DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

लोकसभा रिजल्ट 2019: उन्नाव में साक्षी महाराज की रिकार्ड तोड़ जीत

sakshi maharaj photo ht

भाजपा प्रत्याशी डॉ. सच्चिदानंद हरि साक्षी महाराज ने उन्नाव लोकसभा क्षेत्र से बंपर जीत हासिल की। 2014 में बनाए गए अपने ही 310000 से अधिक वोटों से जीतने के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए साक्षी महाराज ने 400996 वोटों से गठबंधन प्रत्याशी अरुण शंकर शुक्ला अन्ना महाराज को पटखनी दी। मतगणना केंद्र पहुंचे साक्षी महाराज ने जीत का श्रेय पार्टी के कार्यकर्ताओं और मतदाताओं को दिया। भाजपा की बढ़त को देखते ही कार्यकर्ता खुशी से झूम उठे। मतगणना स्थल पर सिर्फ भाजपा कार्यकर्ताओं के ही भीड़ देखने को मिल रही थी।

गुरुवार सुबह मतगणना शुरू होते ही सच्चिदानंद हरि साक्षी महाराज पहले ही दौर से विरोधियों से आगे चलने लगे थे। चार राउंड तक वह मुख्य प्रतिद्वंद्वी गठबंधन प्रत्याशी से करीब 25000 वोट से आगे हो चुके थे। साक्षी महाराज का मुख्य मुकाबला सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी अरुण शंकर शुक्ला अन्ना महाराज और अन्नू टंडन के बीच माना जा रहा था मगर भाजपा प्रत्याशी के आगे कोई नहीं टिक सका। कई विरोधियों की तो जमानत जब्त हो गई। हर राउंड में साक्षी महाराज हजारों वोटों की बढ़त लेते रहे। कुल पड़े मतों में आधे 612572 मतों में साक्षी महाराज को 344317 वोट मिल चुके थे। 973385 मतों की गणना हुई तो इसमें से साक्षी महाराज को 549244 वोट मिल चुके थे। इसके बाद विरोधियों के हौसले पस्त हो गए और वे मतगणना स्थल छोड़कर चले लिए। 

अब तक साक्षी महाराज को निर्णायक बढ़त मिल चुकी थी। 1205652 वोट में साक्षी महाराज को 684164 मत मिले। अब तक गठबंधन प्रत्याशी को सिर्फ 297308 मत ही मिले थे। कांग्रेस प्रत्याशी अन्नू टंडन को 179799 वोट अब तक मिल चुके थे। 1227275 मतों की गणना हुई तो उसमें से साक्षी महाराज को 697587 मत मिल चुके थे। गठबंधन प्रत्याशी अन्ना महाराज को 300765 मत ही मिले थे। शाम करीब 3:30 बजे कुल 1235546 वोटों में अकेले साक्षी महाराज को 703507 वोट मिले। अन्ना महाराज को 302551 वोट मिले। अन्नू को 185634 वोट मिले। डीएम और जिला निर्वाचन अधिकारी देवेंद्र पांडेय ने साक्षी महाराज को जीत का प्रमाण पत्र दिया। भाजपा की जीत पर पार्टी और समर्थकों में खुशी की लहर थी। मिठाई बांटकर हर किसी ने खुशी का इजहार किया।

मतदाताओं-कार्यकर्ताओं का आभार : साक्षी
तीन लाख की निर्णायक बढ़त मिलने के बाद मतगणना स्थल पहुंचे साक्षी महाराज ने कहा कि यह जीत मतदाताओं और पार्टी के कार्यकर्ताओं की है। मतगणना खत्म होगा तो देश की बड़ी जीत में इसे शामिल किया जाएगा। सभी ने सहयोग किया और इसके लिए वह उनके आभारी हैं।

उन्नाव में अब तक दूसरी सबसे बड़ी जीत
1952 से लेकर अब तक उन्नाव लोकसभा की यह दूसरी सबसे बड़ी जीत है। 2014 के लोकसभा चुनाव में साक्षी महाराज ने 310000 मतों से जीत हासिल की थी। इस बार जीत हासिल कर साक्षी महाराज ने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया। साक्षी महराज को इस बार 56.85 फीसदी वोट मिले। 1977 में इमरजेंसी के बाद बीएलडी के राघवेंद्र सिंह को 69.62 फीसदी वोट मिले थे। 400996 वोटों के बड़े अंतर से जीतने वाले साक्षी महराज पहले सांसद हैं। 

आठ प्रत्याशियों के कुल वोट भी साक्षी से कम
चुनाव मैदान में 9 प्रत्याशी ताल ठोंक रहे थे। 8 प्रत्याशी और नोटा मिलाकर जितने वोट मिले हैं उससे कहीं ज्यादा वोट साक्षी महाराज को मिले। चुनाव मैदान में ताल ठोंक रहे लगभग सभी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो चुकी है। गठबंधन प्रत्याशी और कांग्रेस प्रत्याशी ने मिलकर करीब 5 लाख वोट हासिल किए। एक तरह से देखा जाए तो अगर यह तीनों पार्टियां मिलकर लड़ती तब भी भाजपा प्रत्याशी को हराना मुश्किल था।

मोदी की सुनामी और लाखों से जीतने का किया था दावा
29 अप्रैल को मतदान के दिन साक्षी महाराज ने कहा था कि मोदी की सुनामी चल रही है। विरोधी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो जाएगी। साक्षी महाराज ने 4 से पांच लाख वोटों से जीतने का दावा किया था। चुनाव परिणाम आए तो उनकी भविष्यवाणी सही हुई और वह करीब चार लाख मतों जीतकर इस लोकसभा से दोबारा संसद के गलियारे तक पहुंचे।

टिकट को लेकर चिट्ठी से आए थे चर्चा में
लोकसभा चुनाव से पहले टिकट वितरण हो रहा था तो साक्षी महाराज ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र पांडे को चिट्ठी लिखकर खुद को टिकट देने की मांग की थी। उस समय दावा किया था कि वही ऐसे प्रत्याशी हैं, जो भाजपा को यह सीट जीत कर दे सकते हैं। भाजपा से दोबारा टिकट मिलने के बाद साक्षी महाराज ने पूरी मजबूती के साथ चुनाव लड़ा और रिकार्ड जीत हासिल की।

सभी विधानसभा क्षेत्र में झूम कर मिला वोट
चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा के दिग्गजों ने ऐलान किया था कि अब कि विरोधियों का सफाया हो जाएगा। भाजपा नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी के नाम पर वोट देने की अपील की थी। मतदाताओं ने प्रधानमंत्री के नाम पर पूरी मजबूती से वोट की चोट मारी। सभी बूथों पर भाजपा ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। यही वजह थी कि इस सीट पर भाजपा प्रत्याशी साक्षी महाराज को बंपर जीत मिली।

प्रत्याशी बदलने और गठबंधन का नहीं मिला लाभ
सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को इस सीट पर मायूसी झेलनी पड़ी। सपा के खाते में आई इस सीट पर पहले इलाहाबाद पश्चिम की विधायक रहीं पूजा पाल को चुनाव मैदान में उतारा गया था। नामांकन से 2 दिन पहले उनका टिकट बदलकर सपा ने पूर्व प्रत्याशी रहे अरुण शंकर शुक्ला अन्ना को टिकट दे दिया। चुनाव मैदान में सपा का दोनों दांव बुरी तरह से फेल रहे। गठबंधन का वोट एकजुट नहीं हो सका और भाजपा ने इस सीट पर मजबूती से जीत हासिल की। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Result 2019 Sakshi Maharaj record breaking victory in Unnao