DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

ढेंकनाल लोकसभा सीट: ओडिशा का सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र है ढेंकनाल

naveen patnaik

ढेंकानाल लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र ओडिशा का महत्वपूर्ण संसदीय क्षेत्र है। सवर जनजाति के मध्ययुगीन मुखिया ढेंका के नाम पर बसा यह क्षेत्र जिला मुख्यालय भी है। यह क्षेत्र पहले सामंती रजवाड़े की राजधानी था। यहां कई मंदिर एवं पुरातत्व स्थल हैं। सप्तसाज्य पहाड़ी से घिरे इस इलाके में स्थित हिरन उद्यान पर्यटकों के लिए प्रमुख दर्शनीय स्थल है। यहां पर चावल, तिलहन एवं लकड़ी का बाज़ार तथा हथकरघा बुनाई के कई केंद्र हैं।

राजनीतिक पृष्ठभूमि
अगर यहां के इतिहास की बात करें, तो सन् 1957 में यह सीट GP के सुरेंद्र मोहंती के हाथ में थी। 1962 में कांग्रेस के बैष्णब चरण, 1967 में SWA के आर.के.पी. एस. डी. एल ठाकुर, 1971 में कांग्रेस के देवेंद्र सत्पति, 1977 में BLD के देबेन्द्र सत्पति, 1980 व 1984 में कांग्रेस के राजा कामाख्या प्रसाद सिंह, 1989 में JD के भजमन बोहरा, 1991 व 1996 में राजा कामाख्या प्रसाद सिंह, 1998 में तथागत सत्पति, 1999 में कामाख्या प्रसाद सिंह, 2004 और 2009 में BJD के तथागत सत्पति ने यहां कब्जा किया था।

पिछले लोक चुनाव मेंढेंकनाल लोकसभा सीट के आंकड़े
ओडिशा की ढेंकनाल लोकसभा सीट पर 2014 के आम चुनाव में BJD के तथागत सत्पति ने जीत हासिल की थी। उन्हें 4,53,277 वोट मिले थे, जबकि BJP के रुद्र नारायण पाणि 3,15,937 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर रहे थे।

इस निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत विधानसभा की 7 सीटें आती हैं, जिनमें ढेंकनाल, हिंडोल, कामाख्यानगर, परजंगा, पल्लाहरा, तालचेर व अगुल शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:know Dhenkanal Lok Sabha seat Odisha most important area