़ता हुआ दिखा। हरदा में पटाखा कारखाने के आसपास रहने वाले लगभग 100 लोगों ने शनिवार को एक घंटे तक मुख्य मार्ग को अवरुद्ध रखा और आग से नष्ट हुई फैक्ट्री का मलबा तुरंत हटाने की मांग की।

बदबू की भी शिकायत
हरदा में स्थित पटाखा कारखाने में विस्फोट और आग से फैक्ट्री पूरी तरह से नष्ट हो गई, जिसके मलबे की वजह से वहां आस-पास रहने वाले लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों ने रसायन युक्त मलबे के कारण क्षेत्र में अत्यधिक दुर्गंध की शिकायत भी की।

स्थानीय लोगों ने फैक्टरी के मालिक और आरोपी राजेश अग्रवाल की हरदा शहर के बाहरी इलाके में सील की गई दो और पटाखा फैक्ट्रियों को स्थायी रूप से बंद करने की भी मांग की। इसके अलावा लोगों ने शहर के मध्य में स्थित आरोपी के घर को कुर्क करने और उसके भूतल पर चलाई जा रही पटाखे की दुकान को तोड़ने की भी मांग की। एक प्रदर्शनकारी ने 'पीटीआई' को बताया, 'प्रदर्शनकारियों ने अनुविभागीय दंडाधिकारी (एसडीएम) केसी पार्थे से तीन दिन में मांगे पूरी करने का आश्वासन मिलने के बाद विरोध-प्रदर्शन समाप्त कर दिया।'     

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें