फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशक्या चमत्कार होते हैं? धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के गुरु रामभद्राचार्य ने दिया जवाब, स्वामी प्रसाद मौर्य पर भी बोले

क्या चमत्कार होते हैं? धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के गुरु रामभद्राचार्य ने दिया जवाब, स्वामी प्रसाद मौर्य पर भी बोले

क्या चमत्कार होते हैं। इस पर धीरेंद्र शास्त्री के गुरु जगतगुरु रामभद्राचार्य ने विस्तार से अपनी बात रखी। इसके साथ ही उन्होंने स्वामी प्रसाद मौर्य के रामचरितमानस पर दिए बयान पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी।

क्या चमत्कार होते हैं? धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के गुरु रामभद्राचार्य ने दिया जवाब, स्वामी प्रसाद मौर्य पर भी बोले
Krishna Singhलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीTue, 24 Jan 2023 10:22 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश के बागेश्वर धाम सरकार धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के तथाकथित चमत्कारों को लेकर बयानों का सिलसिला जारी है। विज्ञान, आस्था, अंधविश्वास या चमत्कार जैसी बातों को लेकर तरह तरह के दावे किए जा रहे हैं। आलम यह है कि धीरेंद्र के विरोधी ताल ठोंक रहे हैं तो दूसरी ओर समर्थक भी मैदान में उतर गए हैं। राजनीति के धुरंधरों ने भी मुख्तलिफ सुरों में राग अलापना शुरू कर दिया है। कुछ राजनेता धीरेंद्र को सलाह देते नजर आ रहे हैं तो कुछ उन्हें चुनौती देने में जुट गए हैं। मौजूदा वक्त में चमत्कारों का मसला सियासी आकार लेता नजर आ रहा है। संत समाज से भी अलग अलग आवाजें सामने आ रही हैं। इस बीच धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के गुरु रामभद्राचार्य ने तमाम विवादों पर विस्तार से अपनी बात रखी। 

एक टीवी चैनल को दिए बयान में रामभद्राचार्य ने कहा कि उनके शिष्य धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री सनातन धर्म को बढ़ाने की दिशा में अच्छा काम कर रहे हैं। इस सवाल पर कि क्या क्या चमत्कार होते हैं? विज्ञान के युग में चमत्कार संभव है क्या? रामभद्राचार्य जी ने कहा कि ईश्वर की कृपा से सब कुछ संभव है। मेरे लिए तो शास्त्र ही चमत्कार हैं। ऋग्वेद से लेकर तमाम शास्त्र मुझे याद हैं। जहां से पूछना है पूछो... यह गुरुजनों का आशीर्वाद है। हर व्यक्ति का रास्ता अलग अलग होता है। धीरेंद्र का वह रास्ता है और मेरा यह रास्ता है। यह ट्रिक है या चमत्कार... जो भी है अच्छा है। यह पूछे जाने पर कि लोग इसे अंधविश्वास से भी जोड़ रहे हैं। रामभद्राचार्य जी ने कहा- यह अंधविश्वास नहीं, यह सत्य है। धीरेंद्र अच्छा कर रहा है। 

इस बात का जिक्र करने पर कि अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति के श्याम मानव ने धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के खिलाफ एफआइआर दर्ज किए जाने की बात कही है। रामभद्राचार्य जी ने कहा- इस पर तो मैं यही कहूंगा कि हाथी चले बजार, कुत्ते भूंके हजार... इस सवाल पर कि कांग्रेस के नेता भी धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की आलोचना कर रहे हैं, इस पर आपकी क्या राय है। रामभद्राचार्य जी ने कहा कि कांग्रेस तो लगातार आलोचना ही करती आ रही है। कांग्रेस ने तो यह भी कहा था कि रामचंद्र जी अयोध्या में पैदा ही नहीं हुए थे, इसलिए कांग्रेस की बातों में कोई दम नहीं है। मैं तो राम कथा को राष्ट्र कथा से अलग नहीं मानता हूं। राम को राष्ट्र से अलग नहीं माना जा सकता है। जो लोग राम को राष्ट्र से अलग मान रहे हैं, उनको मेरे यहां नहीं आना चाहिए।

रामभद्राचार्य जी ने कहा- हमें अच्छे कार्यों का समर्थन करना चाहिए। मैं तो राजीव गांधी को बहुत प्रेम करता था। इस सवाल पर कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने दो मुस्लिम महिलाओं को हिंदू धर्म ग्रहण कराया है। इस पर छत्तीसगढ़ के सीएम ने सवाल उठाया है कि इन महिलाओं को किस श्रेणी में रखा जाएगा। इस पर रामभद्राचार्य ने कहा कि धीरेंद्र ने मेरी आज्ञा से ऐसा काम किया है। इन महिलाओं को सामान्य श्रेणी में रखा जाएगा। इस सवाल पर कि धीरेंद्र भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की बात कह रहे हैं, आपका क्या कहना है। रामभद्राचार्य ने कहा कि इस पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा। सर्जिकल स्ट्राइक पर दिग्विजय सिंह के बयान पर आपकी क्या राय है। रामभद्राचार्य ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के पूरे सबूत हैं। दिग्विजय को पहले अपने परिवार को संभालना चाहिए।

सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य रामचरितमानस पर सवाल उठा रहे हैं, इस पर आपकी क्या राय है। मूर्खों की बात पर क्या कहा जा सकता है। वह मूर्ख हैं, जो पागल हो जाता है, उसकी बात पर विश्वास नहीं करना चाहिए। रामचरित मानस का प्रत्येक अक्षर प्रामाणिक है। देश में जिसे भी रामचरितमानस पर चर्चा करनी हो, मैं एक एक अक्षर पर चर्चा करने के लिए तैयार हूं। क्या धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को कोई सलाह देना चाहते हैं। इस पर जगतगुरु रामभद्राचार्य जी ने कहा कि मैं उन्हें कोई सलाह नहीं देना चाहता हूं। वह बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। धीरेंद्र सनातन धर्म को आगे बढ़ाने के लिए अच्छा काम कर रहे हैं। धीरे-धीरे तमाम विवाद शांत हो जाएंगे। उस बालक ने मुझसे ही दीक्षा ली है। अच्छा कर रहा है।