DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

मैदान के महारथी: टीपू से सुल्तान बने अखिलेश की अब असली परीक्षा

टीपू से उत्तर प्रदेश के सुल्तान बन चुके अखिलेश यादव अब यहां की सियासत में बड़ी भूमिका में हैं। बसपा के साथ गठबंधन कर उनकी पार्टी 36 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। वह खुद अपने पिता मुलायम सिंह यादव की सीट आजमगढ़ से प्रत्याशी हैं। उनकी पत्नी डिंपल यादव कन्नौज से, पिता मुलायम सिंह यादव मैनपुरी से दोबारा चुनाव लड़ रहे हैं। गठबंधन की विजय के लिए मायावती के साथ वह अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए इन दिनों साथ साथ संयुक्त रैलियां तक कर रहे हैं।

अखिलेश यादव खुद को देश का समाजवादी नेता के साथ किसान, इंजीनियर, पर्यावरणविद व सामाजिक कार्यकर्ता भी बताते हैं। सपा की कमान हाथ में लेने के बाद अखिलेश यादव के लिए यह पहला लोकसभा चुनाव है। भाजपा के हाथों सत्ता गंवाने के बाद उन्होंने बड़ा कदम उठाया और बरसों घोर दुश्मन रही बसपा से चुनावी गठजोड़ किया। बेशक इसके लिए उन्होंने सीटों की तादाद और प्रभाव के लिहाज से कुछ समझौता भी किया। यूपी की सियासत में ‘बुआ-भतीजे’ की यह जोड़ी अब जगह-जगह संयुक्त रैलियां कर रही है। पहले चरण का चुनाव हो जाने के बाद अखिलेश यादव खासे उत्साहित व आत्मविश्वास में भरे नजर आ रहे हैं।

अखिलेश यादव को अहसास है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में उनके परिवार व पार्टी में चल रही रार के चलते सपा को खासा नुकसान हुआ था। यह अखिलेश यादव का राजनीतिक कौशल ही कहा जाएगा कि उन्होंने विपक्षी एका को काफी हद तक धार दी है। एक वक्त था कि जब मुलायम सिंह ने अपने बेटे टीपू (अखिलेश का घर का नाम) की शादी के कुछ ही समय बाद सियासत में उतारते हुए कन्नौज लोकसभा का उपचुनाव लड़ा दिया। वह सांसद बने। उसके बाद उन्होंने खुद को सड़क पर संघर्ष करने वाले युवा समाजवादी नेता के तौर पर पेश किया। 2012 के विधानसभा चुनाव में सपा को पहली बार पूर्ण बहुमत मिला और मुलायम ने टीपू को यूपी का सुल्तान बना दिया।

मुख्यमंत्री के रूप में पहचान बनाई
अखिलेश यादव को यूपी में मेट्रो परियोजनाएं संचालन करने, लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे जैसी इंफ्रास्ट्रक्चर आधारित प्रोजेक्ट के साथ-साथ युवाओं को लैपटॉप व गरीब महिलाओं को पेंशन दिए जाने की योजनाएं शुरू कीं। ‘फोर लेन रोड’ के साथ-साथ पूर्वांचल एक्सप्रेस वे परियोजना भी उन्हीं की देन है।

राजनीतिक जीवन

  • वर्ष 2000 में कन्नौज से 27 साल की उम्र में उप चुनाव जीतकर संसद पहुंचे
  • 2004 व 2009 में भी लोकसभा चुनाव जीता
  • 2012 में अखिलेश के नेतृत्व में सपा ने विधानसभा चुनाव जीता
  • 38 वर्ष की आयु में देश की सबसे बड़े राज्य यूपी के सीएम बने
  • अब वह आजमगढ़ लोकसभा चुनाव से मैदान में हैं।

निजी जीवन 

  • 1 जुलाई, 1973 को सैफई में जन्म हुआ
  • सिविल इनवायरमेंटल इंजनीयरिंग में मास्टर्स डिग्री
  • ऑस्ट्रेलिया से पर्यावरण इंजीनियरिंग में भी मास्टर डिग्री
  • 1999 में डिंपल यादव से शादी की
  • अखिलेश की दो बेटियां और एक बेटा है

सोशल मीडिया प्रोफाइल

  • 93.6 लाख फॉलोअर्स ट्विटर पर अखिलेश के
  • 2300 के करीब ट्वीट कर चुके हैं अब तक
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections is the real test of Akhilesh Yadav