DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

बड़ी राहत! मतदान करने अपनी गाड़ी ले जा सकते हैं मगर माननी होगी प्रशासन की यह शर्त

election commission

मतदान के दिन लोगों की परेशानी को कम करने के लिए गाड़ियों के परिचालन को लेकर जिला प्रशासन ने दिशा-निर्देश जारी किया है। मतदान के दिन निजी कार्य से वाहन मालिक अपनी गाड़ी का उपयोग कर सकते हैं। लेकिन कार्य चुनाव से नहीं जुड़ा होना चाहिए।

संयुक्त आदेश जारी
डीएम, एसएसपी और नवगछिया एसपी ने इसको लेकर संयुक्त आदेश जारी किया है। कहा गया है कि निजी वाहन के मालिक स्वयं एवं अपने परिवार के सदस्यों को मतदान के लिए जा सकते हैं। लेकिन बूथ से 200 मीटर की परिधि से बाहर गाड़ी पार्क करनी होगी। अस्पताल वैन, एम्बुलेंस, डेयरी (दूध) की गाड़ी, पानी टैंकर, विद्युत, आपातकालीन सेवा वाले वाहन, पुलिस वाहन तथा निर्वाचन कार्य में लगे सरकारी सेवक गाड़ी का उपयोग कर सकते हैं।

सार्वजनिक यातायात के लिए निर्धारित मार्ग पर बसें चल सकती हैं। रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड और अस्पताल आने-जाने के लिए टैक्सी, तीन पहिया स्कूटर या रिक्शा का प्रयोग किया जा सकता है। बीमार या असहाय व्यक्ति स्वयं के उपयोग के लिए वाहन का उपयोग कर सकते हैं। कहा गया है कि मतदान के दिन जिला प्रशासन द्वारा मतदाताओं की सुविधा के लिए आवश्यकतानुसार निर्धारित मार्गों पर बसों का परिचालन भी कर सकता है। 

चेक पोस्ट बनाकर सीमाओं को सील किया जाएगा
स्वच्छ और शांतिपूर्ण मतदान के लिए जिले की सीमा को सील किया जाएगा। इसके अलावा जिले में 67 स्थानों पर चेक पोस्ट बनाये जाएंगे। इसको लेकर डीएम, एसएसपी और नवगछिया एसपी ने संयुक्त आदेश जारी किया है। 
प्रशासन ने चेकपोस्ट के स्थान का चयन कर लिया है। संबंधित बीडीओ को ड्रॉप गेट की व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है। चेक पोस्ट पर मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस की तैनाती की जायेगी। मतदान के दिन प्रत्याशी और उसके अभिकर्ता को एक-एक गाड़ी चलाने की अनुमति दी जाएगी। इसके अलावा हर विधानसभा क्षेत्र में एक गाड़ी चला सकते हैं। लेकिन गाड़ी में चालक सहित केवल पांच व्यक्ति ही बैठ सकते हैं। इन वाहनों को निर्वाची पदाधिकारी के हस्ताक्षर से अलग से परमिट निर्गत किया जाएगा। परमिट को गाड़ी पर चिपकाना होगा। किसी भी वाहन से मतदाताओं को वोट दिलाने के लिए नहीं ले जा सकते हैं। ऐसा करने पर गाड़ियों को जब्त कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। संयुक्त आदेश में संबंधित थाना और चेकपोस्ट की जानकारी दी गयी है। 

मतदान के दिन बूथ से 100 मीटर की दूरी पर प्रचार नहीं
डीएम प्रणव कुमार ने धारा 144 के तहत मतदान के दिन बूथ से 100 मीटर की दूरी पर किसी भी प्रकार के प्रचार पर रोक लगा दी है। आदेश में कहा गया है कि 16 अप्रैल की शाम पांच बजे के बाद आमसभा एवं प्रचार-प्रसार करने पर प्रतिबंध रहेगा। सुरक्षा प्राप्त व्यक्तियों को अंगरक्षक के साथ मतदान केन्द्रों की 100 मीटर की परिधि में आने पर रोक रहेगी। यह रोक सरकारी कर्मियों एवं निर्वाचन कर्तव्य में लगे पुलिस और सिविल प्रशासन पर लागू नहीं होगा। 16 अप्रैल को शाम पांच बजे से बिना उचित कारण के विधानसभा क्षेत्र के बाहर का कोई व्यक्ति नहीं रह सकता है। निर्वाचन के दिन चलने वाले वाहनों की अनुमति राजनीतिक दलों के सक्षम प्राधिकार से प्राप्त करनी होगी। मतदान के दिन भारत निर्वाचन आयोग द्वारा प्राधिकृत व्यक्तियों के अतिरिक्त कोई भी व्यक्ति सेलफोन, कोडलेस फोन आदि लेकर मतदान केन्द्रों के 100 मीटर की परिधि में नहीं जाएगा। 100 मीटर की दूरी पर लाउडस्पीकर और मेगाफोन का उपयोग नहीं होगा। 200 मीटर के अंदर पर कोई भी प्रत्याशी चुनाव बूथ नहीं बनाएगा। मतदान केन्द्रों के 200 मीटर की दूरी तक पांच या उससे अधिक व्यक्तियों के जमा होने पर रोक लगा दी गयी है। यह रोक मतदान के लिए लगी पंक्ति पर लागू नहीं होगी। कहा गया है कि यह आदेश 18 अप्रैल की रात 12 बजे तक लागू रहेगी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Great relief: Vehicle owners can use their car for personal work on voting day with condition