फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशरेलवे टिकट का फ्रॉड करने वाले गिरोह पर शिकंजा, 3 लाख से ज्यादा दाम के 137 टिकट बरामद

रेलवे टिकट का फ्रॉड करने वाले गिरोह पर शिकंजा, 3 लाख से ज्यादा दाम के 137 टिकट बरामद

आरोपियों के कब्जे से 2 मोबाइल फोन और तीनों आईडी से बनाई गई कुल 135 उपयोग की हुई रेल टिकट और आगामी डेट के 3 लाख से अधिक रुपये के 137 टिकट को जब्त किये गए हैं।

रेलवे टिकट का फ्रॉड करने वाले गिरोह पर शिकंजा, 3 लाख से ज्यादा दाम के 137 टिकट बरामद
Abhishek Mishraवार्ता,भोपालMon, 05 Feb 2024 03:47 PM
ऐप पर पढ़ें

रेल सुरक्षा बल भोपाल मंडल द्वारा अनाधिकृत रूप से रेल टिकट बनाने वालों के विरुद्ध 'ऑपरेशन उपलब्ध' अभियान के तहत कार्रवाई निरंतर जारी है। इसी कड़ी में भोपाल मण्डल की आरपीएफ द्वारा विभन्नि स्थानों में दविश देकर रेलवे ई-टिकट का अवैध कारोबार करने वालों पर कार्रवाई की गयी।

भोपाल रेल मंडल द्वारा आज यहां जारी सूचना के अनुसार, संत हिरदारामनगर आरपीएफ पोस्ट को कल मंडल मुख्यालय भोपाल से प्रबल के माध्यम से प्राप्त आईडी के साथ तीन सस्पेक्टेड आइडियों के द्वारा रेल टिकट का अवैध व्यापार करने के संबंध में रिपोर्ट प्राप्त हुई। इस संबंध में सहायक उपनिरीक्षक विजय सिंह मीना, प्रधान आरक्षक पुष्पेन्द्र सिंह जादौन, आरक्षक सजनेश कुमार यादव द्वारा उक्त की जांच पड़ताल कर उन्हें खोजा और सम्पर्क कर पूछताछ की। उक्त व्यक्तियों ने अपना नाम दीपक राय निवासी द्वारका नगर भोपाल, विशाल कुशवाह निवासी गंजबासौदा और पूछताछ के दौरान यह भी बताया कि आईआरसीटीसी से एजेंट आईडी उसकी स्वंय की आईडी है। 

उसके पास अन्य तीन आईडी हैं जो उसके दोस्त विशाल कुशवाह के द्वारा उपयोग में लाई जाती है। उक्त तीनों आईडी का उपयोग कर वह दोनों मिलकर अपने-अपने मोबाइल से अपनी और अपने परिवार के साथ-साथ अपने ग्राहको की भी टिकट बनाने का काम करते हैं। इसके बदले में उचित रेलवे किराये के अलावा प्रति टिकट ग्राहक से 50-100 रूपया कमीशन के रूप में टिकिटों के नर्धिारित मूल्य से अधिक लिया जाता है।

विशाल कुशवाह से इस संबंध में पूछताछ करने पर बताया कि समर्पण पब्लिक स्कूल, मंडी बामोरा में कम्पयूटर आपरेटर का कार्य करता है। स्टाफ की आईडी का उपयोग कर आईआरसीटसी की साइट से पर्सनल यूजर आईडी बनाई थी। उक्त दोनों को लेकर रेलवे सुरक्षा बल चौकी निशातपुरा लाया गया। दोनों के बयान दर्ज किए गए।

आरपीएफ द्वारा दोनों आरोपियों के कब्जे से 02 नग मोबाइल फोन एवं 02 लाइव टिकट कीमत 319.85 रुपए एवं तीनों आइडियों से बनाई गई कुल 135 नग उपयोग की हुई रेल ई टिकट, कीमत 2,96,556 रुपए सहित कुल रेलवे ई टिकट 137 नग जिनका मूल्य 2,96,875.85 रूपए को जप्त किया गया। दोनों आरोपियों के विरू़द्ध रेल अधिनियम धारा 143  के तहत मामला पंजीकृत कर जांच में लिया गया है।   

 

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें