DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

Lok Sabha Elections 2019- नये दल और अलग लड़े नेताओं का दिखेगा दम

17वें लोकसभा के गठन के लिए हुए चुनाव में सत्ता किसे मिलेगी, यह तो गुरुवार का परिणाम बताएगा, लेकिन बिहार में महागठबंधन के नये घटक दलों और अपना अलग ठिकाना बनाने वाले नेताओं का फैसला कितना सही रहा, चुनाव के नतीजों से इसका भी पता चल जाएगा। विभिन्न कारणों से नाराज अथवा टिकट नहीं मिलने के कारण ऐसे नेताओं ने अपने दम चुनाव में किस्मत आजमायी है। ऐसे नेताओं को जनता का कितना सहयोग मिला, यह देखने वाली बात होगी। 

चुनाव में परीक्षा की कसौटी पर तो सभी दल हैं पर, जो नये दल हैं, उनके लिए अपनी ताकत दिखाने का मौका भी नया है। महागठबंधन में राजद और कांग्रेस को छोड़ राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा), हम और वीआईपी पार्टी नये घटकदल के रूम में शामिल हुए हैं। लोकसभा चुनाव के नतीजे बताएंगे कि ये अपनी परीक्षा में कामयाब हुए या नहीं। एनडीए को मात देने के लिए महागठबंधन में इन दलों को शामिल किया गया। इसके जरिये जातीय समीकरण साधने की कोशिश भी हुई है। चुनाव का परिणाम इनकी ताकत का भी अहसास कराएगा। इनकी ताकत के आधार पर ही इन पार्टियों की आगे का राजनीतिक भविष्य भी बहुत हद तक निर्भर करेगा। 

रिजल्ट बताएगा, जनता से कितना सहयोग मिला : रालोसपा को पांच तथा हम और वीआईपी को तीन-तीन सीटें मिली हैं। वहीं जहानाबाद से रालोसपा के टिकट पर 2014 में चुनाव लड़े अरुण कुमार इस बार रासपा (सेक्यूलर) से चुनाव मैदान में हैं। जहानाबाद में एनडीए और महागठबंधन के उम्मीदवारों को टक्कर देने वे मैदान में कूदे हैं। वहीं जन अधिकार पार्टी के प्रमुख पप्पू यादव की ताकत की परीक्षा मधेपुरा में है। मधेपुरा में उन्होंने त्रिकोणीय लड़ाई बनाने को कोशिश की है। रिजल्ट बताएगा कि उन्हें कितना सहयोग वहां की जनता का मिला। पिछली बार वह राजद के टिकट पर लड़े थे।

पिछले चुनाव में जदयू से लड़े थे देवेंद्र यादव
झंझारपुर से पांच बार सांसद रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री देवेंद्र यादव समाजवादी जनता पार्टी (डेमोक्रेटिक) बनाकर चुनाव मैदान में कूदे हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में वे जदयू से उम्मीदवार थे। बांका लोकसभा चुनाव में 2014 में भाजपा उम्मीदवार रहीं पुतुल कुमारी इस बार निर्दलीय मैदान में हैं। वहां राजद और भाजपा उम्मीदवारों को उन्होंने टक्कर दी है। ऐसे में रिजल्ट किसके पक्ष में आता है? कौन-किस पर भारी पड़ता है, यह रिजल्ट बताएगा?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:New team and differently fought leaders will see in Bihar