फोटो गैलरी

Hindi News लाइफस्टाइलघास पर नंगे पैर चलने से होगा सेहत में सुधार, ये फायदे हैं सबूत

घास पर नंगे पैर चलने से होगा सेहत में सुधार, ये फायदे हैं सबूत

कुछ मानसिक और शारीरिक आराम पाने के लिए या अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रकृति का मजा लेना चाहिए। ऐसे में नंगे पैर घास पर चलें। जूते के बिना घास पर नंगे पैर चलने से आपके स्वास्थ्य को कई सारे लाभ होते हैं।

घास पर नंगे पैर चलने से होगा सेहत में सुधार, ये फायदे हैं सबूत
लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 11 Apr 2022 05:54 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

बड़े-बूढ़े हमेशा घास पर नंगे पैर चलने की सलाह देते हैं। ये सलाह बेहद फायदेमंद है। इससे आंखों की रोशनी और तेज होती है। अगर अब तक आपने इस देसी नुस्खा का पालन नहीं किया है, तो इस बारे में अब सोचने की जरूरत है। प्राकृतिक चिकित्सा के अनुसार हर चीज की अपनी ऊर्जा होती है। कई रिसर्च में दावा किया गया है कि आज के समय में लोगों का स्वास्थ्य बेहद निचले स्तर पर है क्योंकि वे पर्यावरण और पृथ्वी से कम जुड़े हैं। इसे शुरू करने का कोई सही समय नहीं। आप जब चाहें तब अपनी हेल्थ के लिए ये नुस्खा अपना सकते हैं। इसमें आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए प्रकृति और उसके गुणों का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा जब आप नंगे पैर चलते हैं तो आपके तलवों पर दबाव बनता है और ये आपके अंगों के फंक्शन को रेग्यूलेट करता है।

नींद न आना
यदि आप ठीक से सो नहीं पा रहे हैं तो नींद की गोलियां लेने की बजाय पार्क में टहलने की कोशिश करें। आप पहले दिन से ही अपने सोने के तरीके में काफी अंतर देखेंगे। सोने के पैटर्न में सुधार करने के लिए, हर सुबह लगभग 30 मिनट के लिए घास पर नंगे पैर चलें।

सूजन में कमी
घास पर नंगे पैर चलने से आपके अंगों के कामकाज को बढ़ावा मिलता है। यह कई गुना हो सकता है। ये रिफ्लेक्सोलॉजी के कारण है। साथ ही आपको सुबह की धूप से विटामिन डी मिलती है जो अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के लिए जाना जाता है। इससे शरीर के अंगों में सूजन कम होती है।

मानसिक स्वास्थ्य बेहतर
पार्क में टहलने के मनोवैज्ञानिक लाभ भी हैं। यदि आप इसे नंगे पैर करते हैं, तो इसके लाभ कई गुना बढ़ जाते हैं। 

स्वस्थ दिल
घास पर नंगे पैर चलने से आपके दिल की धड़कन को सिंक्रनाइज़ करने में मदद मिलती है। शरीर के तापमान को नियंत्रित करने से लेकर हार्मोन तक सब कुछ इस पर निर्भर करता है। दिल का स्वास्थ्य भी नियंत्रण में रहता है, क्योंकि शरीर के अन्य अंग अच्छी तरह से काम करते हैं।

आंखों के लिए बहुत अच्छा
जब हम चलते हैं, तो हम अपने पैर की दूसरी और तीसरी अंगुली पर सबसे ज्यादा दबाव डालते हैं। इन दोनों में अधिकतम तंत्रिकाओं के आखिर छोर होते हैं, जो आपकी आंखों की रोशनी को लाभ पहुंचाते हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें