DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

Lok sabha election result 2019: अबतक सबसे अधिक वोट पाने वाले अजय बने भागलपुर सांसद

lok sabha election result 2019  ajay mandal become bhagalpur mp

1 / 2भागलपुर में जीतने के बाद जद यू नेता और नवनिर्वाचित सांसद अजय मंडल समर्थकों के साथ खुली जीप में विजयी जुलूस निकालते।

lok sabha election result 2019  ajay mandal become bhagalpur mp

2 / 2भागलपुर में जीतने के बाद जद यू नेता अजय मंडल को सर्टिफिकेट देते डीएम।

PreviousNext

2019 का चुनाव कई मायने में महत्वपूर्ण माना जाएगा। पहली बार जदयू को भागलपुर लोकसभा सीट पर सफलता मिली। वहीं आजादी के बाद इस लोकसभा क्षेत्र में सबसे अधिक वोट पाने का रिकार्ड जदयू प्रत्याशी अजय कुमार मंडल के नाम रहा। भागलपुर लोकसभा क्षेत्र के इतिहास में यह दूसरी सबसे बड़ी जीत है। 2014 में सबसे कम मतों के अंतर से हार-जीत हुई थी।
 
भागलपुर लोकसभा सीट पर इस बार कुल 1043182 वोट पड़े। इसमें से 618354 वोट जदयू प्रत्याशी अजय कुमार मंडल और 340624 वोट राजद प्रत्याशी शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल को मिला। जदयू प्रत्याशी ने 277630 मतों से राजद प्रत्याशी को पराजित कर पहली बार भागलपुर सीट पर कब्जा किया। दोनों प्रत्याशियों के अलावा सबसे अधिक नोटा में वोट पड़े हैं। जदयू और राजद को छोड़ सभी प्रत्याशियों का जमानत जब्त हो गया है। 

1989 में जनता दल के टिकट पर चुनाव लड़े स्व. चुनचुन प्रसाद यादव को 547723 वोट मिले थे। इस चुनाव में स्व.यादव ने कांग्रेस प्रत्याशी स्व.भागवत झा आजाद को 435398 वोट से हराया था। दूसरी सबसे बड़ी जीत जदयू प्रत्याशी ने इस बार दर्ज की है। इस सीट पर तीसरी सबसे बड़ी जीत 1977 में डॉ रामजी सिंह को मिली थी। जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़े सिंह ने कांग्रेस प्रत्याशी भागवत झा को 184715 मतों से पराजित किया था।

महागठबंधन के साथी दल साथ रहे वोट नहीं दिला सके : लोकसभा चुनाव का परिणाम के मद्देनजर यह कहना भी गलत नहीं होगा कि यहां महागठबंधन कोई मैजिक नहीं दिखा सका। महागठबंधन में शामिल कोई दल राजद के पक्ष में अपनी पार्टी का वोट ट्रांसफर नहीं करा सका। कांग्रेस न तो अपना कैडर वोट को राजद से जोड़ सकी न जातीय आधार पर उच्च वर्ग का वोट दिला सकी। नतीजा यह हुआ कि अपने बूते लड़ रहा राजद एनडीए की आंधी में कहीं नहीं टिक सका। बुलो मंडल को करारी हार का सामना करना पड़ा।

कांग्रेस के बड़े नेता नहीं आए भागलपुर 
कांग्रेस के कोई बड़े नेता चुनाव प्रचार में भागलपुर नहीं आए थे। प्रचार के लिए कांग्रेस प्रदेश मुख्यालय ने स्थानीय स्तर पर चुनाव अभियान समिति का गठन कर दिया, लेकिन यह समिति न तो समन्वय बना सकी न ही विधानसभा में कांग्रेस को वोट देने वाले सभी मतदाताओं का वोट राजद को दिला सकी। मतगणना से पहले अपने बयान को लेकर चर्चा में आए रालोसपा प्रमुख राजद उम्मीदवार बुलो मंडल के पक्ष में भागलपुर आए थे। हम, वीआईपी सहित अन्य दलों की भी यही स्थिति रही।  

24 में मात्र अंतिम राउण्ड में राजद प्रत्याशी को बढ़त मिली 
गुरुवार को मतगणना में शुरू से अंत तक एक को छोड़ सभी राउण्ड में जदयू प्रत्याशी अजय कुमार मंडल ने बढ़त बनायी। जदयू प्रत्याशी का सभी छह विधानसभा क्षेत्रों में अंत तक दबदबा बना रहा। राजद प्रत्याशी शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल को गृह विधानसभा क्षेत्र बिहपुर में करारी हार का सामना करना पड़ा। मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हुई। पहले राउण्ड के बाद जदयू प्रत्याशी ने 23वें राउण्ड तक बढ़त बनाये रखा। भागलपुर विधानसभा क्षेत्र में दो बार तथा एक बार कहलगांव विधानसभा क्षेत्र में राजद प्रत्याशी को बढ़त मिली। 

