DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

लोकसभा चुनाव 2019- नतीजे अनुकूल नहीं तो बढ़ेंगी कई कांग्रेस विधायकों की मुश्किलें

लोकसभा चुनाव के गुरुवार को घोषित होने वाले नतीजे कांग्रेस विधायकों व अन्य प्रमुख नेताओं की आगे की राह तय करेंगे। चुनाव के दौरान पार्टी के कई जनप्रतिनिधि निष्क्रिय रहे हैं। ऐसे विधायकों व प्रमुख नेताओं पर पार्टी आलाकमान की टेड़ी नजर है। चुनावी सीजन में तो किसी से कुछ नहीं कहा गया पर नतीजे अनुकूल न आने की स्थिति में ऐसे लोगों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। 

बिहार में कांग्रेस बीते तीन दशक से वनवास झेल रही है। वर्ष 1984 के चुनाव में संयुक्त बिहार की अधिकतर लोकसभा सीटें जीतने वाली कांग्रेस बीते कई चुनाव में दो सीटों से आगे नहीं बढ़ पा रही। अलबत्ता महागठबंधन का हिस्सा रहते हुए वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में जरूर पार्टी 40 सीटों पर लड़कर 27 जीतने में सफल रही थी। इस लोकसभा चुनाव में नौ सीटों पर लड़ी कांग्रेस के सामने अपने सांसदों की संख्या बढ़ाने की चुनौती है। चुनाव के दौरान पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने छह रैलियां और एक रोड शो भी बिहार में किया। कई दूसरे स्टार प्रचारक भी यहां आए। 

विधायक की हुई थी शिकायत
कुछ पार्टी विधायक और नेता इस कठिन दौर में भी निष्क्रिय रहे या फिर उनकी गतिविधियां कांग्रेस प्रत्याशियों या महागठबंधन प्रत्याशियों के लिए मुफीद नहीं रहीं। ऐसे एकाध विधायक की शिकायत तो खुद महागठबंधन के नेताओं ने पार्टी आलाकमान तक से की थी। ऐसे लोगों पर दिल्ली से सीधी नजर रखी जा रही थी। प्रभारियों के पास भी अपना फीडबैक था। अब सबकी निगाहें नतीजों पर हैं। संभावना जताई जा रही है कि पार्टी लाइन से हटने वाले जनप्रतिनिधियों की विधानसभा का टिकट भी फंस सकता है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:If results are not favorable then difficulties of several Congress MLA in Bihar