DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

लोकसभा चुनाव 2019: तीसरे चरण में 117 सीटों पर वोटिंग, पिछली बार बीजेपी ने जीती थी 62 सीटें

bjp in lok sabha election 2019

देश में सात चरणों में हो रहे लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में मंगलवार को देश के तेरह राज्य और दो केन्द्र शासित प्रदेश की 117 सीटों पर मतदान होने जा रहा है। इस चरण के साथ गुजरात, केरल, गोवा, कनार्टक, छत्तीसगढ़, असम, दादर नागर हवेली और दमन-दीव की सभी लोकसभा सीटों पर मतदान पूरा हो जाएगा।

तीसरे चरण में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस, दोनों दलों के प्रमुख चुनाव मैदान में हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पहली बार लोकसभा चुनाव में उतर हैं। वह गांधीनगर से पाटीर् के प्रत्याशी हैं, जबकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस चरण में केरल के वायनाड संसदीय क्षेत्र से उम्मीदवार हैं।

तीसरे चरण की 117 सीटों में से भाजपा का लक्ष्य अपनी 62 सीटों को बचाने का होगा जहां पाटीर् ने 2014 मे जीत हासिल की थी। इसलिए यह चरण भाजपा के लिए काफी अहम है।

116 में से कांंग्रेस ने जीती थी 16 सीटें

पिछले चुनाव में इनमें से 16 सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशी जीते थे, जबकि अन्य सीटें बीजद (6), माकपा (7), राकांपा (4), समाजवादी पाटीर् (3), शिवसेना (2), राजद (2), एआईयूडीएफ (2), आईयूएमएल (2), लोजपा (1), पीडीपी (1), आरएसपी (1), केरल कांग्रेस-एम (1), भाकपा (1), स्वाभिमानी पक्ष (1), तृणमूल कांग्रेस (1) और निर्दलीय (3) की झोली में गई थीं।

इस बार भाजपा की परीक्षा उसका गढ़ रहे गुजरात में होगी जहां प्रदेश की सभी 26 लोकसभा सीटों पर मतदान होगा। इसके अलावा, कनार्टक, छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश में भी भाजपा की परीक्षा होगी जहां पिछले लोकसभा चुनाव 2०14 में पार्टी का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा था।

भाजपा ने इस चरण में मतदान वाली सीटों पर 2014 में गुजरात की सभी 26 सीटों, कनार्टक की 14 में से 11 सीटों और उत्तर प्रदेश की 10 सीटों में से आठ पर, छत्तीसगढ़ की सात में से छह सीटों पर, महाराष्ट्र की 14 में से छह सीटों पर, गोवा की दोनों सीटों पर और असम, बिहार, दादर नागर हवेली और दमन-दीव की एक-एक सीटों पर जीत हासिल की थी।

गृह राज्य से पीएम मोदी को काफी उम्मीद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का गृह राज्य होने के कारण भाजपा इस बार भी गुजरात की सभी सीटों पर जीत हासिल करने की उम्मीद लगाए बैठी है। लेकिन, कांग्रेस ने 2017 के विधानसभा चुनाव में प्रदेश में भाजपा को कड़ी चुनौती थी, इसलिए कांग्रेस भी 10 से 15 सीटों पर इस बार जीत की उम्मीद कर रही है।

गुजरात के तीन युवा नेता हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी ने विधानसभा चुनाव में प्रदेश में कांग्रेस की पकड़ मजबूत बनाने में मदद की थी, लेकिन इस बार वे चुनाव की दौड़ में शामिल नहीं हैं।

पाटीदार नेता पटेल पिछले महीने कांग्रेस में शामिल हुए, लेकिन दंगा से संबंधित मामले में अभियुक्त होने के कारण वे चुनाव नहीं लड़ पाए, जबकि ठाकोर ने इसी महीने कांग्रेस का दामन छोड़ दिया।

कनार्टक में मंगलवार को जिन 14 सीटों पर मतदान हो रहा है, वहां भाजपा की स्थिति मजबूत मानी जा रही है, लेकिन उसे कांग्रेस-जनता दल (एस) गठबंधन से कड़ी चुनौती मिल रही है। उधर, भाजपा को उत्तर प्रदेश में भी तीसरे चरण में यादव बहुल इलाके में कड़ी चुनौती मिल रही है।

