DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नुक्कड़ पर चुनाव: राजनीति का चक्कर ही ऐसा है, यह जो न करा दे...

शुक्रवार की सुबह मोरहाबादी मैदान के पास नारियल पानी की दुकान पर पांच-छह लोगों की भीड़ जमा थी। सुबह-सुबह टहलने के बाद सभी इस अमृत पानी का आनंद लेने पहुंचे थे। अभी नारियल कटना शुरू ही हुआ था कि बातचीत का दौर चल निकला। बात छिड़ी कि मुहल्ले में चार दिनों से कूड़ा उठानेवाली गाड़ी नहीं आ रही। मजबूरी में कूड़ा या तो घर में या बाहर खुले मैदान में फेंकना पड़ रहा है। 

तभी एक शख्स बोल पड़ा, सरकार एक ओर स्वच्छता अभियान चला रही है, दूसरी ओर इसके प्रति वह खुद लापरवाह बनी हुई है। बार-बार अखबार में खबर छपती है कि नगर निगम के कर्मचारी सही से कूड़े का उठाव नहीं कर रहे। आखिर जनता की चिंता सरकार नहीं करेगी तो और कौन करेगा। तभी एक दूसरे सज्जन बोल पड़े, लगता है अब नई सरकार बनने के बाद ही व्यवस्था बदलेगी। इस पर एक दूसरे सज्जन बोल पड़े, चाहे किसी की भी सरकार रहे, ये सब तो ऐसे ही चलता रहेगा। वैसे पहले की तुलना में इस सरकार में काम दिख रहा है। इस पर एक अन्य शख्स बोल पड़े, काम पहले भी होता था। हां, ये सरकार दिखावा ज्यादा कर रही है। हमलोगों ने पिछली बार मन से अपनी सरकार चुनी थी। ये सोचकर कि हमारी समस्याएं दूर होंगी, लेकिन कहां दूर हुईं। आज भी पानी की समस्या पहले जैसी है। सप्लाई पानी कभी नियमित रहता है तो कभी तीन-चार दिनों तक गायब। जैसे-तैसे पानी का इंतजाम करना पड़ता है। कितनी परेशानी होती है। बात का वहां मौजूद सभी लोगों ने समर्थन किया। 

फिर एक शख्स बोल पड़े- चुनावी माहौल में नेताओं के बोल कितने बिगड़ गए हैं। चौकीदार चोर, घोटालेबाजों की सरकार आदि कहकर संबोधित कर रहे हैं। गाली-गलौज भी शुरू हो गयी है। नेताओं को सोचना चाहिए कि उनके इस व्यवहार से समाज पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। इसी दौरान बात छिड़ी शत्रुघ्न   सिन्हा की। एक सज्जन बोले, पहले वह भाजपा छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए, फिर पत्नी को समाजवादी पार्टी का सदस्य बनवा दिया। और तो और पत्नी के समर्थन में कांग्रेस प्रत्याशी के खिलाफ प्रचार भी कर दिया। ये कैसी राजनीति है। इस पर एक सज्जन ने चुटकी ली, राजनीति का चक्कर ही ऐसा है, यह जो न करा दे। इस पर सभी जोर से हंसे और नारियल पानी की दुकान से निकलने लगे। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Election on the Nook: This is the only affair of politics this is not what it is