DA Image
21 जनवरी, 2020|11:47|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Lok Sabha Election 2019: मतदान : शहर में कम, देहात में बरसे वोट

दून शहर में पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले कम वोट पड़े। देहात के विधानसभा क्षेत्रों में मत प्रतिशत पिछले चुनाव से ज्यादा रहा। 2014 में हुए लोकसभा चुनाव की अपेक्षा देहरादून जिले की चकराता, विकासनगर और देहरादून विधानसभा क्षेत्र में मतदान बढ़ा है। सबसे ज्यादा चकराता विधानसभा क्षेत्र में दस प्रतिशत मतदान की बढ़त हुई है। 2017 के विधानसभा चुनाव की तुलना करें तो इस बार मसूरी को छोड़कर सभी विधानसभाओं में कम वोटिंग हुई है। मसूरी में मामूली अंतर है। देहरादून जिले में कुल 10 विधानसभा क्षेत्र हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव की अपेक्षा मत प्रतिशत में सबसे ज्यादा बढ़त चकराता विधानसभा क्षेत्र में हुई है। पिछले चुनाव में यहां 49.24 फीसदी मतदान हुआ।

इस बार इसमें दस फीसदी की बढ़त हुई है। यहां 1 लाख 450 मतदाताओं में से 61 हजार 204 मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया। कुल 59.74 फीसदी मतदान हुआ है। सहसपुर में करीब पांच फीसदी मत प्रतिशत बढ़ा। पिछले बार 65.78 फीसदी हुआ था, जो इस बार बढ़कर 70.41 हो चुका है। विकासनगर में 67.07 फीसदी से बढ़कर 69.68 मतदान हुआ। 1 लाख 9 हजार 959 मतदाताओं में से 76 हजार 621 मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया। सात विधानसभाओं के मत प्रतिशत में कमी आई है। इसमें सबसे ज्यादा कैंट विधानसभा में पांच फीसदी मत प्रतिशत में कमी आई है। 2017 के विधानसभा चुनाव की तुलना की जाए तो मसूरी को छोड़कर सभी विधानसभाओं में मत प्रतिशत में कमी आई है। मसूरी में भी मामूली अंतर है।


वोट प्रतशित

विधानसभा     लोस(2014)    विस (2017)     लोस(2019)
धर्मपुर     60.02         57.56         55.31
रायपुर     62.91         59.77         58.72
राजपुर रोड     61.35         58.01         57.08
कैंट     60.02         57.14         56.75
मसूरी     64.65         58.06         58.76
डोईवाला     66.57         67.84         66.23
ऋषिकेश     63.71         64.79         61.00
चकराता     49.24         72.70         59.74
विकासनगर      67.07         70.70         69.68
सहसपुर 65.78 72.96 70.41

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:voters living in rural areas come forward in comparison to villagers from urban areas to cast votes in lok sabha election 2019 in uttarakhand