डाक मतपत्र में 39 ने नोटा में वोट डाले
भागलपुर। लोकसभा चुनाव में मतगणना शुरू होने के पहले 3086 डाक मतपत्र पहुंचा। जांच के बाद 664 मतपत्रों को रद्द कर दिया गया। डाक मतपत्र में 36 सर्विस वोटरों से नोटा में मतदान किया। सबसे अधिक सर्विस वोटरों ने जदयू प्रत्याशी के पक्ष में मतदान किया। डाक मतपत्र में जदयू प्रत्याशी अजय कुमार मंडल को 1530,राजद प्रत्याशी बुलो मंडल को 625, बसपा प्रत्याशी आशिक इब्राहिमी को 83,दीपक कुमार को 16,सत्येन्द्र कुमार को 46,सुशील कुमार दास को 42ई अभिषेक प्रियदर्शी को 25, नुरूल्लाह को पांच और सुनील कुमार को 11वोट मिले। यह माना जा रहा है कि भाजपा को सीट नहीं मिलने से नाराज लोगों ने नोटा का इस्तेमाल किया। पिछले लोस (2014) चुनाव में 11875 वोट नोटा में पड़ा था। 

नए सांसद से पांच सवाल
प्रश्न: जीत का मुख्य कारण क्या रहा?
जवाब: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का राष्ट्रवाद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का न्याय के साथ विकास जीत का मुख्य कारण रहा। बिहार में विकास हुआ है। जनता ने पीएम और सीएम के नाम पर मतदान किया। 
प्रश्न: मंत्रिमंडल में शामिल होंगे कि नहीं?
जवाब: पार्टी का जो भी निर्देश होगा। उसका पालन करेंगे। मंत्रिमंडल में शामिल होने की मांग नहीं करेंगे। सीएम का बुलावा आया है। शुक्रवार को मिलने के लिए पटना जायेंगे।
प्रश्न: जीत के पीछे क्या राज?
जवाब: तीन बार लगातार विधायक रहने का भी लाभ मिला। चुनाव प्रचार के दौरान सभी लोगों से समर्थन मांगा। खुशी की बात है कि हर जाति और धर्म के लोगों ने चुनाव में समर्थन किया।
प्रश्न: जीत के बाद आपकी क्या प्राथमिकता रहेगी ? 
जवाब: सड़क, स्वास्थ्य,सुरक्षा और शिक्षा के क्षेत्र में विकास करना पहली प्राथमिकता होगी। सड़कों को सुन्दर बनाया जाएगा। अस्पतालों की व्यवस्था बेहतर होगी। 
प्रश्न: इतनी बड़ी जीत की उम्मीद थी कि नहीं
जवाब: (हंसते हुए) चुनाव खत्म होने के बाद दो लाख से जीतने की बात समर्थकों से कहते रहे। सभी बात है कि सभी के सहयोग से बड़ी जीत मिली है। पार्टी और गढबंधन में शामिल दलों का सहयोग मिला। जीत के साथ बड़ी जिम्मेदारी भी मिली है। प्रयास करूंगा कि जनता की समस्याओं का समाधान और क्षेत्र का विकास हो। 

2019 के लोस चुनाव में प्रत्याशियों को मिले वोट
अजय कुमार मंडल               जदयू          618254  
शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल   राजद          340624
मोहम्मद आशिक इब्राहिमी    बसपा           9572 
दीपक कुमार                       एसयूसीआई         7396 
सत्येन्द्र कुमार                    आप            7316
सुशील कुमार दास               भारतीय दलित पार्टी    4764 
अभिषेक प्रियदर्शी              निर्दलीय          5555
नुरूल्लाह                         निर्दलीय          9620 
सुनील कुमार                     निर्दलीय        7850
नोटा                                 31567

तीन प्रेक्षक की निगरानी में हुई मतगणना
गुरुवार को तीन प्रेक्षक डॉ. निधि पांडेय, मुथुकृष्णन शंकरना और एमवी सेवाश्री बाबू की निगरानी में मतगणना हुई। डीएम ने बताया कि मतगणना शांतिपूर्ण सम्पन्न हुआ। कहीं से किसी ने शिकायत नहीं की। मतगणना की पूरी जानकारी चुनाव आयोग को भेज दी गयी है।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok sabha election result 2019: JDu leader Ajay mandal become Bhagalpur MP