फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशMP चुनाव में राम मंदिर बना मुख्य मुद्दा, अमित शाह बोले- आने वाले दिनों में 3 बार दिवाली मनाएगा मध्य प्रदेश

MP चुनाव में राम मंदिर बना मुख्य मुद्दा, अमित शाह बोले- आने वाले दिनों में 3 बार दिवाली मनाएगा मध्य प्रदेश

अमित शाह ने कहा कि आजादी के बाद से कांग्रेस राम मंदिर को रोकती रही है। 2019 में जनता ने सबसे ज्यादा वोट देकर पीएम मोदी को दूसरी बार चुना था। अब 22 जनवरी को इसका उद्घाटन है।

MP चुनाव में राम मंदिर बना मुख्य मुद्दा, अमित शाह बोले- आने वाले दिनों में 3 बार दिवाली मनाएगा मध्य प्रदेश
Praveen Sharmaभोपाल। श्रुति तोमर (हिन्दुस्तान टाइम्स डॉट काम)Sun, 29 Oct 2023 08:06 AM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में इन दिनों अयोध्या में बन रहा राम मंदिर एक मुख्य मुद्दा बन गया है। चुनाव प्रचार के लिए तीन दिन की यात्रा पर मध्य प्रदेश आए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा कि मध्य प्रदेश आने वाले महीनों में तीन बार दिवाली का त्योहार मनाने जा रहा है। 230 सदस्यीय मध्य प्रदेश विधानसभा के लिए 17 नवंबर को मतदान होना है और वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होगी। भारतीय जनता पार्टी राज्य में सत्ता बरकरार रखना चाहती है।

छिंदवाड़ा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि पहली दिवाली आप अगले महीने मनाएंगे। दूसरी बार आप दिवाली तब मनाएंगे जब बीजेपी मध्य प्रदेश में सरकार बनाएगी। तीसरी बार आप फिर दिवाली तब मनाएंगे जब पीएम मोदी अयोध्या के राम मंदिर में भगवान राम की मूर्ति स्थापना करेंगे। 

शाह का यह बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 जनवरी, 2024 को आयोजित होने वाले एक समारोह के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के निमंत्रण को स्वीकार करने के कुछ दिनों बाद आया है, जहां भगवान राम की मूर्ति को मंदिर के गर्भगृह के अंदर रखा जाएगा। शनिवार से मध्य प्रदेश का अपना तीन दिवसीय दौरा शुरू करने वाले केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस सरकारों पर राम मंदिर के निर्माण में बाधा डालने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, “आजादी के बाद से कांग्रेस राम मंदिर को रोकती रही है और इसमें देरी करती रही है। 2019 में जनता ने सबसे ज्यादा वोट देकर पीएम मोदी को दूसरी बार चुना। पीएम ने चुपचाप इसका भूमि पूजन किया और अब 22 जनवरी को उद्घाटन है। राहुल बाबा आए दिन तंज कसते थे कि मंदिर तो बनेगा, लेकिन तारीख नहीं बताएंगे। राहुल बाबा, मंदिर तो बन गया, तारीख भी बता दी। बस दर्शन के लिए आइए, आप भी संतुष्ट हो जाएंगे।''

अमित शाह ने प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व पर हमला करते हुए कहा, ''मध्य प्रदेश में कांग्रेस को तीन परिवार चलाते हैं। ये परिवार हैं गांधी, कमल नाथ और बंटाधार (राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह)। गांधी परिवार जो आदेश देता है, कमल नाथ उसका पालन करते हैं और अगर कोई समस्या है तो उसका ठीकरा दिग्विजय यानी बंटाधार पर फोड़ देते हैं। वे जहां भी जाते हैं, दिग्विजय के कपड़े फाड़ देते हैं।' जो लोग परिवार की राजनीति करते हैं वे देश का भला नहीं कर सकते।”

शाह ने कहा कि पीएम मोदी द्वारा किए गए विकास कार्यों की प्रशंसा करते हुए शाह ने कहा कि राम मंदिर, धारा 370, तीन तलाक, सर्जिकल स्ट्राइक, चंद्रयान, नई संसद, संसद में महिलाओं के लिए आरक्षण और कई अन्य कार्यों के अलावा, पीएम मोदी ने देश का गौरव बढ़ाया है। उन्होंने एक ही रात में पीएफआई जैसे देश विरोधी संगठन पर प्रतिबंध लगा दिया। पीएम मोदी ने आतंकवाद को पुनर्जीवित करने की बची-खुची संभावनाओं को भी नष्ट कर दिया।

उन्होंने कहा कि आज भारत के लोग विकास और सकारात्मक चीजें देख रहे हैं, लेकिन कांग्रेस को कुछ भी सकारात्मक नजर नहीं आ रहा है। चुनावी राज्यों में भाई-बहन पूछते फिरते हैं कि क्या हुआ? तुम इटली के हो, इसलिए तुम दोनों नहीं समझोगे। कांग्रेस में एकता नहीं है। जो लोग अपने परिवार के लिए राजनीति में हैं वे देश का भला नहीं कर सकते। पीएम मोदी राजनीति में परिवार के लिए नहीं बल्कि देश की सेवा के लिए आए हैं। 

गौरतलब है कि इंदौर से कांग्रेस नेता राकेश यादव ने भाजपा पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए भाजपा के खिलाफ चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया, जो 9 अक्टूबर को मध्य प्रदेश में चुनाव घोषित होने के दिन लागू हुई थी।

उन्होंने कहा, “भाजपा वोट पाने के लिए भगवान श्री राम के निर्माणाधीन मंदिर की फोटो का इस्तेमाल कर रही है। राम मंदिर की तस्वीर के साथ बीजेपी के उन विधानसभा उम्मीदवारों की तस्वीरें भी इस्तेमाल की गई हैं, जिनके खिलाफ गंभीर धाराओं में आपराधिक मामले दर्ज हैं। साथ ही आदर्श आचार संहिता का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। राम मंदिर देश के प्रत्येक नागरिक और राजनीतिक दलों के नेताओं की आस्था का प्रतीक है। ऐसे में बीजेपी चुनाव जीतने के लिए राम मंदिर का इस्तेमाल कर भगवान राम और सनातन धर्म का अपमान कर रही है।''

उन्होंने आगे कहा कि राम मंदिर निर्माण में 11 चांदी की ईंटों का योगदान देने की कमलनाथ जी की घोषणा के साथ ही कई दलों के नेताओं ने भी राम मंदिर निर्माण में सहयोग प्रदान किया है. ऐसे में राम मंदिर सिर्फ बीजेपी का कैसे हो सकता है? भाजपा का असली चरित्र और चेहरा उजागर हो गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें