DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  Covid-19: सड़क पर कीटाणुनाशक छिड़कने से कोरोना का नहीं होगा खात्मा, सेहत को नुकसान: WHO
जीवन शैली

Covid-19: सड़क पर कीटाणुनाशक छिड़कने से कोरोना का नहीं होगा खात्मा, सेहत को नुकसान: WHO

एजेंसी,जेनेवाPublished By: Manju
Sun, 17 May 2020 05:09 PM
Covid-19: सड़क पर कीटाणुनाशक छिड़कने से कोरोना का नहीं होगा खात्मा, सेहत को नुकसान: WHO

सड़क पर कीटाणुनाशक का छिड़काव करने से कोरोना वायरस का खात्मा नहीं होगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे लेकर दुनिया को चेताया है। एजेंसी ने साफ कहा है कि इस तरह का प्रयोग मानव शरीर के लिए भी हानिकारक हो सकता है।

दुनियाभर में हो रहा छिड़काव
आमतौर पर माना जाता था कि कोरोना वायरस सतह पर रहता है और अगर उस पर कीटाणुनाशक का छिड़काव कर दिया जाए तो वायरस का खात्मा हो जाएगा। दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में बाजारों, सड़कों, दुकानों, स्कूल-कॉलेज, और रेस्त्रां में कीटाणुनाशक का छिड़काव किया जा रहा है। 

वायरस पर निष्प्रभावी
विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि ये समझ लेना कि किसी रसायन का छिड़काव करने से सतह पर मौजूद वायरस या पैथोजन खत्म हो जाएगा, ऐसा वाकई में होता नहीं है। इस तरह का छिड़काव गंदगी और मलबे में मिलकर निष्प्रभावी हो जाता है। साथ ही सभी जगह पर्याप्त रूप से नहीं पहुंचने से संक्रमण बढ़ने की और भी ज्यादा संभावना होती है। 

किसी के ऊपर भी छिड़काव न करें
डब्ल्यूएचओ ने साफ कहा है कि किसी भी स्थिति में लोगों के ऊपर किसी भी तरह का कीटाणुनाशक का छिड़काव नहीं किया जाए। क्लोरिन और दूसरे जहरीले केमिकल का छिड़काव करने से आंखों में जलन और सांस लेने में परेशानी हो सकती है। 

घर के अंदर भी न छिड़कें
संगठन ने घरों के अंदर भी किसी रसायन का छिड़काव करने पर आपत्ति जताई है। एजेंसी ने एक शोध का हवाला देते हुए कहा कि इससे संक्रमण कम होने का कोई संबंध नहीं है। अगर कीटाणुनाशक का इस्तेमाल करना ही है तो उसमें कपड़े को भिगोकर सतह को साफ किया जा सकता है। बता दें कि कोरोना वायरस अलग-अलग सतह पर अलग-अलग समय तक रहता है। इसलिए सबसे बेहतर है कि इससे बचने के लिए सफाई करते रहें।

डब्ल्यूएचओ की सलाह
-शरीर पर रसायन का छिड़काव शारीरिक और मानसिक रूप से नुकसान पहुंचा सकता है।
- क्लोरीन के छिड़काव से आंखों और त्वचा में जलन, उल्टी-दस्त जैसी समस्या हो सकती है।
-सोडियम हाइपोक्लोराइट के छिड़काव से नाक-गले के श्वसन पथ में दिक्कत और जलन संभव।
-कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति पर भी इस तरह का छिड़काव नहीं किया जा सकता।
-कोरोना वायर शरीर के अंदर रहता है बाहरी हिस्से पर छिड़काव करने से वह नहीं मरता।
-अधिकारियों को इस तरह का कोई भी छिड़काव बाजार या सड़क कहीं नहीं कराना चाहिए।

संबंधित खबरें