DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव फ्लैशबैक: बिहार में इन सीटों पर महिला कैंडिडेट्स ने बनाया है जीत का रिकॉर्ड

2019 के लोकसभा चुनाव में प्रचार जोरों पर है। प्रथम चरण का मतदान हो चुका है। चुनाव में महिलाओं की भूमिका अहम मानी जा रही है। लोकसभा चुनाव में महिलाओं की जीत का रिकार्ड अभी भी बांका और शिवहर लोकसभा क्षेत्र का रहा है। अब तक 31बार महिलाओं ने जीत दर्ज की है। उसमें चार बार बांका और शिवहर सीट से जीत दर्ज की है। 23 लोकसभा सीटों पर आज तक किसी महिला प्रत्याशी ने जीत दर्ज नहीं की है। 

2019 में महिलाओं की संख्या काफी कम 
लोकसभा चुनाव में प्रमुख पार्टियों ने प्रत्याशी का नाम घोषित कर दिया है। घोषित प्रत्याशियों में महिलाओं की संख्या काफी कम है। बिहार में लोकसभा चुनाव का इतिहास देखा जाए तो आजादी के बाद बांका और शिवहर लोकसभा क्षेत्र में चार-चार बार महिला प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है। इसमें बांका सीट से तीन और शिवहर से दो महिलाओं ने जीत दर्ज की है। एक दर्जन से अधिक चुनाव में महिला प्रत्याशी दूसरे स्थान पर रही है। 

लोकसभा चुनाव में जीती महिला प्रत्याशी
बांका लोकसभा सीट से 1957 और 1962 में शकुंतला देवी,1984 में मनोरमा सिंह और 2010 के उपचुनाव में पुतुल कुमारी चुनाव जीती थी। शिवहर सीट से 1980 और 1984 में रामदुलारी देवी और 2009 और 2014 में रामादेवी ने प्रतिनिधित्व किया। सुपौल से 2014 में रंजीता रंजन, कटिहार से 1962 में प्रिया गुप्ता,पूर्णिया से 1980 और 1984 में माधुरी सिंह, वैशाली से 1980 और 1984 में किशोरी सिन्हा, महाराजगंज से 1991 में गिरिजा देवी, उजियारपुर से 2009 में अश्वमेध देवी,बेगूसराय से 1980,1984 और 1981 में किशोरी शाही, मुंगेर से 2014 में वीणा देवी, आरा से 2004 में कांति सिंह, 2009 में मीना सिंह,सासाराम से 2004 और 2009 में मीरा कुमार,जहानाबाद से 1962 में सत्यभामा देवी,औरंगाबाद से 1962 में ललित राज्य लक्ष्मी, 1999 में श्यामा सिंह, गया से 1996 में भागवती देवी,नवादा से 1957 में सत्यभामा देवी और 1998 में मालती देवी ने जीत दर्ज की थी। 1984 में पांच,1980 और 2009 में चार-चार  महिलाओं ने बिहार से लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha election flashback: Bihar womens candidates win most from these seats