DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नुक्कड़ पर चुनाव: चुनाव के चलते सबका पूरा रूटीन ही गड़बड़ा गया है 

सुबह के छह बज रहे हैं। बूटी मोड़ पर अभी-अभी पटना से आने वाली एक बस रुकी है। बस से उतरने वाले कुछ लोग पास के ही चाय की दुकान पर बढ़ जाते हैं और चाय बनाने के लिए कहते हैं। चाय की दुकान वाला सबको चाय पकड़ाता ही है कि सुबह में टहलने वालों का एक जत्था वहां पहुंचता है। एक नौजवान एक आदमी के सामान को देखते हुए पूछता है- क्या सर, पटना से आ रहे हैं क्या?

सामने वाला आदमी चाय की चुस्की लेते हुए सहमति में सिर हिलाता है। नौजवान का उत्साह बढ़ता है और वह अगला सवाल करता है- क्या माहौल है वहां चुनाव का? इस बार चुनाव हो रहा है बिहार में और लालूजी हैं झारखंड में? कैसा लग रहा है उनके बिना इस बार। सामने वाला आदमी इस सवाल पर थोड़ा चौंकता है और धीरे से कहता है- ये तो नहीं कह सकता लेकिन वहां भी चुनाव ठीके चल रहा है। वैसे पटना में अभी रंग नहीं जमा है। 

नौजवान के बगल में खड़े बुजुर्ग चाय पीते हुए कहते हैं- लेकिन रांची में तो रंग जम गया है। प्रधानमंत्री का रोड शो हुआ तो लगा कि चुनाव है। पहले तो सन्नाटा पसरा था। अब सुन रहे हैं कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी भी यहां रोड शो करने वाले हैं। तब तो माहौल और जमेगा। पटना से आया आदमी सहमति में सिर हिलाते हुए कहता है- हां, अब तो रांची में होर्डिंग और बैनर भी चुनाव वाले लगने लगे हैं। तभी नौजवान हंसते हुए कहता है- हां, लेकिन चुनाव के चलते हमलोगों का पूरा रूटीन गड़बड़ा गया है। देर रात तक टीवी पर बहस देखिये तो सुबह नींद ही नहीं खुलती है। और सुबह में अखबार छोड़ने का मन नहीं करता है। ऑफिस  के लिए निकलने में देर हो जा रही है। वह पटना से आये आदमी की तरफ मुड़कर फिर कहता है- लेकिन सर, ये तो आप बतायें नहीं कि लालूजी के नहीं रहने से चुनाव कैसा हो रहा है। वह आदमी भी इस बार मुस्कुराता है और कहता है- फर्क तो पड़ा है। इस बार लालूजी के अंदाज के भाषण सुनने को नहीं मिल रहे हैं। उसकी बात पर वह नौजवान भी हंसने लगता है। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Election on the Nook: All the routine has gone wrong due to elections