DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

चुनाव आयोग का लेखा-जोखा: यूपी में मतदान उम्मीदों के मुताबिक नहींं 

उत्तर प्रदेश में इस बार के लोकसभा चुनाव के अब तक हुए छह चरणों की वोटिंग में औसतन 60 प्रतिशत के आसपास मतदान हुआ। इन 6 चरणों में कई चरण ऐसे भी रहे जिनमें 2014 के लोस चुनाव और 2017 के विस चुनाव से भी कम वोट पड़े। प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी एल. वेंकटेश्वर लू भी स्वीकार करते हैं कि चुनाव आयोग, स्वयंसेवी संस्थाओं और राजनीतिक दलों की तमाम कोशिश के बावजूद इस बार प्रदेश में मतदान प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। 

शुक्रवार को प्रदेश में अब तक 6 चरणों के लोस चुनाव के मतदान से जुड़े आंकड़े जारी करते हुए मुख्य चुनाव अधिकारी ने राज्य में उम्मीद के मुताबिक मतदान न होने और मतदान प्रतिशत न बढ़ने के लिए किसी को जिम्मेदार तो नहीं ठहराया मगर मतदान प्रतिशत नहीं बढ़ने पर निराशा जरूर व्यक्त की। शुक्रवार को यहां प्रेस कान्फ्रेंस में मुख्य चुनाव अधिकारी श्री लू ने कहा कि प्रदेश में इस बार के लोस चुनाव में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए केन्द्रीय चुनाव आयोग के निर्देश पर एक साल पहले से प्रयास शुरू किये गये थे। इन प्रयासों के तहत स्वयंसेवी संस्थाओं को स्वीप अभियान से जोड़ा गया, राजनीतिक दलों के साथ भी कई बैठकें हुईं, मगर 6 चरणों के अब तक के चुनाव में प्रदेश में मतदान औसतन 60 प्रतिशत तक ही सिमटा रहा।  

उन्होंने कहा कि हमारी चिन्ता उन 40 फीसदी लोगों को लेकर है जो यह मानते हैं कि चूंकि उनके मुताबिक प्रत्याशी चुनाव में नहीं उतरे हैं, इसलिए वह मतदान नहीं करेंगे। ऐसे लोगों को बजाए मतदान न करने के मतदान वाले दिन मतदान केन्द्र तक आना चाहिए था और ‘नोटा’ का बटन दबाकर अपनी प्रतिक्रिया जतानी चाहिए थी, मगर उन्होंने ऐसा नहीं किया। मतदाताओं की उदासीनता बनी रही। उन्होंने बताया कि इस बार अनिवार्य मतदान और नैतिक मतदान के लिए मतदाताओं को जागरूक करने के लिए सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को निर्देश दिये गये थे। स्वयं उन्होंने कई जिलों का दौरा किया था, मगर इस पूरी कवायद के अपेक्षित परिणाम सामने नहीं आ पाये। 

गर्मी को नहीं माना कम मतदान की वजह :
मतदान प्रतिशत न बढ़ने के कारणों के बाबत पूछे जाने पर उन्होंने राजनीतिक दलों के बूथ लेबल मैनेजमेंट और मतदाताओं को मतदान के लिए प्रेरित करने के प्रयासों के बाबत कोई सटीक जवाब नहीं दिया। गर्मी के मौसम को वजह मानने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इतनी गर्मी में भी 60 फीसदी लोगों ने तो मतदान किया ही इसलिए गर्मी के मौसम को भी कोई वजह नहीं माना जा सकता। 

वोटर लिस्ट में नाम न होने की वजह से मतदान प्रतिशत कम रहने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि तीन महीने तक मतदाता सूची में संशोधन का अभियान चलाया गया। इस दरम्यान जितने भी लोगों ने आवेदन किया उनके नाम वोटर लिस्ट में जोड़े गये। इसके बाद फिर मोहलत दी गयी। कई जगहों पर हुए मतदान बहिष्कार के बारे में उन्होंने कहा कि हर चरण में ऐसी घटनाएं सामने आयीं। अधिकांश मामलों में वोटरों को समझा बुझा कर मतदान के लिए राजी कर लिया गया मगर फिर भी कुछ इलाकों में वोटर बहिष्कार पर अड़े रहे। इसके लिए पहले ही सभी जिलों के प्रशासन को निर्देश जारी कर दिये गये थे कि जहां-जहां विकास कार्य न होने की वजह मतदान के बहिष्कार की आशंका हो, वहां पहले से अधिकारियों को भेजकर नाराज वोटरों से बात कर ली जाए। इसके बावजूद मतदान बहिष्कार हुआ। 

प्रदेश में इस बार के लोस चुनाव, 2017 के विस चुनाव व 2014 के लोस चुनाव में कुल मतदाता
                             2019                                       2017                                   2014
                          लोस चुनाव                               विस चुनाव                             लोस चुनाव
पुरुष                   7,88,00,227                         7,69,38,225                     7, 59,07,488
महिला                6,70,50,555                         6,45,70,904                      6,28,34,132
अन्य                   7,775                                   7,283                                 7,456
कुल                  14,58,58,557                       14,15,16,412                      13,87,49,076
मतदान प्रतिशत      ..........                                    61.11                                58.33
 


इस बार के लोस चुनाव में 6 चरण तक हुए मतदान में सबसे अधिक मतदान प्रतिशत बढ़ाने वाली टाप 5 लोस सीटें

लोस सीट            2014 का लोस चुनाव                      2019 का लोस चुनाव          कुल मतदान प्रतिशत में अंतर
                       पुरुष     महिला     कुल                     पुरुष    महिला      कुल
 बांदा                53.64   53.65    53.65                59.57    62.25    60.79               + 7.14
 हमीरपुर           58.01   54.25     56.30               62.05     62.49    62.25               + 5.94
 मोहनलालगंज   61.37   54.14     58.05                64.76   59.96      62.52              + 4.47
रायबरेली          51.11    52.62    51.81                54.55    58.10      56.23              + 4.43
 बुलन्दशहर       59.26   57.27   58.33               61.68     63.94      62.73               + 4.40

इस बार के लोस चुनाव में 6 चरण तक हुए मतदान में सबसे कम मतदान प्रतिशत वाली टाप 5 लोस सीटें


लोस सीट          2014 का चुनाव                        2019 का लोस चुनाव              कुल मतदान प्रतिशत में अंतर
                      पुरुष      महिला   कुल                    पुरुष       महिला     कुल
 फिरोजाबाद       71.43   62.93   67.61            61.72       58.08     60.03       -7.58
 कैराना             73.59   72.41   73.05            67.77      67.11     67.46        -5.59
 मथुरा              66.85  61.22   64.33           62.08       58.59    60.48          -3.85
 मैनपुरी            64.66  55.86   60.65           58.71       54.56    56.80           -3.85
 धौरहरा            71.45  63.96   68.02          67.18       60.79    64.23           -3.80
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Election Commissions account: voting in UP is not according to expectations