फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशमध्य प्रदेश में भाजपा सांसद ने एक कॉलेज प्राचार्य से पूछा 36 साल पहले क्या यहां मजार थी, छात्र-स्टाफ असुरक्षित

मध्य प्रदेश में भाजपा सांसद ने एक कॉलेज प्राचार्य से पूछा 36 साल पहले क्या यहां मजार थी, छात्र-स्टाफ असुरक्षित

भोपाल में सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय (एमवीएम) में 36 साल के भीतर एक मजार बना लिए जाने पर कॉलेज प्रबंधन से सवाल किया है। इस संबंध में सांसद ने भोपाल संभाग के...

मध्य प्रदेश में भाजपा सांसद ने एक कॉलेज प्राचार्य से पूछा 36 साल पहले क्या यहां मजार थी, छात्र-स्टाफ असुरक्षित
भोपाल, लाइव हिंदुस्तानSun, 21 Nov 2021 02:35 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

भोपाल में सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय (एमवीएम) में 36 साल के भीतर एक मजार बना लिए जाने पर कॉलेज प्रबंधन से सवाल किया है। इस संबंध में सांसद ने भोपाल संभाग के कमिश्नर को भी पत्र लिखा है। 

 

भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने एमवीएम कॉलेज में एक बैठक के बाद परिसर के निरीक्षण में देखा कि एक हिस्से में मजार बनी है जिसमें लोग नमाज पढ़ने आते हैं। इसको लेकर सांसद ने कॉलेज प्राचार्य से चर्चा की और पूछा कि जब 1985 तक यहां कोई मजार नहीं थी तो यह कब बनी। इसका रिकॉर्ड देखें। कॉलेज के मजार वाले हिस्से की तरफ बाउंड्रीवॉल टूटी है जिसमें से कोई भी आ-जा सकता है। इसको लेकर सांसद ने कॉलेज प्रबंधन के सामने नाराजगी जताई। 

कमिश्नर को लिखा पत्र
सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने इस संबंध में भोपाल संभाग के आयुक्त को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने कहा कि कॉलेज में छात्र और छात्रा दोनों ही पढ़ते हैं। परिसर के जिस हिस्से में मजार बनी है वहां असमय लोगों का आना-जाना बना रहता है जिससे छात्र-छात्राओं के साथ स्टॉफ असुरक्षित हो गया है। सांसद ने कॉलेज परिसर में अवांछित लोगों के प्रवेश को तत्काल रोकने की व्यवस्था करने की मांग की है। 

केंद्रीय विद्यालय की मजार पर भी उठाए थे सवाल
गौरतलब है कि सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ने कुछ समय पहले केंद्रीय विद्यालय क्रमांक दो शिवाजीनगर में भी एक मजार पर सवाल उठाया था। उक्त मजार में नमाज पढ़े जाने को लेकर विद्यालय में पढ़ने वाली छात्राओं की सुरक्षा को खतरा बताया था। इस मुद्दे पर उन्होंने स्कूल प्रबंधन और पुलिस अधिकारियों को स्कूल में ही फटकार भी लगाई थी।