DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

 लोकसभा चुनाव 2019 : इन आठ सीटों पर सपा प्रत्याशी तय न होने से दावेदार बेचैन

चुनावी परीक्षा नजदीक आती जा रही है, पर समाजवादी पार्टी आठ सीटों पर अभी तक अपने प्रत्याशी तय नहीं कर पा रही है। चयन को लेकर पार्टी के भीतर खासी ऊहापोह है तो दावेदारों में अलग तरह की बेचैनी है। नामांकन का आखिरी वक्त भी करीब आ रहा है। दावेदारों में इस बात को लेकर परेशानी है कि अगर ऐन वक्त पर टिकट फाइनल हुए तो उन्हें दूसरे ठीहे से टिकट लेने या निर्दलीय कूद पड़ने का वक्त ज्यादा नहीं मिल पाएगा। खास बात यह है कि महागठबंधन में बसपा ने अपने कोटे की सभी सीटें घोषित कर दी हैं और उनके प्रत्याशी अब पूरी तरह प्रचार-प्रसार में लग गये हैं। 

वैसे सपा को जौनपुर सीट बसपा से मिलने की उम्मीद थी। बताया जाता है कि इसके बदले वह महाराजगंज बसपा के लिए छोड़ने को तैयार थी। इस कारण महाराजगंज में निर्णय रुका हुआ था। लखनऊ को लेकर सपा के भीतर व बाहर सबसे ज्यादा उत्सुकता है। वैसे यहां से शुत्रघ्न   सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा को सपा से टिकट मिलने की चर्चा काफी समय से है, लेकिन शुत्रघ्न   सिन्हा के कांग्रेस में शामिल होने के बाद स्थिति कुछ बदली है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस के लखनऊ सीट सपा के लिए छोड़ने पर ही पूनम सिन्हा को टिकट मिल सकता है। वैसे, इसके अलावा पूर्व मंत्री अभिषेक मिश्र का नाम भी चर्चा में है। 

दुस्साहस: पत्नी ने सोते हुए पति पर पेट्रोल छिड़क कर फूंक डाला

इलाहाबाद में भी सपा अभी तक प्रत्याशी तय नहीं कर पा रही है। यहां के सबसे प्रमुख दावेदार रेवती रमण सिंह हैं। वह इस समय राज्यसभा में हैं। अगर उनके नाम पर सहमति नहीं बनी तो उनके बेटे व करछना से विधायक उज्ज्वल रमण सिंह को टिकट मिल सकता है।  इसके अलावा यहां स्व. जनेश्वर मिश्र के साथ काम कर चुके नरेंद्र सिंह का नाम भी चर्चा में है। वैसे रेस में वासुदेव यादव  भी हैं। भाजपा ने यहां प्रदेश सरकार में मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को उतार दिया है। 

बगल की फूलपुर सीट पर भाजपा व कांग्रेस ने पटेल समुदाय के प्रतिनिधि को टिकट दिया है। ऐसे में सपा गैर कुर्मी प्रत्याशी उतारने पर विचार कर रही है। इसमें तेज प्रताप यादव भी शामिल हैं। वह वर्तमान में मैनपुरी से सांसद हैं। पार्टी पहले उन्हें जौनपुर सीट से लड़ाना चाहती थी लेकिन बसपा से यह सीट सपा को नहीं मिल सकी। इसके अलावा मौजूदा सांसद नागेंद्र पटेल व धर्मराज सिंह पटेल का नाम भी चर्चा में है। इसके अलावा सपा को वाराणसी, चंदौली, महाराजगंज, बलिया व कौशाम्बी के लिए प्रत्याशी तय करने में खासी माथापच्ची करनी पड़ रही है।   

मैदान के महारथी: जानें मुलायम की बहू डिंपल यादव ने कैसे बनाई पहचान

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections 2019: Contrary to the claims made by SP candidates in these eight seats