फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेश'ड्रीमगर्ल' बन फंसाया, फिर शादी का दबाव बनाया; मना करने पर पैसे ऐंठे, पूरी फिल्मी है यह कहानी

'ड्रीमगर्ल' बन फंसाया, फिर शादी का दबाव बनाया; मना करने पर पैसे ऐंठे, पूरी फिल्मी है यह कहानी

मध्य प्रदेश के भोपाल में पुलिस ने एक 22 साल के लड़के को गिरफ्तार किया है। आरोपी लड़की बनकर सोशल मीडिया पर लोगों से बात करता। फिर उन्हें अफने जाल में फंसाकर पैसे ऐंठा करता था।

'ड्रीमगर्ल' बन फंसाया, फिर शादी का दबाव बनाया; मना करने पर पैसे ऐंठे, पूरी फिल्मी है यह कहानी
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,भोपालSat, 08 Jun 2024 02:17 PM
ऐप पर पढ़ें

ज्यादातर लोगों ने आयुष्मान खुराना की फिल्म ड्रीम गर्ल जरूर देखी होगी। फिल्म में आयुष्मान एक लड़की पूजा बनकर कई लड़कों से बात करते हैं। ठीक ऐसा ही रियल लाइफ में 22 साल का लड़का करता था। वह अपने शिकार को बातों में फंसाकर उनसे पैसे ऐंठा करता था। भोपाल पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। उसके शिकार बने एक व्यक्ति की शिकायत के आधार पर वह पकड़ा गया है।

22 साल का आशू मेहरा उर्फ अजय उर्फ छोटू मेहरा को पुलिस ने ऑनलाइन महिला होने का नाटक करके कई लोगों को ठगने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। वह कथित तौर पर लड़की की आवाज निकालकर अपने शिकार को फंसाता और उनसे पैसे ऐंठा करता था। पुलिस ने अजय को तब पकड़ा जब उसका शिकार बने पीड़ित अमन नामदेव ने मंगलवार 4 जून को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। नामदेव ने पुलिस को बताया कि उसकी इंस्टाग्राम पर शिवानी रघुवंशी नाम की एक महिला से दोस्ती हुई थी।

अमन ने बताया कि वह कभी व्यक्तिगत रूप से शिवानी से नहीं मिला था। इसके बावजूद वह उसपर शादी करने का दबाव बना रही थी। शिकायत के अनुसार, जब उसने इनकार कर दिया, तो उसने आत्महत्या करने की धमकी दी। कुछ समय बाद आशु मेहरा नामक एक व्यक्ति, जिसने शिवानी का 'गुरु भाई' होने का दावा किया, उसने नामदेव को बताया कि शिवानी ने आत्महत्या करने का कोशिश की है और उसे इलाज के लिए पैसे की जरूरत है। नामदेव ने पुलिस को बताया कि डर की वजह से उसने आशु को 70,000 ट्रांसफर कर दिए।

शिकायत की जांच करने पर पुलिस को पता चला कि इस पूरे स्कैम के पीछे आशु मेहरा का हाथ है। उसने कथित तौर पर कबूल किया कि वह 'ड्रीम गर्ल' फिल्म से प्रेरित था, जिसमें हीरो ने महिला की आवाज में बात करके नौकरी हासिल की थी। आशु ने कथित तौर पर फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफॉर्म पर महिलाओं के नाम से कई फर्जी सोशल मीडिया प्रोफाइल बनाए हुए हैं। इन प्रोफाइल का इस्तेमाल करके, वह लड़कों से बातचीत शुरू करता था। अंततः उन पर दबाव डालता और आत्महत्या के प्रयास जैसी इमरजेंसी का बहाना बनाकर पैसे ऐंठता था।

आशु ने कथित तौर पर दर्जनों लोगों को अपना शिकार बनाया और उनसे मोटी रकम ऐंठी, जिसका इस्तेमाल वह खुद करता था। पुलिस आशु के स्कैम की जांच कर रही है और संभावित पीड़ितों की पहचान में जुटी है, जिनके साथ धोखाधड़ी की गई है। इस केस ने एक बार  सोशल मीडिया के खतरों को दिखाया है। जिसमें वित्तीय लाभ के लिए आसानी से यूजर्स का शोषण किया जा सकता है। पुलिस ने चेतावनी दी है कि लोगों को सावधानी बरतनी चाहिए और वित्तीय लेनदेन करने से पहले उस शख्स की प्रामाणिकता की पुष्टि कर लेनी चाहिए।