DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

चुनावी चकल्लसः राजनीति में कोई अहसान याद नहीं रखता

राजनीति में अहसान नाम की चीज गायब हो रही है। जो जिसको बचाता है या आगे बढ़ाता है, वही उसके लिए मुसीबत बनने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ता है। 

हाल में भाजपा के बिहार के एक लोकप्रिय नेता ने टिकट न मिलने पर पार्टी छोड़ी और कांग्रेस में जाकर उम्मीदवार बन गए। इन्हें पिछली बार भी भाजपा ने मुश्किल से टिकट दिया था। पार्टी उनको टिकट नहीं देना चाहती थी, लेकिन एक बड़े नेता ने अड़कर सबसे आखिरी सूची में उन्हें टिकट दिलवाया था। अब जब इस चुनाव में वह भाजपा छोड़कर कांग्रेस में चले गए तो अपनी पत्नी को भी समाजवादी पार्टी (सपा) में शामिल करा दिया। इतना ही नहीं, उन्होंने अपनी पत्नी को सपा की ओर से उस सीट पर उम्मीदवार भी बनवा दिया, जहां से भाजपा के वही बड़े नेता चुनाव लड़ रहे हैं, जिन्होने 2014 में इस नेता का टिकट बचाया था। 

साध्वी प्रज्ञा ने शहीद ATS चीफ हेमंत पर दिया विवादास्पद बयान, कहा- उसे अपने कर्मों की सजा मिली

संजय राउत बोले- कांग्रेस छोड़नेवाली प्रियंका चतुर्वेदी आज ज्वाइन करेगी शिवसेना

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:chunavi chakallas no one remember ahsan in politics