DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  वजन कम करना हुआ आसान, जानें थाली में कितनी होनी चाहिए रोटी-चावल

जीवन शैलीवजन कम करना हुआ आसान, जानें थाली में कितनी होनी चाहिए रोटी-चावल

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Manju
Mon, 24 Feb 2020 09:33 PM
वजन कम करना हुआ आसान, जानें थाली में कितनी होनी चाहिए रोटी-चावल

आज खराब लाइफस्टाइल और खानपान की गलत आदतों की वजह से हर दूसरा व्यक्ति बढ़ते वजन या फिर मोटापे से परेशान है। ऐसे में कई लोग मोटापा कम करने के लिए अपना खाना इतना कम कर देते हैं कि उनके शरीर को पर्याप्त मात्रा में आवश्यक पोषण नहीं मिल पाते हैं। जिसकी वजह से शरीर में कमजोरी आने लगती है। ऐसे में अगर आप भी उन लोगों की लिस्ट में शामिल हैं जो वजन कंट्रोल करने के लिए रोटी और चावल कितना खाएं जैसे सवालों को लेकर असमंजस में रहते हैं तो अब टेंशन छोड़ दें। 

दरअसल, भारतीयों के भोजन की थाली में प्रोटीन की मात्रा कम और कार्ब ज्यादा पाया जाता है। लेकिन जो व्यक्ति अपना मोटापा कम करना चाहता हो उसे अपने भोजन में कार्ब युक्त आहार से तौबा करनी चाहिए। आइए जानते हैं वजन घटाने के लिए आखिर थाली में कितनी मात्रा में कार्ब के साथ  रोटी और चावल की मात्रा होनी चाहिए। 

रोटी में पोषण की मात्रा-
रोटी में कार्ब के अलावा कई तरह के माइक्रो न्यूट्रीएंट्स, प्रोटीन और फाइबर मौजूद होते हैं। यही वजह है कि कई बार लोग रोटी को बिना चलनी से चाले हुए आटे से गूंथना पसंद करते हैं। ऐसा इसलिए ताकि आटे में मौजूद फाइबर इसमें से ना निकल जाएं। अगर एक चपाती के कैलोरी काउंट की बात की जाए तो इसमें करीब 15 ग्राम कार्ब्स, 3 ग्राम प्रोटीन, 0.4 ग्राम वसा और 71 कैलोरी पायी जाती है।

चावल में पोषण की मात्रा-
एक तिहाई कटोरी पके हुए चावल में करीब 80 कैलोरी पाई जाती है। अगर कार्ब की बात करें तो इसमें 18 ग्राम कार्ब, 1 ग्राम प्रोटीन 0.1 ग्राम फैट होता है।

वजन कम करने के लिए रोटी और चावल में क्या है बेहतर विकल्प-
फोलेट पानी में घुलनशील एक ऐसा विटामिन है जो कि बॉडी में नई सेल के निर्माण,डीएनए को बनाने के लिए जिम्मेदार होता है। खास बात यह है कि इसमें प्रचुर मात्रा में आयरन भी पाया जाता है। अगर चावल और रोटी की तुलना की जाए तो रोटी में फास्फोरस और मैग्नीशियम चावल की अपेक्षा ज्यादा मात्रा में पाया जाता है। मैग्नीशियम जहां ब्लड प्रेशर और ब्लड में शुगर के लेवल को मेन्टेन करता है तो वहीं फास्फोरस से रेड ब्लड सेल्स और आयरन की कमी पूरी होती है। 

संबंधित खबरें