DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

लोकसभा चुनाव 2019: जौनपुर संसदीय सीट के लिए मतगणना शुरू, 32 राउंड बाद मिलेगा रिजल्ट

जौनपुर जिले में जौनपुर अौर मछलीशहर दो लोकसभा सीटें हैं। नवीन मंडी समिति चौकियां में दोनों सीटों के लिए गिनती शुरू हो चुकी है। प्रत्येक विधानसभा में 14 के अलावा दो अन्य टेबल लगे हैं। पहला रुझान साढ़े 9 बजे से आने की सम्भावना है। 

मतगणना के लिए 171 पर्यवेक्षक, 171 माइक्रोआब्जर्वर, 171 मतगणना सहायक, 171 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी लगाए गए हैं। एक विधानसभा क्षेत्र में 14 टेबल लगें हैं। एक टेबल पर चार कर्मचारी हैं। 

इसमें केराकत में सबसे अधिक 32 राउंड तो मड़ियाहूं में सबसे कम 25 राउंड मतगणना की जाएगी। जिले में कुल नौ विधानसभा है, इसमें मछलीशहर लोकसभा क्षेत्र का एक विधानसभा पिंडरा वाराणसी में आता है। वहां से हर राउंड का इनपुट मिलने पर यहां जोड़ा जाएगा। जौनपुर लोकसभा क्षेत्र के विधानसभा बदलापुर में 26, शाहगंज में 27, जौनपुर में 30, मल्हनी में 27, मुंगराबादशाहपुर में 28 राउंड मतगणना होगी। मछलीशहर लोकसभा क्षेत्र के विधानसभा मछलीशहर में 29, मड़ियाहूं में 25, जफराबाद में 28, केराकत में 32 राउंड मतगणना होगी। लोकसभा चुनाव के मतगणना के मद्देनजर इस बार बड़े पैमाने पर सुरक्षा के इंतजाम किए गए है। ड्रोन कैमरे से मतगणना स्थल की निगरानी हो रही है। 

वाराणसी से 60 किलोमीटर उत्तर की ओर सिराजे हिन्द की नगरी के नाम से प्रसिद्ध जौनपुर उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। वाराणसी का पड़ोसी जिला होने के साथ ही यहां की सीमा इलाहाबाद से भी सटी है। यहां दो लोकसभा सीट है। एक जौनपुर के नाम से है अौर दूसरी को मछलीशहर लोकसभा सीट कहते हैं। आइये जानें दोनों सीटों के बारे में....

जौनपुर की स्थापना 14वीं शताब्दी में फिरोज शाह तुगलक ने अपने भाई मुहम्मद बिन तुगलक की याद में की थी। इसका वास्तविक नाम जौना खां था जो बदलकर जौनपुर हो गया। 1394 के लगभग मलिक सरवर ने जौनपुर को शर्की साम्राज्य के रूप में स्थापित किया।

4038 वर्ग किमी क्षेत्रफल में बसे जौनपुर की पहचान पुरातात्कि धरोहरों के कारण है। बहुत सी मस्जिदें और राजा के किले, मंदिर बने हुए हैं जो जिले के इतिहास में चार चांद लगा देते हैं। यहां पर स्थापित अटाला मस्जिद, शाही किला, शाही पुल छह सौ वर्षों से लोगों को आकर्षित कर रहे हैं। इसे देखने काफी टूरिस्ट यहां आते रहते हैं। 

इसके अलावा सैकड़ों वर्ष पूर्व चौकियां स्थित मां शीतला का धाम है जहां दर्शन के बाद ही लोग मिर्जापुर मां विन्ध्याचल का दर्शन करते हैं। जिले की पहचान मूली, मक्का और उच्च शिक्षा के रूप में भी होती है। 73.66 फीसदी यहां के लोग शिक्षित हैं। 

जौनपुर जिला गाजीपुर, आजमगढ़, प्रतापगढ़ व वाराणसी, भदोही से घिरा है। यहां दो लोकसभा क्षेत्र हैं एक जौनपुर शहर और दूसरा मछली शहर। जौनपुर लोकसभा सीट पर 1952 से 62 तक आचार्य बीरबल ने जीत की। इसके बाद तीन वर्ष राजदेव सिंह का परचम लहराया। 

 

2014 में केपी सिंह बने सांसद

भाजपा केपी सिंह (विजेता) 3 67149 मत  

बसपा सुभाष पांडेय             220 839 मत  

सपा पारसनाथ यादव             180003 मत  

वोट प्रतिशत रहा 54.50 फीसदी मत

इस बार मतदाताअों की संख्या

मतदाताओं की संख्या 1774987 हैं

पुरूष मतदाता 943230,   

महिला मतदाता 831679

 

इस बार यहां से प्रमुख प्रत्याशी

भाजपा से प्रत्याशी केपी सिंह

बसपा (गठबंधन) श्याम सिंह यादव

कांग्रेस देव व्रत मिश्र

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections 2019 Counting of votes for Jaunpur parliamentary seat results after 32 rounds