फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशबागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का भाई गिरफ्तार; अदालत ने दी जमानत, क्या दी गईं दलीलें?

बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का भाई गिरफ्तार; अदालत ने दी जमानत, क्या दी गईं दलीलें?

आखिरकार पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री (Dhirendra Krishna Shastri) के छोटे भाई शालिग्राम गर्ग को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने गर्ग को अदालत में पेश किया जहां से उसे जमानत मिल गई।

बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का भाई गिरफ्तार; अदालत ने दी जमानत, क्या दी गईं दलीलें?
Krishna Singhहिंदुस्तान,छतरपुरThu, 02 Mar 2023 06:00 PM
ऐप पर पढ़ें

पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के भाई शालिग्राम गर्ग को छतरपुर पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। छतरपुर पुलिस ने गर्ग को जिला न्यायालय में पेश किया जहां से अदालत ने आरोपी को जमानत दे दी। शालिग्राम गर्ग को जमानत मिलने से धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के परिवार को बड़ी राहत मिल गई है। मालूम हो कि बीते 11 फरवरी को बमीठा के गढ़ा गांव में एक दलित परिवार की बेटी की शादी थी। शादी में पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के भाई शालिग्राम गर्ग ने कथित तौर पर नशे के हालत में हंगामा किया था। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। वीडियो में वह हाथ में पिस्टल लिए नजर आया था।

शालिग्राम गर्ग के साथ एक अन्य आरोपी राजाराम तिवारी को भी शादी कार्यक्रम में अपमानजनक भाषा का प्रयोग करने, बंदूक तानने और धमकी देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। अदालत में आरोपी गर्ग की ओर से जमानत याचिका भी लगाई गई थी। आरोपियों पर आईपीसी की धारा 294, 323, 506, 427 और एससी / एसटी अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया था। विशेष अदालत में सुनवाई के दौरान अभियोजन और आरोपियों के वकीलों की ओर से दलीलें पेश की गईं। 

आरोपी शालिग्राम गर्ग की ओर से पेश अधिवक्ता ने अदालत के समक्ष अपनी दलीलों में कहा कि चूंकि बागेश्वर धाम की ख्याति लगातार फैल रही है। इस वजह से गर्ग को ईष्या के चलते गलत तरीके से फंसाया गया है। यह केस पूरी तरह एक वायरल वीडियो के आधार पर पंजिकृत किया गया है। ऐसे में वीडियो के आधार पर इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता है कि आरोपी ने वारदात को अंजाम दिया क्योंकि वायरल वीडियो की पुष्टि भी नहीं की जा सकी है। 

गर्ग की ओर से पेश अधिवक्ता ने यह भी कहा कि मामले में केस दर्ज करने में भी काफी देर की गई है। अदालत से गुजारिश है कि पहले वीडियो की जांच कराई जाए। यदि जांच में कोई सत्यता पाई जाती है तब कार्यवाही को बढ़ाया जाए। उससे पहले आरोपियों को जेल में डालना सही नहीं होगा। अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुना। इसके बाद कहा कि गर्ग की ओर से पेश अधिवक्ता की बातें उचित लग रही हैं। अंत में अदालत ने 25-25 हजार रुपये के मुचलके पर आरोपियों को जमानत दे दी।

बता दें कि छतरपुर पुलिस पर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के भाई शालिग्राम गर्ग को गिरफ्तार करने का भारी दबाव था। दलित संगठन शालीग्राम गर्ग को गिरफ्तार किए जाने की मांग को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। गांव का माहौल पूरी तरह तनावपूर्ण हो गया था। घटना के काफी दिन बाद तक गिरफ्तारी नहीं होने के कारण पुलिस को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा था। विवाद के बाद धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने भी अपने भाई से पल्ला झाड़ लिया था। उन्होंने बयान जारी कर कहा था कि हर मामले में उनके नाम को घसीटे जाने की जरूरत नहीं है। 

दलित संगठन शालीग्राम गर्ग को गिरफ्तार किए जाने की मांग को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। गांव का माहौल पूरी तरह तनावपूर्ण हो गया था। घटना के काफी दिन बाद तक गिरफ्तारी नहीं होने के कारण पुलिस को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा था। विवाद के बाद धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने भी अपने भाई से पल्ला झाड़ लिया था। उन्होंने बयान जारी कर कहा था कि हर मामले में उनके नाम को घसीटे जाने की जरूरत नहीं है। 

एक दिन पहले ही इस मामले छतरपुर एसपी सचिन शर्मा ने बयान जारी कर कहा था कि पुलिस मामले में जल्द ही चालान पेश करेगी। अब जब शालीग्राम गर्ग को गिरफ्तार कर लिया गया है। नजरें अदालत के रुख पर जा लगी हैं। शादी के कार्यक्रम में शालीग्राम गर्ग के पिस्टल लेकर उत्पात मचाने की घटना का वीडियो वायरल होने के बाद पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की भी किरकिरी हो रही थी। 

इस मामले में खजुराहो एसडीओपी मनमोहन सिंह बघेल को जांच अधिकारी बनाया गया था। भीम आर्मी ने शालीग्राम गर्ग की गिरफ्तारी की मांग को लेकर गढ़ा गांव में धरना प्रदर्शन किया था। दलित संगठनों के भारी आक्रोश को देखते हुए पुलिस भी सक्रिय हो गई थी। पुलिस का कहना था कि यदि शालीग्राम गर्ग हाजिर नहीं होता तो पुलिस कानून के अनुरूप सख्स से सख्त कार्रवाई करने को विवश होगी। आखिरकार पुलिस ने आरोपी गर्ग को गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल यह साफ नहीं हो पाया है कि गर्ग कहां छिपा था और पुलिस ने उसे कहां से पकड़ा...