DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

नारी शक्तिः एनी ने 1951 में निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीत दर्ज की, जानें उनके बारे में

annie mascarene

एनी मासकारेने स्वतंत्रता सेनानी थीं और वे 1951 केरल के तिरुवनंतपुरम क्षेत्र से पहली लोकसभा का चुनाव जीतकर संसद में पहुंची थी। वे पहली संसद के उन 10 सदस्यों में शामिल थीं जो स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर चुनाव जीतकर आए थे। आजाद उम्मीदवार के तौर पर जीत दर्ज कराने वाली वे पहली महिला भी थीं।

लोकसभा चुनाव 2019- सीपी ठाकुर को भी भाजपा नेतृत्व ने दिल्ली बुलाया

केरल की पहली महिला सांसद : एनी केरल की पहली महिला सांसद भी थीं। उनका जन्म एक अत्यंत शिक्षित लैटिन कैथोलिक परिवार में हुआ था। उनके पिता त्रावणकोर राज्य में अधिकारी थे। एनी पढ़ाई में बचपन से ही मेधावी थीं। उन्होंने इतिहास और अर्थशास्त्र में महाराजा कालेज तिरुवनंतपुरम से डबल एमए किया था। इसके बाद उन्होंने कुछ समय श्रीलंका के सीलोन में कॉलेज में अध्यापन भी किया। पर वे जल्द केरल लौट आईं और इसके बाद उन्होने कानून में स्नातक की डिग्री ली।

कई बार जेल गईं : एनी पर जलियांवाला बाग का कांड का प्रभाव पड़ा और वे स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय हो गईं। वे पहली महिला थीं जो त्रावणकोर राज्य कांग्रेस की सदस्य बनीं। वे राज्य में कांग्रेस के कार्यकारी समिति की भी सदस्य रहीं। सन 1939 से 1947 के बीच उन्हें कई बार जेल में डाला गया। वह शानदार वक्ता थीं। उन्होंने त्रावणकोर के दीवान के खिलाफ कांग्रेस के आंदोलन का नेतृत्व किया।

त्रावणकोर राज्य में मंत्री : एनी 1948 में त्रावणकोर कोचीन विधान मंडल के लिए चुनीं गईं। इस दौरान राज्य की स्वास्थ्य मंत्री भी बनीं। वे त्रावणकोर राज्य सरकार की भी पहली महिला मंत्री थीं। कांग्रेस की पुरानी सदस्य रहने के बावजूद उन्होंने पहली लोकसभा का चुनाव स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर लड़ा और जीत दर्ज की। पर एनी 1957 में दूसरी लोकसभा का चुनाव कांग्रेस उम्मीदवार से हार गईं।

संविधान सभा की सदस्य : एनी संविधान सभा के कुल 299 सदस्यों में से 15 महिला सदस्यों में एक थीं। हिंदू कोड बिल के निर्माण में भी उनकी भूमिका रही।

केरल की राजधानी में प्रतिमा लगी : एनी का 1963 में तिरुवनंतपुरम में ही निधन हो गया। सन 2013 में केरल की राजधानी में उनकी एक कांस्य प्रतिमा स्थापित की गई जिसका अनावरण तत्कालीन उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने किया।

ऐतिहासिक: 24 साल बाद आज एक मंच पर होंगे मुलायम और मायावती

सफरनामा

  • 1902 में 6 जून को त्रावणकोर में जन्म हुआ।
  • 1938 से 1946 तक आंदोलन के दौरान कई बार जेल गईं।
  • 1948 में त्रावणकोर कोचीन विधान मंडल के लिए चुनीं गईं।
  • 1957 में दूसरी लोकसभा का चुनाव हार गईं।
  • 1963 में 19 जुलाई को निधन हो गया। 
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:nari shakti know who is Annie Mascarene who won in 1951 lok sabha elections as a independent candidate