फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशग्वालियर में स्कूलों ने वसूली मनमानी फीस, अब लौटाने पड़ेंगे 15 लाख से ज्यादा रुपए

ग्वालियर में स्कूलों ने वसूली मनमानी फीस, अब लौटाने पड़ेंगे 15 लाख से ज्यादा रुपए

स्कूली बच्चों के माता-पिता या पेरेंट्स को फीस वापस कराने का यह ग्वालियर का तो पहला मामला है ही, साथ ही संभवतः मध्य प्रदेश का भी पहला मामला हो सकता है, जबकि ऐसा आदेश जारी किया गया हो।

ग्वालियर में स्कूलों ने वसूली मनमानी फीस, अब लौटाने पड़ेंगे 15 लाख से ज्यादा रुपए
Sourabh Jainलाइव हिंदुस्तान,ग्वालियरTue, 21 May 2024 05:49 PM
ऐप पर पढ़ें

ग्वालियर के बड़े और नामी गिरामी कॉन्वेंट स्कूलों द्वारा स्टूडेंट्स से मनचाहे ढंग से बढ़ा-चढ़ाकर फीस वसूलने के मामले में कलेक्टर ने कड़ी कार्रवाई की है। उन्होंने मनमानी फीस वसूलने वाले तीनों बड़े स्कूलों के प्रबन्धन को 15 लाख 21 हजार रुपए बच्चों के अभिभावकों को लौटाने का आदेश दिया है। साथ ही कलेक्टर रुचिका चौहान ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि यह राशि 30 दिन के अंदर संबंधित छात्रों या उनके अभिभावकों के खातों में वापस पहुंचनी चाहिए। 

ग्वालियर जिले में प्राइवेट स्कूलों के प्रबंधकों द्वारा पिछले शैक्षणिक सत्र 2023-24 की तुलना में वर्तमान सत्र 2024-25 के लिए की गई फीस वृद्धि के संबंध में विभाग को विभिन्न माध्यमों से शिकायतें प्राप्त हुई थीं। जिसके बाद जिले के 35 अशासकीय विद्यालयों को शिक्षा विभाग के माध्यम से कारण बताओ नोटिस भेजा गया था। 

इसके बाद विद्यालयों से प्राप्त जवाबों का परीक्षण किया गया। परीक्षण उपरान्त पाया गया कि जिले के तीन विद्यालयों ने 10 प्रतिशत से अधिक की फीस वृद्धि की है। जिसके बाद इन तीनों विद्यालयों को संबंधित छात्रों/पालकों और अभिभावकों को उनके खाते में ऑनलाइन बैकिंग के माध्यम से 30 दिन में राशि वापस करने के आदेश कलेक्टर द्वारा जारी किए गए हैं।  

मध्य प्रदेश निजी विद्यालय (फीस एवं संबंधित विषयों का विनियम) नियम 2020 के अंतर्गत जिन तीन विद्यालयों को राशि वापस करने के आदेश दिए गए है। उनमें कार्मल कॉन्वेन्ट हायर सेकेंडरी स्कूल, फालका बाजार (लगभग 9 लाख 9 हजार 600 रुपए), सेंट जोसेफ कॉन्वेन्ट स्कूल, पिपरोली (लगभग 2 लाख 64 हजार 82 रुपए) तथा रामश्री किड्स स्कूल, हरिशंकरपुरम (लगभग 3 लाख 47 हजार 553 रुपए) शामिल हैं। जिला शिक्षा अधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश शासन शिक्षा विभाग के दिशा-निर्देशों के क्रम में 10 प्रतिशत से अधिक फीस वृद्धि किए जाने पर उक्त विद्यालयों द्वारा जिला समिति को प्रस्ताव प्रस्तुत कर पूर्व में अनुमोदना भी प्राप्त नहीं की गई थी। 

विभाग को भेजी जानकारी में शहर के 11 स्कूलों ने फीस बढाने से इनकार किया है, जिसके बाद विभाग की जांच समिति ने अब इस बारे में भी जांच करने का फैसला लिया है। इन स्कूल में देहली पब्लिक स्कूल (DPS) रायरू, माउंट लिट्रा ज़ी पब्लिक स्कूल रायरू, किडजी कॉर्नर स्कूल  शिवपुरी लिंक रोड,मानवेन्द्र ग्लोबल स्कूल बहोड़ापुर,सिल्वर वेल्स पब्लिक स्कूल शिवपुरी लिंक रोड, ऋषिकुल विद्या निकेतन शिवपुरी लिंक रोड,अशोका इंटरनेशनल स्कूल पिपरौली और राइज इंटरनेशनल स्कूल नैनागिरी शामिल हैं।