DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

लोकसभा चुनाव 2019- राजद की तरह टीएमएसी पर भी लगे लगाम: सुशील मोदी

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि चुनाव आयोग को राजद की तरह टीएमएसी पर भी लगाम लगाना चाहिए। पश्चिम बंगाल में आज वही हो रहा है जो लालू-राबड़ी के राज में बिहार में होता था।   

उन्होंने कहा है कि बिहार में भी उस समय बूथ लूट, चुनावी हिंसा, गरीब-कमजोर वर्ग के मतदाताओं को मतदान से रोकने के कारण चुनाव आयोग को पूरे के पूरे संसदीय व विधानसभा क्षेत्रों का चुनाव रद्द करना पड़ता था। टीएन सेशन जैसे तत्कालीन मुख्य चुनाव आयुक्त की सख्ती से बूथ लुटेरों व गुंडों पर लगाम लगी। आज बंगाल में भी टीएमसी की गुंडागर्दी के खिलाफ आयोग को वैसी ही सख्ती बरतने की जरूरत है। 

कहा कि बूथ लूट और चुनावी हिंसा के डेढ़ दशकीय दौर में बिहार में 641 लोग मारे गए थे। छपरा, पूर्णिया और दो-दो बार पटना संसदीय क्षेत्र तथा दानापुर विधान सभा क्षेत्र के सम्पूर्ण मतदान को रद्द कराना पड़ा था। धांधली और बूथ लूट की शिकायतों के बाद 1990 के बिहार विधानसभा चुनाव में 1239, 1995 में 1668 और 2000 में 1420 मतदान केन्द्रों पर चुनाव आयोग को पुनर्मतदान कराना पड़ा था। 

Lok Sabha Elections 2019- नर-नारी के सहयोग से ही देश का विकास: नीतीश

टीएमसी और ममता बनर्जी की तरह तब बिहार में भी राजद-कांग्रेस के लोग चुनावी हिंसा, धांधली, बूथ लूट को नजरअंदाज कर आयोग के पुनर्मतदान के निर्णयों के विरोध में खड़े रहते थे। आयोग की कड़ी कार्रवाई से न केवल राजद के बूथ लुटेरों पर नकेल कसी, बल्कि हिंसा का दौर भी थमा। चुनाव आयोग द्वारा बंगाल के हालात के मद्देनजर एक दिन पहले चुनाव प्रचार को रोकना कोई अप्रत्याशित निर्णय नहीं है। आयोग की सख्ती और आम मतदाताओं की जागरूकता का बिहार की तरह बंगाल में भी असर होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rein on TMC Like RJD Sushil Modi