फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशMP नर्सिंग कॉलेज घोटालाः सीबीआई इंस्पेक्टर को हिरासत में भेजा, 10 लाख की घूस लेते पकड़ा गया था

MP नर्सिंग कॉलेज घोटालाः सीबीआई इंस्पेक्टर को हिरासत में भेजा, 10 लाख की घूस लेते पकड़ा गया था

मध्य प्रदेश नर्सिंग कॉलेज घोटाले में सीबीआई की विशेष अदालत ने एक सीबीआई इंस्पेक्टर समेत चार लोगों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इससे पहले 9 आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था।

MP नर्सिंग कॉलेज घोटालाः सीबीआई इंस्पेक्टर को हिरासत में भेजा, 10 लाख की घूस लेते पकड़ा गया था
Subodh Mishraएएनआई,भोपालSat, 01 Jun 2024 11:18 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश नर्सिंग कॉलेज घोटाले में सीबीआई की विशेष अदालत ने एक सीबीआई इंस्पेक्टर समेत चार लोगों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया। एक जून को रिमांड की अवधि खत्म होने के बाद इन आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। जिन आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेजा गया, उनमें सीबीआई इंस्पेक्टर राहुल राज और बिचौलिये की भूमिका निभाने वाले ओम गोस्वामी, रवि भदोड़िया और जुगल किशोर शामिल हैं।

इससे पहले मंगलवार को इस घोटाले से जुड़े 9 आरोपियों मध्य प्रदेश पुलिस के इंस्पेक्टर सुशील कुमार मजोका, अनिल भास्करन, तनवीर खान, राधारमण शर्मा, सचिन जैन, वेद शर्मा, प्रीति तिलकवार, सुमा अनिल भास्करन और जलपना अधिकारी को कोर्ट में पेश किया गया था, जहां से उन्हें न्यायिक हिरास में भेज दिया गया था।

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई के भोपाल एंटी करप्शन ब्रांच ने घोटाले की जांच के लिए 7 कोर टीम का गठन किया है। इसके अलावा कई सपोर्ट टीम भी बनाई गई है, जिसमें सीबीआई के अधिकारी, नर्सिंग कॉलेजों के प्रतिनिधि और पटवारियों को शामिल किया गया है। सपोर्ट टीम राज्य भर के नर्सिंग कॉलेजों की जांच कर पता लगा रहे हैं कि उनके पास पर्याप्त इंफ्रास्ट्रक्चर और फैकल्टी है कि नहीं।

सीबीआई की एंटी करप्शन ब्रांच की कोर टीम ने पाया कि सीबीआई इंस्पेक्टर राहुल राज ने जांच के दौरान अपने टीम के सहयोगियों के साथ मिलकर नर्सिंग होम्स के पक्ष में रिपोर्ट बनाई और उसके बदले रिश्वत ली। इसके बाद राहुल राज सहित सीबीआई के तीन अन्य अधिकारियों समेत 23 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया। 18 मई को सीबीआई इंस्पेक्टर राहुल राज को रंगे हाथ 10 लाख रुपये की घूस लेते हुए पकड़ा गया था। 

बता दें नर्सिंग कॉलेज घोटाले की पोल 2022 में खुली थी। नर्सिंग कॉलेजों की मान्यता में फर्जीवाड़े पर हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई थी। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई इस घोटाले की जांच कर रही है।

Advertisement