फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेश'विदा लेने का वक्त आ गया है, मैं उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी'; इंदौर में बीटेक छात्रा ने दी जान

'विदा लेने का वक्त आ गया है, मैं उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी'; इंदौर में बीटेक छात्रा ने दी जान

वैष्णवी बुरहानपुर जिले की रहने वाली थी और इंदौर में LNCT कॉलेज से बीटेक कर रही थी। उसके पिता का कहना है कि वह हम सबको हिम्मत देती थी। ऐसे में यकीन करना मुश्किल है कि उसने सुसाइड कर लिया।

'विदा लेने का वक्त आ गया है, मैं उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी'; इंदौर में बीटेक छात्रा ने दी जान
Sourabh Jainलाइव हिंदुस्तान,इंदौरTue, 11 Jun 2024 03:55 PM
ऐप पर पढ़ें

इंदौर में बीटेक की पढ़ाई कर रही एक छात्रा ने जिंदगी से हिम्मत हारकर अपनी जान दे दी। उसके पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें उसने लिखा है कि  अब विदा लेने का समय आ गया है। मैं उम्मीदों पर खरी नहीं उतर सकी। जो मुझे बनना था वो नहीं बन पाई। इसके बाद उसने माता-पिता, भाई और मौसी से भी माफी मांगी। 

खुदकुशी करने वाली छात्रा का नाम वैष्णवी चौहान है, जिसने सोमवार शाम फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतक वैष्णवी बुरहानपुर जिले की रहने वाली थी और इंदौर में एमआर 10 इलाके में किराए के मकान में रहती थी। वह शहर के एलएनसीटी कॉलेज में बीटेक सेकेंड ईयर की छात्रा थी।

घटना का पता तब चला जब इंदौर में रहने वाले वैष्णवी के चचेरे भाई ने सोमवार को उसे फोन किया। लेकिन कई बार कॉल करने के बाद भी जब उसने फोन नहीं उठाया तो वह उसके घर पहुंचा। जहां अंदर वैष्णवी फंदे से लटकी हुई मिली। इसके बाद भाई ने पुलिस को सूचना दी। उसके पास से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ, जिसमें उसने मर्जी से यह कदम उठाने की बात लिखी।

सूचना मिलने पर बुरहानपुर से इंदौर पहुंचे वैष्णवी के परिजनों ने पुलिस को बताया कि एक दिन पहले रविवार को ही बेटी से बात हुई थी। उसका उपवास था और बातचीत में वह सामान्य लग रही थी। तब उसकी मां ने उससे पूछा था कि इतनी देर रात तक बाहर क्यों हो, इस पर बेटी ने बताया था कि वह दाल-बाफले खाने आई थी। सोमवार को बेटी से बात नहीं हुई। 

पिता ने बेटी को याद करते हुए कहा कि वैष्णवी हम सबको हिम्मत देती थी, ऐसे में यकीन करना बेहद मुश्किल है कि वह सुसाइड कर लेगी। पिता के मुताबिक 13 जून से उसकी परीक्षा शुरू होने वाली थी। वह पढ़ने में काफी होशियार थी, जिसके चलते उसे स्कॉलरशिप भी मिली थी और उसी से मिले पैसों से वह पढ़ाई कर रही थी।

पिता ने बताया कि वह एक प्राइवेट कंपनी में जॉब भी कर रही थी। फिलहाल पुलिस जांच करते हुए आत्महत्या की वजह का पता लगाने की कोशिश कर रही है।