फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशइंदौर की सभी विधानसभा सीटें जीत बीजेपी ने बनाया रिकॉर्ड, जानिए कहां से कितनी वोटों से मिली विजय

इंदौर की सभी विधानसभा सीटें जीत बीजेपी ने बनाया रिकॉर्ड, जानिए कहां से कितनी वोटों से मिली विजय

इंदौर की विधानसभा सीटों पर जीत के बाद भाजपा के कार्यकर्ताओं ने हर जगह जश्न मनाना शुरू कर दिया। शहर में बाइक रैलियां निकाली गईं, लड्डू बांटे गए और कई जगहों पर जमकर पटाखे भी फोड़े गए हैं।

इंदौर की सभी विधानसभा सीटें जीत बीजेपी ने बनाया रिकॉर्ड, जानिए कहां से कितनी वोटों से मिली विजय
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,इंदौरMon, 04 Dec 2023 09:56 AM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में इंदौर में कांग्रेस का पत्ता साफ हो गया है। भाजपा ने जिले की सभी नौ सीटों पर कजा कर लिया। पिछले चुनाव में राऊ और देपालपुर की सीट कांग्रेस के पास थी। इस चुनाव में भाजपा के रमेश मेंदोला ने विधानसभा दो से 1 लाख सात हजार वोटों से जीत दर्ज की। वहीं कैलाश विजयवर्गीय ने विधानसभा एक से 58 हजार से अधिक वोटों से जीत दर्ज की।

इंदौर जिले की सभी 9 विधानसभा सीटें भाजपा के खाते में आ गई हैं। तीन नंबर से गोलू शुक्ला  14 हजार वोटों से, चार नंबर में मालिनी गौड़ 69 हजार से, पांच में महेंद्र हार्डिया 23761 से, महू में ऊषा ठाकुर ने 34392 से, राऊ में मधु वर्मा ने 35522 से, सांवेर में तुलसी सिलावट ने 68854 से और देपालपुर में मनोज पटेल ने 13698 मतों से जीत दर्ज की है। इंदौर की विधानसभा सीटों पर जीत के बाद भाजपा के कार्यकर्ताओं ने हर जगह जश्न मनाना शुरू कर दिया। शहर में बाइक रैलियां निकाली गईं, लड्डू बांटे गए, जगह-जगह भाजपा के कार्यकर्ताओं ने पटाखे भी फोड़े।

कैलाश विजयवर्गीय 57719 वोटों से जीते

इंदौर-1 हॉट सीट से भाजपा के कैलाश विजयवर्गीय 57719 हजार वोटों से जीत गए हैं। उन्हें 156960 वोट मिले हैं। उनके सामने कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला थे। उन्हें 99 हजार 241 वोट मिले हैं। पार्टी की जीत पर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का बयान आया है। उन्होंने जीत का श्रेय लाडली बहना को दिए जाने के सवाल पर कहा कि ये योजना राजस्थान में थी क्या, छत्तीसगढ़ में थी?  फिर भी वहां भाजपा जीती है। सभी जगह मोदी मैजिक है।

इंदौर-2 से रमेश मेंदोला ने 2018 में जीत का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। जीत का अंतर 103481 वोट रहा। पिछले चुनाव में मेंदोला 71011 वोटों से जीते थे। मेंदोला ने जीत के पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। वे 1 लाख 6 हजार 563 वोटों से चुनाव जीते हैं। ये प्रदेश की सबसे बड़ी जीत है। दूसरे नंबर पर मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान रहे।

1908 वोट नोटा में गए

इंदौर-3 से भाजपा के गोलू राकेश शुक्ला  14667 वोटों से जीत गए। कुल 73291 वोट मिले जबकि निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के दीपक जोशी पिंटू को 58624 वोट मिले हैं। 1908 वोट नोटा में गए। गोलू शुक्ला  ने कहा बाबा महाकाल स्वयं यहां चुनाव लड़ रहे थे। उन्होंने ही टिकट दिलाया था और उन्हीं की जीत है। इसी तरह इंदौर-4 में मालिनी गौड़ 69837 वोटों से चुनाव जीत गई हैं। उनको 118870 वोट मिले हैं। निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के राजा मंधवानी को 49033 वोट मिले।

यह सनातन धर्म की जीत, बोलीं मालिनी गौड़

मालिनी गौड़ ने कहा कि यह जीत राष्ट्रवाद और सनातन धर्म की जीत है। इंदौर-5 में लगातार उलटफेर के बाद महेंद्र हार्डिया 15404 वोटों से चुनाव जीत गए। यहां पहले राउंड से आगे चल रहे भाजपा  के महेंद्र हार्डिया 8वें राउंड में कांग्रेस के सत्यनारायण पटेल से 2871 वोटों से पिछड़ गए थे। यहां हार्डिया को 143449 वोट मिले हैं। जबकि पटेल को 128045 वोट मिले हैं। जीत पर महेंद्र हार्डिया ने कहा कि हमने विधानसभा में जो विकास कार्य किया है यह उसका परिणाम है।

देपालपुर से भाजपा के मनोज पटेल 13892 वोटों से जीत गए। उन्हें 94989 वोट मिले हैं, उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के विधायक विशाल पटेल को 81097 वोट मिले। यहां निर्दलीय राजेंद्र चौधरी को भी 37741 वोट मिले। बगावत के बावजूद भाजपा ने सीट कांग्रेस से छीनी है। राऊ से भाजपा के मधु वर्मा 35489 वोटों से जीत गए। उन्हें 150107 वोट मिले। निकटतम प्रतिद्वंद्वी और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी को 1 लाख 14 हजार 618 वोट ही मिले। मधु वर्मा ने कहा मैं पिछला चुनाव हार गया था। लेकिन मैंने हार नहीं मानी और कार्यकर्ताओं के बीच रहा। संगठन जब मजबूत  होता है तो ऐसे ही परिणाम आते हैं।

रिपोर्ट : हेमन्त नागले

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें