DA Image
23 जनवरी, 2020|10:50|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Baramati Lok Sabha Chunav Result 2019: शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले जीतीं 

baramati lok sabha election result 2019  courtesy- reuters

महाराष्ट्र की बारामती लोकसभा सीट से नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी की प्रत्याशी सुप्रिया सुले ने तीसरी बार जीत दर्ज की है। नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले ने भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी कंचन राहुल कूल को 155774 वोटों के अंतर से हरा दिया। 
बारामती लोकसभा सीट पर 23 अप्रैल को तीसरे चरण में वोट डाले गए थे। इस सीट से 18 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमाने चुनाव मैदान में उतरे थे। 
चुनाव आयोग के मुताबिक इस बार बारामती लोकसभा सीट पर 61.53 फीसदी मतदान दर्ज किया गया था, जबकि साल 2014 में यहां 58.83 प्रतिशत वोटिंग रिकॉर्ड की गई थी. इस संसदीय क्षेत्र में कुल 21 लाख 12 हजार 408 मतदाता पंजीकृत हैं, लेकिन कुल 12 लाख 99 हजार 792 वोटरों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। 
महाराष्ट्र की बारामती लोकसभा सीट मराठा छत्रप शरद पवार और उनके परिवार के लिए जानी जाती है। इस सीट से एनसीपी प्रमुख शरद पवार छह बार सांसद रहे। उनकी बेटी सुप्रिया सुले यहां से पिछली दो बार से लगातार सांसद हैं। यह लगातार उनकी तीसरी जीत है। इस सीट से एक बार शरद पवार के भतीजे अजीत पवार भी सांसद रह चुके हैं। इसके चलते बारामती को पवार परिवार का पारंपरिक गढ़ भी कहा जाता है।
पिछले 27 सालों से इस सीट पर पवार परिवार का एकछत्र राज है। इसलिए यह सीट पवार परिवार की सबसे पसंदीदा मानी जाती है। 2019 में भी सुप्रिया सुले की दावेदारी काफी मजबूत मानी जा रही है। बारामती सीट 1957 में अस्तित्व में आई। 1957 से लेकर 1971 तक इस सीट पर कांग्रेस का कब्जा रहा। इसके बाद 1977 में कांग्रेस विरोधी लहर में इस सीट पर भारतीय लोकदल ने जीत दर्ज की। हालांकि 1980 में फिर कांग्रेस आई ने यहां से जीत हासिल की।
इसके बाद इस सीट पर महाराष्ट्र के छत्रप शरद पवार की एंट्री हुई। 1984 में पवार ने भारतीय कांग्रेस (समाजवादी) की तरफ से इस सीट पर जीत दर्ज की। लेकिन 1985 में उनके मुख्यमंत्री बनने से यह सीट खाली हो गई। 1985 में हुए उप चुनाव में इस सीट पर जनता पार्टी का कब्जा रहा। इसके बाद फिर पवार के भतीजे 1991 में इस सीट से सांसद बने। इसके बाद 1991 से 1998 तक कांग्रेस से और फिर 1999 से 2009 तक एनसीपी से शरद पवार सांसद रहे। हालांकि, इस बार के लोकसभा चुनाव में सुप्रिया सुले को भाजपा-शिवसेना गठबंधन की ओर से कड़ी टक्कर मिलने की उम्मीद है। क्योंकि 2014 के चुनाव में सुप्रिया ने काफी कम वोटों के अंतर से चुनाव जीता था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Baramati Lok Sabha Chunav Result 2019 Sharad Pawar daughter Supriya Sule wins