फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशना सीढ़ी थी और ना दीवार तोड़ने के लिए औजार, घर में आग से 3 लोगों की मौत; फायर ब्रिगेड पर संगीन इल्जाम

ना सीढ़ी थी और ना दीवार तोड़ने के लिए औजार, घर में आग से 3 लोगों की मौत; फायर ब्रिगेड पर संगीन इल्जाम

आरोप है कि फायर ब्रिगेड डेढ़ घण्टे की देरी से घटना स्थल पर पहुंची। लोगों का यह भी आरोप है कि उनके पास पर्याप्त राहत सामग्री नहीं थी। उनके पास न तो लंबी सीढ़ी थी और न ही दीवार तोड़ने के लिए औजार।

ना सीढ़ी थी और ना दीवार तोड़ने के लिए औजार, घर में आग से 3 लोगों की मौत; फायर ब्रिगेड पर संगीन इल्जाम
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,ग्वालियरThu, 20 Jun 2024 09:44 AM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में देर रात एक घर मे लगी भीषण आग में एक ही परिवार के तीन लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। मृतकों में एक व्यापारी और उनकी दो बेटियां शामिल हैं। आग लगने की घटना देर रात लगभग दो बजे के आसपास की है। सूचना मिलने के बाद पुलिस और फायर बिग्रेड की गाड़ियां मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया गया। वही मृतकों के शवो को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

बताया गया कि बहोड़ापुर इलाके में संत कृपाल सिंह के आश्रम के सामने वाली गली में रहने वाले विजय गुप्ता का ड्राई फ्रूट का कारोबार है। उनके घर में नीचे मेवे का गोदाम है जबकि उसी की ऊपरी मंजिल पर वे सपरिवार निवास करते थे। रात डेढ़ से दो बजे के बीच उनके घर मे अचानक भीषण आग भड़की। देर रात का समय होने के कारण सब सोए हुए थे और चारों तरफ सन्नाटा था। खुद गुप्ता परिवार भी गहरी नींद में था। जब तक लोगों की नींद टूटी तब तक आग की लपटों ने पूरे घर को अपनी चपेट में ले लिया था।

आसपास के लोगों ने अपने स्तर पर आग बुझाने का प्रयास भी किया लेकिन ड्राई फ्रूट ज्वलनशील होने से आग बहुत तेजी से फैलती गई। सूचना मिलने पर फायर ब्रिगेड की टीम भी मौके पर पहुंची और कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। लेकिन तब तक घर मे मौजूद विजय गुप्ता 42 वर्ष, उनकी बेटियां अंशिका 17 वर्ष  और याशिका 17 वर्ष की घर में ही जल जाने से दर्दनाक मौत हो गई। 

आसपास मौजूद लोगों ने बताया कि विजय गुप्ता इस घर मे अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ रहते थे। उनकी पत्नी सुमन अपने बेटे अंश के साथ बुधवार की शाम को ही अपने मायके गई थीं।  इससे उन दोनों की जान बच गई।आग लगने की बजह शॉर्ट सर्किट माना जा रहा है। फायर ब्रिगेड विभाग के अधिकारी अतिवाल यादव का कहना है कि लगभग 4 बजे उन्हें सूचना मिली थी। जिसके बाद तत्काल फायर बिग्रेड की गाड़ियां मौके के लिए रवाना की गईं और उसके बाद आग पर काबू पाया गया।

फायर ब्रिगेड पर कई आरोप

वही स्थानीय लोगों का कहना है कि फायर ब्रिगेड की लापरवाही से तीन जाने गईं हैं। जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए। घटना के बाद फायर ब्रिगेड की लापरवाही और उदासीनता से तीन लोगों की जान चली गई। सूचना के बाद भी फायर ब्रिगेड डेढ़ घण्टे की देरी से घटना स्थल पर पहुंची। लोगों का यह भी आरोप है कि उनके पास पर्याप्त राहत सामग्री नहीं थी। उनके पास न तो लंबी सीढ़ी थी और न ही दीवार तोड़ने के लिए औजार। दो मंजिल और तीसरी मंजिल तक फायर ब्रिगेड की टीम नहीं पहुंच पाई। लगभग 4:30 बजे पीछे के मकान की दीवार तोड़ कर तीनों को 5 बजे बाहर निकाला गया। 

रिपोर्ट : अमित गौर

Advertisement