lok sabha elections 2019 profit or loss in uttar pradesh will change political scene - लोकसभा चुनाव 2019 : यूपी में नफा-नुकसान सियासी तस्वीर बदल देगा DA Image
10 दिसंबर, 2019|7:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव 2019 : यूपी में नफा-नुकसान सियासी तस्वीर बदल देगा

mulayam yadav real leader of backwards not fake one like pm modi says mayawati in mainpuri rally

उत्तर प्रदेश में फिफ्टी-फिफ्टी का नफा-नुकसान देश की सियासी तस्वीर का रुख तय कर देगा। अगर यहां भाजपा पिछले लोकसभा चुनाव व विधानसभा चुनाव का प्रदर्शन बरकरार रखती है तो गठबंधन के लिए अपनी सियासी जमीन बचाए रखना मुश्किल हो जाएगा। वहीं कांग्रेस को भी हाशिए पर आने का डर होगा। लेकिन मुकाबला गठबंधन के साथ बराबरी पर छूटा और सीटें बंट गईं तो यहां के नुकसान की भरपाई करना अन्य राज्यों से संभव नहीं होगा। 

जानकारों का कहना है कि यूपी के बाद जो भी दूसरे बड़े राज्य हैं उनकी सीटें यहां के मुकाबले आधी हैं। इसलिए यहां की निर्णायक बढ़त समग्र चुनावी तस्वीर के लिहाज से प्रभावी होगी। लिहाजा आखिरी दो चरणों में बची यूपी की 27 सीटों पर चुनाव के लिए सभी दल अपने तरकश के हर तीर आजमा रहे हैं।

पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा को मिले वोट प्रतिशत और सपा-बसपा को अलग-अलग वोट मिलाकर साझा मत प्रतिशत की तुलना करें तो आंकड़ा ऐसा है कि चुनावी मुकाबला लगभग बराबरी का है। लेकिन जमीन पर अगर कांग्रेस को मिलने वाले वोट भी गठबंधन की ओर रुख कर जाएं या गठबंधन का वोट कांग्रेस के खाते में चला जाए तो पूरा समीकरण अप्रत्याशित रूप से पलट सकता है। 

फिलहाल गठबंधन और कांग्रेस के बीच कोई समझौता नहीं हुआ है लेकिन जानकार मान रहे हैं कि कई सीटों पर सुनियोजित चतुराई भरा वोटिंग पैटर्न देखने को मिल सकता है। गठबंधन और कांग्रेस उम्मीदवारों में से जो भी भाजपा विरोधी मतदाताओं के बीच संभावित विजेता नजर आएगा उसके पक्ष में टैक्टिकल वोटिंग की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।

मतों का विभाजन रोकने पर फोकस
कम्युनिकेशन एक्सपर्ट अनूप शर्मा ने कहा कि कई बार राजनीतिक दलों की कवायद से प्रभावित हुए बिना मतदाता टैक्टिकल वोटिंग (चतुराई भरा रणनीतिक मतदान) करता है। ऐसे में सारे समीकरण बदल जाते हैं। अभी तक जो रुझान हैं उनमें भाजपा और गठबंधन यूपी में जबरदस्त लड़ाई में नजर आ रहे हैं। लेकिन मतों का थोड़ा सा फर्क पूरी तस्वीर बदल सकता है। इसलिए आखिरी चरणों में विरोधी दलों की पूरी कोशिश यही होगी कि मतों का विभाजन रोका जाए।

इसे भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव 2019 : बजरंगबली में आस्था, मैं आग नहीं उगलता : योगी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lok sabha elections 2019 profit or loss in uttar pradesh will change political scene