फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशMP में गाय के 54 शव मिले, दो आरोपियों पर लगा रासुका; एडीजी करेंगे जांच

MP में गाय के 54 शव मिले, दो आरोपियों पर लगा रासुका; एडीजी करेंगे जांच

पुलिस ने कड़ी सुरक्षा के बीच लखनादौन में गोवंश हत्याकांड में शामिल 4 आरोपियों का MLC कराने के बाद बस स्टैंड से बाजार चौक होते हुए कोर्ट तक पैदल जुलूस निकाला। जहां से उन्हें कोर्ट में पेश किया गया।

MP में गाय के 54 शव मिले, दो आरोपियों पर लगा रासुका; एडीजी करेंगे जांच
Sourabh Jainलाइव हिंदुस्तान,सिवनी, मध्य प्रदेशSat, 22 Jun 2024 10:51 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में 50 से अधिक गायों के शव मिलने के बाद स्थिति तनाव पूर्ण बनी हुई है। इस बीच पुलिस प्रशासन की जांच में सामने आया है कि गोवंश को पशु बाजार से खरीदा गया था और इन्हें नागपुर से हैदराबाद ले जाने की तयारी थी। लेकिन पुलिस की कार्रवाई को देखते हुए आरोपियों ने गायों के गले रेतकर उनके शव नदी में बहा दिए थे। आरोपियों का मकसद समाज में साम्प्रदायिक विवाद भी पैदा करना था, मामले में पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिसके बाद शनिवार उनका जुलूस निकला गया। वहीं मामले में प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने प्रशासन को कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। मामला सामने आने के बाद हिंदूवादी संगठन ने बालाघाट और सिवनी को बंद रखा। 

दो आरोपियों पर लगा NSA, एडीजी करेंगे जांच

प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने गो हत्या को लेकर कड़ी कार्रवाई करने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि 'गोवंश हत्या की उच्चस्तरीय जांच हेतु एडीजी (सीआईडी) की टीम घटना स्थल पर पहुंच रही है। पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर दो आरोपियों पर NSA (रासुका) लगाया गया है। घटना में शामिल प्रत्येक आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है। मध्य प्रदेश में गौ माताओ के खिलाफ कोई भी अपराध बर्दास्त नहीं किया जायेगा।'

बता दें कि सिवनी जिले में हाल के कुछ दिनों में 54 गोवंश के शव मिले हैं। इनमें से कुछ के गले रेतकर उनकी हत्या की गई थी। साथ ही कुछ के अन्य अंग कटे मिले। जिसके बाद पुलिस और प्रशासन ने मामले की जांच शुरू करते हुए संदेह के आधार पर 5 आरोपियों को हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। इनमें से तीन लोग नागपुर के रहने वाले बताए जा रहे हैं। मामले में हिरासत में लिए गए लोगों में शादाब, वाहिद, इरफान, रामदास उइके, संतोष शामिल हैं। रामदास व संतोष पहले भी पशु तस्करी में जेल जा चुके हैं। वाहिद धनौरा थाना क्षेत्र के ग्वारी गांव का रहने वाला है। शादाब उसका रिश्तेदार है। दोनों पर पशु क्रूरता अधिनियम का एक-एक मामला दर्ज है।

इधर, इस घटना को लेकर हिंदूवादी संगठन के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया और आरोपियों पर जल्द से जल्द कार्रवाई करने की मांग की। बताया जा रहा है कि गोवंश के तस्करों को हैदराबाद और नागपुर से फंडिंग हो रही है। सिवनी में पकड़े गए गो तस्करों से भी पुलिस पूछताछ कर रही है और जल्द ही खुलासा करेगी।

सिवनी जिले के धनोरा और धूमा थाना क्षेत्र के पिंडारई के पास बेनगंगा नदी के बाहर 26 गोवंश और धूमा क्षेत्र के ककरतला के जंगल में 28 गोवंश के शव मिले थे। सूचना पर कलेक्टर क्षितिज सिंघल और पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार सिंह मौके पर पहुंचे और जांच के आदेश दिए गए। ग्रामीणों का कहना है कि उनके क्षेत्र में इस तरह की घटना पहली बार हुई है। लोगों के अनुसार आसपास के गांव से गोवंश के शव नदी में बहकर आए हैं। ग्रामीणों ने प्रशासन ने मांग की है कि इस मामले में जांच कर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करे।

सिवनी एसपी राकेश सिंह के मुताबिक मृत मिले गोवंश में से दो के कान में टैग लगे थे यह टैग पशु बाजार में मवेशियों की खरीदी-बिक्री के दौरान लगाए जाते हैं। आरोपियों ने अधिकतर गोवंश के कान काटकर टैग भी गायब कर दिए थे। दो टैग रह गए थे, जिनके सहारे पुलिस आरोपियों तक पहुंची है। एसपी के मुताबिक हिरासत में लिए गए आरोपियों से पूछताछ में नागपुर के तीन तस्करों का नाम सामने आया है। इन गोवंश को ये तस्कर आगे हैदराबाद भेजते हैं।

आरोपियों का निकाला जुलूस 

सिवनी जिले के लखनादौन में पुलिस ने कड़ी सुरक्षा के बीच गोवंश हत्याकांड में शामिल 4 आरोपियों का MLC कराने के बाद बस स्टैंड से बाजार चौक होते हुए न्यायालय तक पैदल जुलूस निकाला। जहां से उन्हें न्यायालय में पेश किया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग भी एकत्रित हो गए। जुलूस के दौरान भारी पुलिस बल मौके पर मौजूद रहा। जानकारी के मुताबिक पांच में से तीन आरोपियों पर रासुका (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) भी लगाया जा चुका है।

रिपोर्ट- विजेन्द्र यादव