DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

Lok Sabha Elections: जयपाल सिंह मुंडा खेल के मैदान से चुनते थे प्रत्याशी

                                              photo- tentaran com

आजकल पार्टी के प्रत्याशियों का चयन धनबल और उसकी लोकप्रियता को देखकर होता है। लेकिन एक वो भी दौर था जब एक पार्टी अपने प्रत्याशियों का चयन खेल के मैदान से किया करती थी।

ऐसा करते थे आदिवासी मसले को राष्ट्रीय पटल पर लाने वाले मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा। वे 1939-49 तक अखिल भारतीय आदिवासी महासभा के अध्यक्ष रहे और झारखंड पार्टी की स्थापना कर 1950-63 तक इसके अध्यक्ष बने रहे। जयपाल सिंह की प्रत्याशी चुनने की प्रक्रिया निराली थी। वे खेल के मैदान में खेलते हुए खिलाड़ी के गुण को परखते थे। इसके बाद उनमें से पार्टी के लिए प्रत्याशी चुनते थे।

कांग्रेस के 'चौकीदार चोर है' विज्ञापन पर चुनाव आयोग ने लगाई रोक, जानें क्या कहा

एक बार वे सिंहभूम में थे। वहां फुटबाल मैच चल रहा था। मैच समाप्ति के बाद जयपाल सिंह एक खिलाड़ी सुखराम मांझी से मिले। उनसे कहा कि मैदान में आप अच्छा खेलते हैं यदि आपकी इच्छा हो तो क्या आप हमारी पार्टी से चुनाव लड़ेंगे।

चार भाषाओं में देते थे राजनीतिक भाषण
आदिवासी समाज के चर्चित नेताओं में शूमार जयपाल सिंह जनसभाओं को अपने ढंग से ही संबोधित करते थे। पढ़े-लिखे होने के साथ वे कई वर्ष विदेश में भी रहे। परंतु जनजातीय भाषाओं व झारखंडी भाषाओं पर उनकी अच्छी पकड़ थी। वे जानते थे कि जिस क्षेत्र व लोगों को वे संबोधित कर रहे हैं वे उनकी बातों को कैसे समझेंगे। इसलिए वे अपना भाषण चार भाषाओं में देते थे- सादरी, मुंडारी, हिंदी और अंग्रेजी।

चयन स्थल पर प्रत्याशी की घोषणा
जयपाल सिंह अपनी पार्टी का प्रत्याशी ऑन द स्पॉट भी चुनते थे। किसी सम्मेलन, जनसभा में जाते थे तो वहां सार्वजनिक रूप से नाम की घोषणा करते थे। वे जनसमूह की मांग और उसके द्वारा प्रस्तावित नाम को प्रत्याशी के रूप में ऑन द स्पॉट चुन लेते थे।

Odisha Assembly Elections: बीजेपी उम्मीदवार की कार से चार लाख रुपये बरामद

भाषण देते समय कंधे पर मुर्गा
जयपाल सिंह मुंडा जब भी भाषण देते थे तो उनके कंधे पर मुर्गा रहता था। मुर्गा ही उनकी पार्टी का निशान था। जब वे अपनी कार से कही सफर करते थे तो आगे की सीट पर ड्राइवर के बगल में आदिवासी समाज के चर्चित नेता एस.के. बागे बैठते थे, जबकि पीछे जयपाल सिंह मुंडा और मुर्गा होता था। एक बार 1952 में वे एक गांव गए। वहां ग्रामीणों ने उपहार स्वरूप उन्हें खस्सी (बकरा) दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lok sabha elections 2019 jaipal singh munda select candidates from sports background