समाजवादी पार्टी का गढ़ रहे मैनपुरी, बदायूं और संभल लोकसभा क्षेत्रों में मंगलवार को मतदान होने जा रहा है और बहुजन समाज पाटीर् (बसपा) के साथ गठबंधन होने के बाद इन क्षेत्रों में सपा की संभावना को मजबूती मिली है। यह भी एक राय है कि कांग्रेस भी भाजपा का ही वोट काटेगी।

ये भी पढ़ें: समाजावादी पार्टी ने इस सीट से बदल डाले अपने घोषित उम्मीदवार

प्रगतिशील समाजवादी पाटीर् (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव फिरोजाबाद से अपने भतीजे व सपा उम्मीदवार अक्षय यादव के खिलाफ चुनाव मैदान में हैं और वह सपा-बसपा गठबंधन के विरोध में लोगों को वोट करने कह रहे हैं। सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव मैनपुरी से चुनाव लड़ रहे हैं।

महाराष्ट्र में तीसरे चरण में बारामती, माधा, कोल्हापुर और सतारा समेत राष्ट्रवादी कांग्रेस पाटीर् (राकांपा) के गढ़ में मतदान हो रहा है। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार की पुत्री सुप्रिया सुले बारामती से चुनाव मैदान में हैं।

छत्तीसगढ़ में भाजपा ने अपनी सभी मौजूदा सांसदों को बदल दिया है। पाटीर् को प्रदेश में 15 साल बाद पिछले साल सत्ता में वापस आई कांग्रेस से चुनौती मिल रही है।

बिहार में इस चरण में जिन क्षेत्रों में चुनाव हो रहा है उनमें से भाजपा को 2०14 में सिर्फ एक सीट पर जीत मिली थी और पाटीर् इस बार भी इनमें से एक ही सीट पर चुनाव लड़ रही है, जबकि भाजपा की सहयोगी पाटीर् जनता दल (युनाइटेड) तीन सीटों पर और लोकजनशक्ति पाटीर् (लोजपा) एक सीट पर चुनाव लड़ रही है।

वहीं, महागठबंधन में शामिल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) तीन सीटों पर जबकि कांग्रेस और विकासशील इन्सान पाटीर् (वीआईपी) एक-एक सीट पर चुनाव लड़ रही हैं।

मुख्य मुकाबला मधेपुरा में है जहां वर्तमान सांसद पप्पू यादव (पिछली बार राजद के टिकट पर) इस बार अपने ही दल जन अधिकार पाटीर् के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं और उनके खिलाफ राजद उम्मीदवार शरद यादव चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल जदयू के टिकट पर दिनेश चंद्र यादव चुनाव मैदान में हैं। मधेपुरा में इस बार त्रिकोणीय संघर्ष है।

ओडिशा के पुरी लोकसभा क्षेत्र में भी त्रिकोणीय संघर्ष है जहां तीन प्रमुख दलों के प्रवक्ताओं के बीच लड़ाई है। वर्तमान सांसद और बीजू जनता दल (बीजद) प्रवक्ता पिनाकी मिश्र का मुकाबला भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा से है, जबकि कांग्रेस के मीडिया सेल अध्यक्ष सत्यप्रकाश नायक भी चुनावी मैदान में हैं।

असम में चार लोकसभा क्षेत्रों में मंगलवार को मतदान होगा जहां कांग्रेस और ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) को नागरिकता (संशोधन) विधेयक को लेकर भाजपा के विरोध का लाभ मिलने की उम्मीद है।

केरल में राहुल गांधी वायनाड लोकसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में हैं। प्रदेश की 2० लोकसभा सीटों में से आठ पर पाटीर् ने 2०14 में जीत दर्ज की थी और उसके सहयोगियों ने भी कुछ सीटों पर जीत हासिल की थी। भाजपा भी केरल में चार सीटों पर जीत की उम्मीद लगा रही है।

पश्चिम बंगाल में बहुकोणीय संघर्ष है जहां तृणमूल कांग्रेस, भाजपा, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पाटीर् (माकपा), कांग्रेस अपने-अपने दावे ठोंक रहे हैं।

ये भी पढ़ें: अमेठी में दिखे प्रियंका गांधी के तेवर, बोलीं यहां जनता भीख नहीं मांगती

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections 2019 Voting for 116 seats in third phase BJP last time won 62 seats