DA Image
17 अप्रैल, 2021|6:55|IST

अगली स्टोरी

उम्रकैद की सजा सुनाए जाने के बाद दुष्कर्म का दोषी कोर्ट से ही हुआ रफू चक्कर

60 liter poisonous liquor found in luxury car three arrested with 1 lakh 50 thousand case in badaun

मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले की एक विशेष अदालत द्वारा दुष्कर्म के मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद 23 वर्षीय दोषी धक्का-मुक्की कर वहां से फरार हो गया। अभियोजन अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। जिला लोक अभियोजन अधिकारी आलोक श्रीवास्तव ने बताया कि विशेष न्यायाधीश डॉ अंजली पारे ने नाबालिग बालिका के साथ दुष्कर्म के मामले में आरोपी जितेन्द्र को शुक्रवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

उन्होंने बताया कि अदालत द्वारा आजीवन कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद बलात्कार का दोषी जितेन्द्र, अदालत में मुंशी को धक्का देकर वहां से फरार हो गया। उन्होंने बताया कि राजगढ़ थाने में दो अक्टूबर 2018 को पीड़िता के परिजन ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उनकी नाबालिग लड़की को बचपन में लकवा हो गया था इससे वह मानसिक तौर पर विकलांग हो गयी थी। बालिका का पेट फूला होने पर उसने परिजन को बताया कि 5-6 माह पहले जितेन्द्र ने उसके साथ बलात्कार किया था और तथा पेट में उसका गर्भ है।

श्रीवास्तव ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ भादंवि की धारा 376 (बलात्कार) एवं पॉक्सो अधिनियम की संबधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया था। जांच के दौरान पीड़ित बालिका के बयान लिए गए तथा जांच के बाद अभियोग पत्र अदालत में पेश किया।

उन्होंने बताया कि अदालत ने आरोपी जितेन्द्र को आजीवन करावास एवं दस हजार रुपए जुर्माने की सजा से दंडित किया है। सजा सुनाए जाने के बाद अभियुक्त जितेन्द्र अचानक न्यायालय कक्ष में मुंशी को धक्का देकर वहां से फरार हो गया। उन्होंने बताया कि अदालत से अपराधी के फरार होने की सूचना जिला पुलिस अधीक्षक को दी गई है। पुलिस जितेन्द्र की तलाश कर रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:After being sentenced to life imprisonment convict escape from court in Rajgarh District