DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

लोकसभा चुनाव 2019 : चुनावों में बढ़ती जा रही है छोटी और स्थानीय पार्टियों की तादाद

चुनाव लड़ने का चस्का कम होने का नाम नहीं ले रहा। चुनाव लड़ना चाहे महंगा हो या कठिन लेकिन न चुनावी समर में भाग्य आजमाने वाले व्यक्ति की और न ही इसके लिए बनने वाले दलों की संख्या रुकने का नाम ले रही है। नतीजा विधानसभा चुनाव हो या लोकसभा, समय के साथ दोनों ही चुनावों में छोटी और स्थानीय पार्टियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। 

आलम यह है कि राष्ट्रीय स्तर पर पिछले तीन लोकसभा चुनावों में ही छोटी एवं राज्यस्तरीय पार्टियों की संख्या दोगुनी हो चुकी है। हालांकि राष्ट्रीय दलों की संख्या पिछले लोकसभा चुनाव से कम हो गई है। वहीं प्रदेश स्तर पर चुनाव लड़ने वाली छोटी पार्टियों की तो बाढ़ सी आती जा रही है। यूपी विधानसभा चुनावों के दो दशकों में छोटे व स्थानीय दल चार से पांच गुना बढ़ गए, जबकि राष्ट्रीय दलों की संख्या कम होती चली गई। वर्ष 1991 के बाद के विधानसभा चुनावों में उतरे राजनीतिक दलों पर नजर डालें तो  चुनाव दर चुनाव छोटे एवं स्थानीय दलों की संख्या बढ़ती चली गई लेकिन इस दौरान राष्ट्रीय दल कम होते चले गए। 

वर्ष 1991 में प्रदेश में जहां मात्र चार राज्यस्तरीय पार्टियां थीं, 2007 में 12 तक उनकी संख्या पहुंच गई। पर, ठीक इसके बाद 2012 के विधानसभा चुनाव में यह संख्या दो पर पहुंच गई। राष्ट्रीय पार्टियों की स्थिति इससे बिलकुल भिन्न रही। 1991 के विधानसभा चुनाव में नौ राष्ट्रीय दल थे, जबकि 2012 के चुनाव में यह संख्या छह पर ही स्थिर रही। 

जानकारों की मानें तो निर्वाचन आयोग के राज्य स्तरीय व राष्ट्रीय दल घोषित किए जाने के मानक को पूरा नहीं किए जाने के कारण राष्ट्रीय दलों या राज्यस्तरीय दलों की संख्या में एकदम से वृद्धि नहीं  हो पा रही है, जबकि छोटे-छोटे  दलों की संख्या लगातार बढ़ती चली जा रही है।

राजनीतिक दलों की मान्यता के ये हैं मानक

राष्ट्रीय दल

कोई पंजीकृत दल जो निम्न शर्तों  में से कोई एक शर्त पूरी करता हो  तो उसे राष्ट्रीय स्तर की मान्यता चुनाव आयोग की ओर से मिल  जाती है 

कोई पंजीकृत दल जिसने तीन राज्यों में कम से कम लोकसभा की कुल सीटों की दो प्रतिशत सीटें हासिल की हों।

कोई दल लोकसभा या विधानसभा चुनाव में कम से कम छह फीसदी मत पाया हो और लोकसभा में कम से कम चार सीटें हासिल की हों।

किसी भी दल को कम से कम चार या उससे अधिक राज्यों में राज्य स्तर की मान्यता हो।

राज्यस्तरीय दल
ऐसी पार्टियां या दल जिनके पास किसी एक राज्य में पर्याप्त वोट या सीटें हों, उसे चुनाव आयोग द्वारा राज्यस्तरीय पार्टी के रूप में अधिकृत किया जा सकता है। संबंधित राज्य में मान्यता मिलने से दल को विशेष चुनाव चिह्न आरक्षित करने का विकल्प मिल सकता है। एक पार्टी को एक या अधिक राज्यों में मान्यता प्राप्त हो सकती है। चार राज्यों में मान्यता प्राप्त पार्टी को स्वत: ही राष्ट्रीय पार्टी के रूप में मान्यता मिल जाती है। राज्य स्तर की मान्यता के लिए चुनाव आयोग में पंजीकृत दल को निम्न में किसी एक शर्त को पूरा करना अनिवार्य होता है।

दल को विधानसभा चुनाव में कम से कम कुल सीटों की तीन प्रतिशत सीटें या तीन सीटें जीतना अनिवार्य होता है।

दल को राज्य में निर्धारित लोकसभा सीटों में प्रत्येक 25 सीटों पर एक या कम से कम एक या उसके अंश पर जो राज्य में निर्धारित हो।

दल को लोकसभा/विधानसभा के चुनाव में वैध मतों का कम से कम छह प्रतिशत मत प्राप्त हो, तथा लोकसभा में कम से कम एक सीट और विधानसभा में दो सीटों पर विजय प्राप्त की हो।

यदि दल ने लोकसभा और विधानसभा में कोई सीट न जीती हो लेकिन यदि उसने लोकसभा/विधानसभा चुनाव में वैध मतों के 8% मत हासिल किए हों।

यदि किसी राजनीतिक दल को चार से कम राज्यों में मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल के रूप में माना जाता है, तो इसे उस राज्य या उन राज्यों में जहां इसे मान्यता प्राप्त एक राज्यीय दल के रूप में माना जाएगा, परन्तु केवल तब तक जब तक कि उक्त राज्य या राज्यों में लोकसभा या राज्य की विधानसभा के किसी भी अनुवर्ती साधारण के परिणामों के आधार पर मान्यता के लिए शर्तों को पूरी करता रहे।

यदि किसी राजनीतिक दल को चार या उससे अधिक राज्यों में एक मान्यता प्राप्त दल के रूप में माना जाता है, तो इसे पूरे देश में एक राष्ट्रीय दल के रूप में जाना जाएगा, परन्तु केवल तब जब कि राजनीतिक दल या तो लोकसभा या किसी राज्य की विधानसभा के अनुवर्ती साधारण निर्वाचन की परिणामों के आधार पर चार या उससे अधिक राज्यों में मान्यता के लिए शर्तों को इसके पश्चात पूरी करता रहे। 

लोकसभा चुनावों में दलों की स्थिति
चुनाव वर्ष    मैदान में दल    राष्ट्रीय पार्टी    राज्यस्तरीय पार्टी 
2014            462                 06                  456
2009            364                 07                  357
2004            231                 06                  225       

यूपी विधानसभा चुनावों में पार्टियों की स्थिति
2017    303    06    297        
2012    223    06    217
2007    131    06    125
2002    092    06    86 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections 2019: Elections are increasing in smaller and local parties