DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

ये भी जानें : फरीदाबाद लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ने में महिलाएं रहीं पीछे

voting file photo

फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र में चुनाव लड़ने में महिलाएं पीछे हैं। अब तक के 12 लोकसभा चुनाव में मात्र आठ महिलाओं ने ही चुनाव लड़ा है, लेकिन सफलता किसी को नहीं मिली, 2014 के चुनाव में सबसे अधिक तीन महिलाओं ने चुनाव लड़ा था, इस बार सिर्फ एक महिला मैदान में है। जबकि यहां महिला मतदाता करीब 45 फीसदी हैं।

गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा था फरीदाबाद, जानें कौन थे पहले सांसद?

चुनाव में भले ही महिलाओं पर प्रमुख राजनीतिक दल भरोसा नहीं करते हो, लेकिन प्रत्याशी महिला मतदाताओं से अपने पक्ष में मतदान की गुजारिश करते हैं। महिला मतदाताओं को रिझाने के लिए प्रत्याशियों ने अपनी पत्नी और परिवार की महिला सदस्यों को प्रचार का जिम्मा दिया है। राजनीतिक कार्यकर्ता जगजीत कौर पन्नू बताती हैं कि महिलाएं अब पहले से अधिक सक्रिय हैं। महिलाओं का मतदान प्रतिशत भी सुधरा है।

फरीदाबाद लोकसभा में उम्मीदवार

चुनाव कुल प्रत्याशी महिला प्रत्याशी विजयी उम्मीदवार
1977 7 0 धर्मवीर वशिष्ठ
1980 10 0 तैयब हुसैन
1984 21 0 रहीम खान
1989 18 0 भजनलाल
1991 23 0 अवतार भड़ाना
1996 41 0 रामचंद्र बैंदा
1998 15 2 रामचंद्र बैंदा
1999 12 0 रामचंद्र बैंदा
2004 14 0 अवतार भड़ाना
2009 23 2 अवतार भड़ाना
2014 28 3 कृष्णपाल गुर्जर

फरीदाबाद-पलवल मेें महिलाओं की स्थिति

आबादी 10,79,286 47 फीसदी
मतदाता 0928701 45 फीसदी
सारक्षता ----- 70 फीसदी

चुनाव लड़ने वाली महिलाएं 

1998 के आम चुनाव में सुमित्रा और पूनम सिंह बतौर निर्दलीय उम्मीदवार मैदान में रहीं।

2009 के आम चुनाव में रेखा और लता रानी ने बतौर निर्दलीय चुनाव लड़ा।

2014 आम चुनाव में कुसुम, निर्मला, सुशीला ने चुनाव लड़ा।

2019 के आम चुनाव में अकेली महिला प्रत्याशी दिल्ली की रूबी हैं।

अभी तक मात्र 8 महिलाएं ही मैदान में उतरीं

वर्ष1998 के लोकसभा चुनाव में पहली बार दो महिलाओं ने फरीदाबाद लोकसभा चुनाव लड़ने का साहस दिखाया, हालांकि दोनों महिलाओं को मामूली वोट मिले। निर्दलीय प्रत्याशी सुमित्रा को मात्र 800 वोट और पूनम सिंह को वोट मिले। इसके बाद 2009 में दो महिलाओं रेखा सिंह और लता रानी चुनाव मैदान में उतरी। फिर पिछले 2014 के चुनाव में सबसे अधिक तीन महिलाओं कुसुम निर्मला और सुशीला ने चुनाव लड़ा, हालांकि कोई भी महिला प्रत्याशी अपनी जमानत नही बचा सकी। इस बार भी दिल्ली लक्ष्मीनगर की रहने वाली महिला रूबी चुनाव मैदान में हैं। 

फरीदाबाद में इंदिरा गांधी की गिरफ्तारी से बदली चुनाव की सूरत

लोकसभा चुनाव : भाजपा उम्मीदवार कृष्णपाल गुर्जर हैं सबसे ज्यादा खर्चीले

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Women candidates history on Faridabad Lok Sabha seat