DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

लोकसभा चुनाव 2019: नेतृत्व और भाषण देने की कला भी डालती है युवा वोटर पर असर

युवाओं के बीच रोजगार चुनावी मुद्दा जरूर है, लेकिन सिर्फ यही मुद्दा वोट डालने की वजह नहीं होता। युवा मतदाताओं पर मजबूत नेतृत्व व भाषण देने की कला भी असर डालती है। एक सर्वे रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। 

पॉलिसी थिंक टैंक चेज इंडिया की ओर से यह सर्वे 24 मार्च से 7 अप्रैल के बीच यूपी, बिहार सहित देश के करीब एक दर्जन राज्यों में 18 से 35 साल के उम्र के लोगों के बीच किया गया है। इसके मुताबिक वोट के लिहाज से 28 से 35 साल की उम्र के युवा सबसे ज्यादा रोजगार के मुद्दे को तरजीह देते हैं। इनमें से ज्यादातर ऐसे हैं जो कई बार परीक्षा देने के बावजूद अपनी मंजिल नहीं पा सके हैं। या नौकरियों के इंतजार में वे हताश नजर आते हैं। 

पहली बार के वोटर के लिए परसेप्शन अहम
सर्वे में कहा गया है कि पहली बार वोट देने वाले 18 साल से ज्यादा उम्र के युवाओं के लिए मजबूत नेतृत्व और नेता के बारे में परसेप्शन किसी उम्मीदवार के पक्ष या विरोध में वोट डालने की प्रमुख वजह बनता है। किसी दल या नेता के बारे में बना माहौल भी इनपर असर डालता है। इन मतदाताओं में से करीब 52 फीसदी मानते हैं कि अगर नेता मजबूत है तो वह सकारात्मक बदलाव करने में सक्षम हो सकता है। नेता के भाषण देने की कला भी 49 फीसदी वोटर्स को प्रभावित करती है। 

रोजगार पर आंख मूंदकर भरोसा नहीं
सर्वे में दावा किया गया है कि रोजगार के मुद्दे को लेकर अलग अलग उम्र के लोगों में चर्चा के बावजूद यह वोट के लिहाज से सर्वाधिक प्राथमिकता में नहीं होता। चेज इंडिया के निदेशक मानस नियोग का कहना है कि शायद कोई भी राजनीतिक दल युवाओं में रोजगार को लेकर प्रभावी भरोसा पैदा नहीं कर पाया है, इसलिए चुनाव में अन्य मुद्दे प्रभावी हो जाते हैं। करीब 53 फीसदी युवा मानते हैं कि कमोवेश सभी पार्टियों का रोजगार के मुद्दे पर ढुलमुल रवैया रहता है। हालांकि 39 फीसदी 28 से 35 साल के युवा मानते हैं कि अगर रोजगार पर स्पष्ट गारंटी नजर आए तो इस मुद्दे पर वोट दिया जा सकता है। 

जाति समीकरण में अहम
18 से 35 की उम्र के युवा अपनी जाति के प्रभावी नेता को चुनना चाहते हैं यूपी, बिहार में 
37 फीसदी युवा वोटर मानते हैं कि चुनाव में जाति भी महत्वूपर्ण भूमिका अदा करती है। 
33 प्रतिशत युवा के लिए जाति, नेता की क्षमता और उनकी पाटी भी मायने रखता है।

आजम को भड़काऊ बयान के लिए EC का एक और नोटिस, 24 घंटे में मांगा जवाब 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections Leadership and Speech also puts art on impact of youth voters