Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़Which people are more prone to vitamin D deficiency

विटामिन डी की कमी किन लोगों को ज्यादा होती है और इससे कौन-सी बीमारियों का खतरा बढ़ता है

विटामिन डी के कोई विशिष्ट लक्षण नहीं होते हैं, इसलिए इसकी कमी पर अक्सर किसी का ध्यान नहीं जाता है। लोगों को इस आवश्यक विटामिन की कमी का एहसास तब तक नहीं होता जब तक कि बहुत देर न हो जाए।

Pratima Jaiswal लाइव हिन्दुस्तान टीम, नई दिल्लीSat, 6 Aug 2022 12:52 PM
हमें फॉलो करें

विटामिन डी एक वसा में घुलनशील विटामिन है, जो जैविक कार्यों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। विटामिन डी शरीर को कैल्शियम, फास्फोरस और मैग्नीशियम जैसे आवश्यक खनिजों को अवशोषित करने में मदद करता है। सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने पर त्वचा द्वारा विटामिन डी बनाती है। बहुत से लोग ऐसी जगहों पर रहते हैं, जहां धूप कम होती है, कई बार काम की प्रकृति और जीवनशैली के कारण भी लोग धूप में नहीं जा पाते हैं। 

विटामिन डी की कमी से क्या होता है? 
कैल्शियम हड्डी को मजबूत करता है, इसलिए जब आपके शरीर में पर्याप्त विटामिन डी नहीं होता है तो इससे हड्डियों का नुकसान हो सकता है।बच्चों में, विटामिन डी की कमी से रिकेट्स हो सकता है, जिसमें वे नरम हड्डियों का विकास करते हैं, जो उनमें कंकाल की संरचना को खराब करते हैं। वयस्कों में, यह ऑस्टियोमलेशिया नामक स्थिति को जन्म दे सकता है जिसमें हड्डियां नरम हो जाती हैं।

 

विटामिन डी की कमी होने के लक्षण 
विटामिन डी की कमी से जुड़े कई लक्षण हैं, जिनमें थकान, जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में कमजोरी, मूड में बदलाव। विटामिन डी की कमी से भी सिर दर्द होता है। विटामिन डी के कोई विशिष्ट लक्षण नहीं होते हैं, इसलिए इसकी कमी पर अक्सर किसी का ध्यान नहीं जाता है। लोगों को इस आवश्यक विटामिन की कमी का एहसास तब तक नहीं होता जब तक कि बहुत देर न हो जाए, इसलिए अगर आपको लगता है कि आपको पर्याप्त धूप नहीं मिल रही है, तो विटामिन डी लेवल को चेक कराना चाहिए।

 

विटामिन डी की कमी से होने वाली बीमारियां
विटामिन डी को बड़े पैमाने पर मस्तिष्क स्वास्थ्य से जोड़ा गया है। मस्तिष्क के कामकाज में इसका योगदान एक कारण है कि इसकी कमी से रोजाना का काम प्रभावित होता है। विटामिन डी की कमी को न्यूरोलॉजिकल रोगों और न्यूरोसाइकोलॉजिकल विकारों, न्यूरोडीजेनेरेटिव जैसी बीमारियों से जोड़ा गया है। शोध अध्ययनों ने एक न्यूरोस्टेरॉइड के रूप में विटामिन डी के कार्य की पुष्टि की है जो मस्तिष्क के सामान्य कामकाज के लिए महत्वपूर्ण है। इस विटामिन की कमी से मल्टीपल स्केलेरोसिस, अल्जाइमर रोग, पार्किंसंस रोग और तंत्रिका संबंधी विकार जैसी न्यूरोडीजेनेरेटिव स्थितियां हो सकती हैं। अध्ययनों ने विटामिन डी को स्ट्रेस से भी जोड़ा है।

 

किन लोगों को होती है विटामिन डी की कमी
दवाओं और सप्लीमेंट्स की व्यापक उपलब्धता के बावजूद, कुछ ऐसे लोग हैं जिन्हें विटामिन डी की कमी का खतरा अधिक होता है। जिन लोगों को आंतों की समस्या है जैसे अल्सरेटिव कोलाइटिस, क्रोहन रोग, जहां वसा का सामान्य पाचन भी एक समस्या होती है। मोटे लोगों के रक्त में विटामिन डी का स्तर कम होता है। जिन लोगों की गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी हुई है, जहां छोटी आंत के ऊपरी हिस्से को ज्यादातर हटा दिया जाता है, उन्हें विटामिन डी को अवशोषित करने में कठिनाई होती है। जिन लोगों को आसानी से दूध नहीं पचता, उन्हें भी विटामिन डी की कमी हो सकती है।

 

ऐप पर पढ़ें