DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:
asianpaints

अररिया लोकसभा सीट: जोकीहाट और अररिया का काट तैयार कर रही भाजपा

araria lok sabha seat  lok sabha elections in 2019

वोट बैंक के नजरिये से चुनाव के दौरान हर सभा के अपने मायने होते हैं। एनडीए की सभाएं भी उपचुनाव के परिणाम को ध्यान में रखते हुए ही हो रही हैं। अररिया का किला छह गढ़ों से घिरा है। जीत के लिये सबसे अधिक मजबूत गढ़ों की जरूरत पड़ने वाली है।
 
2018 के उपचुनाव में राजद ने जोकीहाट और अररिया के गढ़ को इतना मजबूत किया था कि भाजपा के चार मजबूत गढ़ मिलकर भी इस किले को फहत नहीं कर पाए। भाजपा इस बार जोकीहाट और अररिया का काट अपने गढ़ में तैयार कर रही है। 20 अप्रैल को फारबिसगंज में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी सभा इसी नजरिये से देखा जा रहा है। फारबिसगंज विधानसभा क्षेत्र को भाजपा अपना सबसे मजबूत गढ़ मानती है। यहां सबसे करीब 3.25 लाख वोटर भी हैं।

 परंपरागत वोट बैंक रिझाने का प्रयास
उपचुनाव में सबसे अधिक 93739 वोट भाजपा को इसी विधानसभा में मिले थे। इसके बाद सिकटी विधानसभा क्षेत्र को भाजपा अपने लिए मजबूत मानती है। रविवार को रामविलास पासवान और सुशील मोदी ने सिकटी विधानसभा में पड़ने वाले कुर्साकांटा में सभा कर अपने परंपरागत वोट बैंक के अलावा महागठबंधन के वोटर माने जाने वालों को भी रिझाने का प्रयास किया। उपचुनाव में नरपतगंज भी एनडीए के लिये मजबूत गढ़ बनकर उभरा। हालांकि भाजपा-जदयू के वोट को मिलाकर देखा जाये तो 2014 में भी नरपतगंज में एनडीए को राजद से अधिक वोट मिले थे, इसलिए नरपतगंज में एनडीए ने फोकस करके राजनाथ सिंह के बाद रामविलास पासवान व सुशील मोदी की सभा करायी।

गौरतलब है कि उपचुनाव में राजद को जोकीहाट विधानसभा क्षेत्र में 120765 और अररिया विधानसभा क्षेत्र में 107260 वोट मिले थे। जबकि भाजपा को क्रमश: 39517 और 56834 वोट ही मिले थे। ऐसे में भाजपा फारबिसगंज, सिकटी और नरपतगंज में अपने पहले की बढ़त को और बड़ी बनाना चाहती है, जिससे जोकीहाट और अररिया की काट हो सके। 

महादलित वोट बैंक में सेंधमारी की कोशिश
महागठबंधन भी चुनावी समर में कोई रणनीतिक चूक नहीं करना चाहता है। इसी को ध्यान में रखते हुए जहां तेजस्वी ने नरपतगंज में यादव वोट बैंक को बिखरने से रोकने के लिये एक सभा की है वहीं महागठबंधन के साथी हम के जीतनराम मांझी से उन क्षेत्रों में दो सभाएं करवायी जहां महादलित वोटर अधिक हैं। माना जाता है कि महादलित जदयू को लेकर एनडीए के वोट बैंक का हिस्सा है। इसमें सेंधमारी के लिये रविवार को महादलित बाहुल्य क्षेत्र रानीगंज के कालाबलुआ और सिकटी विधानसभा के धर्मगंज में जीतनराम मांझी ने सभा की और महादलितों को कई तरीके से रिझाने का प्रयास किया। साथ ही रानीगंज सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र में भाजपा से राजद में आये रामजी दास ऋषिदेव के माध्यम से भी राजद महादलितों को रिझाने की कोशिश कर रहा है। हालांकि आने वाला वक्त ही तय करेगा कि कौन किसके वोटर को तोड़ने में कितना सफल रहा।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Araria Lok Sabha seat: BJP preparing for making Vote bank in Jokihat and Araria